Tuesday , September 29 2020
Breaking News
Home / धर्म / व्रत के दौरान पीरियड्स आने पर सिर्फ ये काम करें, आपको पूरा फल मिलेगा

व्रत के दौरान पीरियड्स आने पर सिर्फ ये काम करें, आपको पूरा फल मिलेगा

भारत जैसे देश में लोग पीरियड्स के बारे में खुलेआम बात नहीं करते हैं.महिलाओं पर इस दौरान कई तरह के प्रतिबंध होते हैं| कई राज्यों में महिलाओं को इस दौरान अलग कमरे में रखा जाता है. यहां तक कि ठंड के दौरान पीरियड्स के दिनों में उन्हें गौशाला तक में सुलाया जाता है. इस दौरान किसी भी तरह के पूजा पाठ की गतिविधियों में उनका भाग लेना वर्जित होता है| वैसे तो आज हम 21वीं सदी में जी रहे हैं लेकिन आज भी हम पुराने रीति-रिवाज़ों का पूरा निष्‍ठा से पालन करते हैं।हमारे विचार सदियों बाद भी हमारे समाज के अनुरूप हैं। हम आज भी ऐसे कई अंधविश्‍वासों को मानते हैं जिनके कारण स्‍त्री को बहुत कष्‍टों का सामना करना पड़ता है।

प्राचीन कथा के अनुसार मह‌िलाओं के लिए मासिक धर्म का नियम भगवान शिव ने देवी पार्वती के कहने पर बनाया था। साथ ही कुछ नियम भी निर्धारित किए थे, जिनका अनुसरण वो उन दिनों के दौरान कर सकें। मनुस्मृत‌ि और भव‌िष्य पुराण में भी इन नियमों का उल्लेख मिलता है। मासिक धर्म के चौथे दिन महिलाएं स्नान के बाद शुद्ध होती हैं।इसके अलावा यदि किसी महिला को व्रत  के दौरान ही पीरियड आ जाये तो इसके लिए क्या किया जाये कैसे पूजा पूरी की जाये |

आज हम आपको इसी बारे में कुछ जानकारी देने जा रहे है |कई बार ऐसा हो जाता है की हम उपवास या किसी धार्मिक पर्व के दौरान ही महिलाओं को पीरियड आ जाता है तो ऐसे में ये जरूरी नहीं की वो अपना उपवास तोड़ दे सिर्फ इसीलिए की वे अपवित्र हो गयी है बल्कि इसके लिए भी कुछ नियम बनाये गये है जिनका पालन करके महिलाएं पीरियड के दौरान भी अपना पूजा पाठ सम्पन्न कर सकती है |इसके लिए आप अपने उपवास के दैरान सब कुछ  सामान्य तरीके से ही कीजिये केवल इस चीज का ध्यान रखें की पूजा पाठ से दूरी बनाकर रखें और मन से और आस्था के साथ अपने इश्वर की भक्ति करें|

ऐसा करने से आपको आपके उपवास का पूरा फल प्राप्त होगा क्योंकि हम सभी ईश्‍वर की रचना हैं और जो भी हमारे शरीर के अंदर बदलाव होत हैं वो सब भगवान की ही देन हैं। महिलाओं की माहवारी भी प्रकृति की देन है। अगर महिला के अंदर यह क्रिया नहीं होती तो शायद वह कभी मां नहीं बन पाती है। किसी स्‍त्री का मां बनना उसके मासिक धर्म से ही जुड़ा होता है। अब आप ही बताइए जो चीज़ खुद भगवान ने हमें दी है उसी से हम कैसे अपवित्र हो जाते हैं और ईश्‍वर की आराधना नहीं कर सकते हैं।

loading...
loading...

Check Also

बड़े ज्योतिषाचार्य की महा-भविष्यवाणी- ग्रहों में हो रहा सार्वभौमिक परिवर्तन, कोरोना होगा खत्म!

मेरठ। ग्रहों की चाल में सार्वभौमिक परिवर्तन होने से महामारी का रूप ले चुकी बीमारी ...