Friday , February 26 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / सिर्फ 500 रुपये के निवेश से भी कर सकते हैं अपने पैसों को कई गुना, अपनाएं ये तरीका

सिर्फ 500 रुपये के निवेश से भी कर सकते हैं अपने पैसों को कई गुना, अपनाएं ये तरीका

SIP Mutual Funds: कोरोना महामारी ने हमें बचत (aving Plans) की अहमियत बता दी है. जरूरत में केवल बचत ही काम आती है. जरूरी नहीं कि बड़ी बचत ही आपके काम आती है, छोटी-छोटी बचत से भी बड़े सपनों को पूरा किया जा सकता है. इसलिए बचत पर ध्यान दें और छोटी-छोटी बचत करना शुरू करें.

यहां हम कुछ ऐसे इन्वेस्टमेंट प्लान (best investment plans) के बारे में चर्चा कर रहे हैं, जिनकी मदद से आप महज 500 रुपये महीने की बचत से अपने पैसे को डबल या ट्रिपल कर सकते हैं.

 

छोटी बचत से पूरे करें बड़े सपने (small savings schemes)
छोटे इन्वेस्टमेंट प्लान में सबसे पहले नाम आता है एसआईपी (SIP) के बारे में.  सिस्‍टमेटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान यानी SIP इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स में निवेश करने का सबसे बेहतरीन तरीका है. SIP में आप हर महीने 500 रुपये के छोटे निवेश से भी शुरुआत कर सकते हैं.

एसआईपी है बेहतर (SIP Investment Plan)
एसआईपी के जरिए म्‍यूचुअल फंड में निवेश करने से लॉन्ग टर्म में आपको बेहतर रिटर्न मिलने उम्मीद रहती है. सिप के जरिए निवेश करने से बाजार के उतार-चढ़ाव से जुड़ा जोखिम काफी कम होता है. जब बाजार में तेजी होती है तो आपको कम यूनिट अलॉट किए जाते हैं और जब बाजार में गिरावट आती है तो आपके निवेश की उतनी ही रकम में ज्‍यादा यूनिट मिल जाती हैं.

 

नियमित निवेश (regular investment)
निवेश के लिए जरूरी है नियमितता. और एसआईपी के जरीए आप अपने निवेश में नियमितता बनाकर रख सकते हैं. आप अपनी सुविधा के मुताबिक, निवेश की तारीख तय कर सकते हैं. एसआईपी की मदद से आपको नियमित निवेश की आदत पड़ जाती है.

अगर आप वेतनभोगी हैं और हर महीने कुछ कम ही रुपये बचा पाते हैं, तो आपके लिए एसआईपी एक बेहतरीन रणनीति है. हर महीने कुछ हजार रुपये आपके खाते से कटते जाते हैं और लंबी अवधि में इससे अच्छी-खासी पूंजी इकट्ठी होती है.

अच्छा रिटर्न (SIP Investment Return)
अगर किसी समय किसी म्यूचुअल फंड का नेट असेट वैल्यू (Net Asset Value-NAV) ज्यादा होता है तो उस समय आपको निवेश पर कम यूनिट्स मिलेंगी, लेकिन अगर उस समय फंड का एनएवी कम है तो उतनी ही राशि में ज्यादा यूनिट्स मिलती हैं. इस तरह सिप की मदद से आपका निवेश औसत भाव पर होता जाता है.

कंपाउंडिंग का फायदा (compounding interest rate )
एसआईपी का सबसे बेहतरीन पहलू यह है कि इससे कंपाउंडिंग का फायदा मिलता है. यानी आपको हर महीने मिलने वाले रिटर्न पर भी रिटर्न मिलता रहता है. इसकी वजह से आपकी पूंजी काफी तेजी से बढ़ती है.

फाइनेंशियल टारगेट (Financial Goals and Strategic)
एसआईपी को आप अपने फाइनेंशियल टारगेट्स से जोड़ सकते हैं, जैसे मकान खरीदना, बच्चों की पढ़ाई के लिए फंड जुटाना, रिटायरमेंट के बाद के लिए पैसे जुटाना आदि. हर चीज का टारगेट तय करें और फिर उस टारगेट के लिए कितना पैसा चाहिए, इसका अंदाजा लगाएं. फिर उस हिसाब से निवेश तय होना चाहिए.

टारगेट के हिसाब से निवेश (SIP Mutual Funds)
अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे के विवाह पर 10 लाख रुपये का खर्च आएगा और आप अब से 15 साल बाद उसकी शादी करने की प्लानिंग कर रहे हैं, तो आपको 30 लाख रुपये इस काम के लिए जुटाने होंगे. महंगाई आठ फीसदी सालाना की दर से बढ़ती रहेगी. 15 साल में 30 लाख रुपये चाहिए तो आपको हर महीने तकरीबन 6500 रुपये बचाने होंगे. अगर उस पर 12 फीसदी की दर से रिटर्न मिले. पहले कम अमाउंट से शुरू करें और बाद में थोड़ा-थोड़ा करके अमाउंट बढ़ाते रहें. हर साल आमदनी बढ़ने के साथ एसआईपी का अमाउंट भी बढ़ाएं.

loading...
loading...

Check Also

देवरिया SP की पुलिसकर्मियों को चेतावनी-फोन में बजा ‘फिल्मी’ रिंगटोन तो खैर नहीं..

उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के पुलिस अधीक्षक श्रीपति मिश्रा ने फोन पर फिल्मी रिंगटोन ...