Wednesday , November 25 2020
Breaking News
Home / क्राइम / सड़क ‘हादसे’ में TV पत्रकार की मौत पर सवाल, चैनल के संपादक ने हत्या की आशंका जताई

सड़क ‘हादसे’ में TV पत्रकार की मौत पर सवाल, चैनल के संपादक ने हत्या की आशंका जताई

असम में एक स्थानीय टेलीविजन चैनल के पत्रकार की गुरुवार को मौत हो गई, जिनको राज्य के तिनसुकिया जिले में बुधवार रात एक वाहन ने टक्कर मार दी थी। पत्रकार के नियोक्ताओं ने हत्या का आरोप लगाया और कहा कि उनकी हत्या इसलिए की गई क्योंकि उन्होंने अपने क्षेत्र में भ्रष्टाचार एवं अवैध गतिविधियों को उजागर किया था।

सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, पत्रकार की मौत पर शोक जताते हुए असम के मुख्यमंत्री और गृह विभाग के प्रभारी सर्बानंद सोनोवाल ने मामले की जांच सीआईडी को सौंप दी है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुख्यमंत्री ने पत्रकार की मौत से जुड़ी परिस्थितियों की विस्तार से जांच करने का निर्देश सीआईडी को दिया है।

पुलिस ने बताया कि ‘प्रतिदिन टाइम’ चैनल के काकोपथार के वरिष्ठ संवाददाता पराग भुइयां को बुधवार रात एक वाहन ने उनके घर के पास राष्ट्रीय राजमार्ग 15 पर टक्कर मार दी थी। पराग भुइयां की डिब्रूगढ़ के एक नर्सिंग होम में गुरुवार सुबह मौत हो गई जहां उन्हें एक स्थानीय चिकित्सकीय इकाई द्वारा रेफर किया गया था।

पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि वाहन की सीसीटीवी फुटेज से पहचान कर ली गई है और उसके चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है जो फरार हो गया था। प्रवक्ता ने बताया कि साथ ही इस मामले में एक अन्य व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया गया है। यह गिरफ्तारी असम पुलिस द्वारा अरुणाचल पुलिस को इस संबंध में अलर्ट किए जाने के बाद हुई।

असम पुलिस ने बताया कि इस मामले में दोनों व्यक्तियों से पूछताछ की जा रही है और घटना की जांच की जा रही है। पुलिस ने बताया कि वाहन अरुणाचल प्रदेश की एक महिला का है और इसका इस्तेमाल उसके पुत्र द्वारा चाय पत्ती के परिवहन के लिए किया जाता है।

इस मामले में कांग्रेस ने भी गंभीर साजिश का आरोप लगाते हुए सीबीआई जांच की मांग की है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और असम कांग्रेस के प्रभारी जितेंद्र सिंह ने पत्रकार पराग भुइयां के निधन पर गहरा दुख प्रकट करते हुए परिवार के प्रति संवेदना जताते हुए कहा कि इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए, क्योंकि वह लोकतंत्र के मूल्यों की रक्षा करते हुए मारे गए हैं।

जितेंद्र सिंह ने आरोप लगाया कि पराग भुइयां सीएम सर्बानंद सोनोवाल के करीबी भाजपा नेता द्वारा एक सब-इंस्पेक्टर को थप्पड़ मारकर एक आरोपी को काकोपोथर थाने से बलपूर्वक छुड़ा कर ले जाने की घटना को उजागर कर रहे थे। ऐसे में क्या हम असम पुलिस से न्याय की उम्मीद कर सकते हैं?

वहीं टीवी चैनल के प्रधान संपादक नितुमोनी सैकिया ने एक बयान जारी कर आरोप लगाया कि, ‘‘पुलिस का प्रारंभिक दृष्टिकोण संदेह का कारण है।” उन्होंने कहा, ‘‘…हमें संदेह है कि पत्रकार की हत्या की गई है क्योंकि वह काकोपथार के आसपास अवैध गतिविधियों और भ्रष्टाचार को उजागर करने वाली रिपोर्टिंग की एक श्रृंखला चला रहे थे।’’

सैकिया ने कहा कि इन खबरों के लिए उन्हें धमकी मिली थी। उन्होंने कहा, ‘‘हम ‘प्रतिदिन टाइम’ में इसे एक संदिग्ध सुनियोजित हत्या के तौर पर देखते हैं और पूरी घटना की विस्तृत जांच और भुइयां के परिवार और ‘प्रतिदिन टाइम’ के लिए न्याय की मांग करते हैं।’’

loading...
loading...

Check Also

शादी-बारात में अगर मीठा खाने का रखते हैं शौक, तो ये खबर आप जरूर पढ़ लें!

साल के सबसे बड़े सावे यानि आज देवउठनी एकादशी से ठीक पहले जयपुर में एक ...