Sunday , September 20 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / शिवसेना का कंगना पर फिर हमला, अब पूछा- ‘तू-तड़ाक भाषा’ वाली, ये कैसी एकतरफा आजादी?

शिवसेना का कंगना पर फिर हमला, अब पूछा- ‘तू-तड़ाक भाषा’ वाली, ये कैसी एकतरफा आजादी?

यह दावा करते हुए कि ‘बाहरी’ लोग मुंबई को बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं, शिवसेना ने अपने संपादकीय सामना के माध्यम से कंगना रनौत के कार्यालय पर बीएमसी की कार्रवाई को ‘सही’ ठहराया है और कहा है कि ये शर्मनाक है कि बीजेपी उस अभिनेत्री का समर्थन कर रही है, जिसने मुंबई की तुलना ‘पाकिस्तान’ से की है। शिवसेना की यह टिप्पणी उस वक्त आई है जब कुछ दिन पहले ही BMC ने रनौत के मुंबई स्थित ऑफिस पर तोड़फोड़ की थी, लेकिन उसी दिन ही राज्य के हाई कोर्ट ने इस कार्रवाई पर रोक लगा दी थी।

शिवसेना ने आगे कहा कि मुंबई की तुलना पाकिस्तान से करने वालों और सीएम उद्धव ठाकरे के लिए ‘तू’ जैसे शब्दों से संबोधित करने वालों के खिलाफ आवाज उठाई जानी चाहिए।

सामाना के संपादकीय में कहा गया है कि संपूर्ण नहीं, कम-से-कम आधे हिंदी फिल्म जगत को तो मुंबई के अपमान के विरोध में आगे आना ही चाहिए था। कंगना का मत पूरे फिल्म जगत का मत नहीं है, ऐसा कहना चाहिए था। कम-से-कम अक्षय कुमार आदि बड़े कलाकारों को तो सामने आना ही चाहिए था। मुंबई ने उन्हें भी दिया ही है। मुंबई ने हर किसी को दिया है लेकिन मुंबई के संदर्भ में आभार व्यक्त करने में कइयों को तकलीफ़ होती है।

‘सामना’ से लगातार वार!

इससे पहले शनिवार को शिवसेना के मुखपत्र सामना ने कहा है कि ‘मुंबई पाक अधिकृत कश्मीर है की नही’? यह विवाद जिसने पैदा किया, उसी को मुबारक। बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद का बचाव करते हुए शिवसेना के मुखपत्र ने कहा है कि यह नया नहीं है और पुराने समय में भी इसका वर्चस्व रहा है। शिवसेना ने आगे कहा कि परिवारवाद का वर्चस्व उस समय भी था जब कपूर , रोशन ,दत्त ,शान्ताराम जैसे खानदान थे। जब उनसे अगली पीढ़ी आई है फिर जिन लोगों ने अच्छा काम किया वे टिके।

Check Also

School Reopen : यूपी में कल सुबह स्कूल-कॉलेज खुलेंगे या नहीं, आ गया योगी का फैसला

लखनऊ कोरोना महामारी के चलते उत्तर प्रदेश में कल यानी कि सोमवार से स्कूल-कॉलेज नहीं ...