Wednesday , October 28 2020
Breaking News
Home / क्राइम / पटना वाला साइको किलर : पिता की हत्या के बाद किया पहला मर्डर, पकड़े जाने पर पुलिस को दिया ऐसा ऑफर

पटना वाला साइको किलर : पिता की हत्या के बाद किया पहला मर्डर, पकड़े जाने पर पुलिस को दिया ऐसा ऑफर

पटना पुलिस की टीम ने जब साइकाे सीरियल किलर कंकड़बाग निवासी अविनाश श्रीवास्तव उर्फ अमित काे रक्साैल स्थित एक हाेटल से गिरफ्तार किया ताे उसने छाेड़ने के लिए पुलिस काे 5 कराेड़ का ऑफर दिया था। कहा था, एक घंटा दे दें, पांच कराेड़ पेमेंट कर देंगे पर पुलिस पर इसका असर नहीं पड़ा। हत्या के 20 केस का आरोपी अमित मां के साथ नेपाल भागने के लिए हाेटल में ठहरा हुआ था। इसी बीच बुधवार की देर रात पुलिस ने छापेमारी कर दी।

अमित हाल ही हाजीपुर जेल से छूटा था। वह दिल्ली के जामिया मिल्लिया से एमसीए कर चुका है। यही नहीं उसने इंफाेसिस में नाैकरी भी की है। फर्राटेदार अंग्रेजी बाेलता है। वह किताब भी लिख चुका है। एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि खाजेकलां थाना इलाके में भी अमित ने हत्या व लूट की वारदात काे अंजाम दिया था। पटना पुलिस उसे गिरफ्तार कर ले आई है। पुलिस उससे पूछताछ करने में जुटी है। अमित के पिता लाला ललन श्रीवास्तव राजद के पूर्व एमएलसी थे। ललन की हत्या 2002 में हाजीपुर में हुई थी।

पिता की हत्या के बाद अपराध की दुनिया में रखा कदम

पढ़ाई के बाद अमित दिल्ली में ही नौकरी करने लगा। उसे 40 हजार मिलते थे लेकिन उसके पिता ने अमित को पटना आकर बिजनेस करने काे कहा था। पिता के कहने पर वह पटना आया लेकिन अमित के पिता ने जिन लोगों के साथ मिलकर बिजनेस प्लान किया था, उन्हीं लोगों ने उसके पिता की हाजीपुर में हत्या कर दी। इसके बाद अपराध की दुनिया में उतर गया। अमित, अपराध जगत में साइकाे किलर के नाम से जाना जाता है। उसे ब्रस्ट फायर करने में महारत हासिल है। सूत्राें के अनुसार, पटना नगर निगम की पूर्व डिप्टी मेयर अमरावती देवी के पति दीना गाेप की हत्या में भी अमित शामिल था। दीना गाेप की हत्या पिछले साल 12 मई काे उसके घर के पास ही बल्लमीचक में एके 47 से हुई थी। इसके अलावा अमित का नाम अधिवक्ता सरदारजी, अजीत गोप, चनारिक गोप, इम्तियाज, आभूषण काराेबारी मनोज सोनार, राहुल यादव, कैप्टन सुनील के भाई, विजय गोप, अजय गोप, लालू गोप, अजीत गोप समेत अन्य की हत्या में शामिल रहा है।

पिता के हत्यारे काे मारी थी 32 गाेली

सूत्राें के अनुसार, वर्ष 2003 में अविनाश ने अपने पिता के हत्या के आरोपी मोइन खां उर्फ पप्पू खां को हाजीपुर में 32 गाेलियां मारी थी। उसके बाद से ही वह साइकाे किलर के नाम से जाना जाने लगा। यही नहीं हाजीपुर में ही उसने एक की हत्या की। वह उसके लाश पर दाे घंटे बैठा रहा और लगातार लाश पर गाेलियां चलाता रहा।

2016 में जब पुलिस ने पकड़ा था ताे उसने कहा था गूगल में सर्च करें साइकाे किलर अमित

पुलिस से बचने के लिए उसे मां लेकर सिलीगुड़ी लेकर चली गई थी। बाद में फिर वह बिहार लाैट गया। 2016 में हाजीपुर पुलिस ने उसे एक बैंक में चाेरी करने के दाैरान पकड़ा था। पुलिस ने जब उससे पूछताछ की थी ताे उसने कहा कि गूगल में साइकाे किलर सर्च करें। पुलिस ने सर्च किया ताे दंग रह गई। उसने पुलिस की पूछताछ में यह भी दावा किया था कि फिल्म गैंग ऑफ वासेपुर में उसके ब्रस्ट फायर वाले क्लाइमेक्स का नकल किया गया है।

loading...
loading...

Check Also

..तो जिंदा होती निकिता : पहली बार किडनैपिंग के बाद तौसीफ को छूट देना बन गया बेटी की मौत का कारण

फरीदाबाद. पहली बार बेटी के अपहरण के बाद निकिता के पिता मूलचंद तोमर का मुख्य ...