Thursday , January 21 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / लाखों श्रमिकों को योगी सरकार का तोहफा, यूपी के स्थापना दिवस पर देगी 12 हजार रुपए

लाखों श्रमिकों को योगी सरकार का तोहफा, यूपी के स्थापना दिवस पर देगी 12 हजार रुपए

लखनऊ. योगी आदित्यनाथ सरकार उत्तर प्रदेश के स्थापना दिवस पर श्रमिकों को बड़ा तोहफा देने की तैयारी कर रही है। प्रदेश सरकार यूपी में 6.5 लाख व्यावसायिक प्रतिष्ठानों और 20,500 कारखानों और कार्यशालाओं में काम कर रहे श्रमिकों को धार्मिक यात्रा कराने के लिए 12 हजार रुपये देगी। यह प्रक्रिया 24 जनवरी से शुरू होगी। 24 जनवरी को ही राज्य का स्थापना दिवस भी होता है। विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के अंतर्गत श्रमिकों की इस यात्रा के लिए राज्य के श्रम कल्याण बोर्ड ने डेढ़ करोड़ श्रमिकों से आवेदन आमंत्रित किये हैं। नये साल पर आई सरकार की इस योजना का उद्देश्य श्रमिकों की यात्राओं का वित्तपोषण करना है। इस योजना के तहत श्रमिकों को धार्मिक और ऐतिहासिक स्थलों पर जाने के लिए 12 हजार रुपये की नकद राशि प्रदान की जाएगी।

यहां की होगी यात्रा

यूपी के श्रम राज्य मंत्री सुनील भराला के मुताबिक बोर्ड ने यात्रा के लिए धार्मिक नगरी अयोध्या, मथुरा, प्रयागराज और वाराणसी, मेरठ के हस्तिनापुर, गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर, शाकुंभरी देवी और विंध्यवासिनी देवी के मंदिरों की पहचान की है। आगरा की यात्रा को लेकर भी विचार विमर्श चल रहा है। इनके अलावा कुछ और जगहें भी यात्रा में शामिल हो सकताी है। इस योजना की परिकल्पना आरएसएस के विचारक दत्तोपंत ठेंगडी की जयंती यानी 10 नवंबर को की गई थी। जिन्होंने भारतीय मजदूर संघ नाम के मजदूर संगठन की स्थापना की। यह संगठन शुरू से ही श्रम नीतियों को लागू करने का समर्थक रहा है।

सीधे खाते में पहुंचेंगे 12 हजार रुपये

सुनील भराला ने बताया कि इस यात्रा के लिए जो श्रमिक चयनित हो जाते हैं, उन लाभार्थियों के खातों में हमने सीधे 12 हजार रुपये स्थानांतरित करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद के नाम पर बनी यह योजना अपने आप में पहली ऐसी योजना है, जिसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि मजदूर न केवल अपने दैनिक जीवन से समय निकाल सकें, बल्कि देश की समृद्ध सांस्कृतिक और धार्मिक विरासत से भी परिचित हो सकें। भारला ने कहा कि पूरे देश में कहीं भी ऐसी कोई योजना नहीं है, जिसमें मजदूरों को धार्मिक यात्रा कराई जाती हो। राज्य के श्रम कल्याण बोर्ड ने सभी सांसदों को पत्र लिखकर इस योजना को मजदूरों के बीच लोकप्रिय बनाने में मदद मांगी है।

यूपी में ये भी योजनाएं

श्रम राज्य मंत्री ने कहा कि हमारे पास समाज सुधारक और दलित आइकन ज्योतिबा फुले के नाम पर मजदूरों की बेटियों की शादी की योजना है। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर एक और योजना है, जिसका उद्देश्य मजदूरों के बच्चों को तकनीकी शिक्षा उपलब्ध कराना है। स्वतंत्रता सेनानी और पत्रकार गणेश शंकर विद्यार्थी के नाम पर प्रोत्साहन योजना, राजा हरिश्चंद्र के नाम पर मजदूरों के परिजनों को वित्तीय मुआवजा देने की योजना है। दत्तोपंत ठेंगडी के नाम पर भी एक योजना है, जिसमें मजदूरों के अंतिम संस्कार को पूरा करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

शुरू होंगी तीन योजनाएं

2021 से श्रम विभाग तीन और योजनाओं की शुरुआत करेगा। जिनमें स्वामी विवेकानंद के नाम पर धार्मिक यात्रा के साथ ही खेल गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए भारत के पूर्व क्रिकेटर और यूपी के मंत्री स्वर्गीय चेतन चौहान के नाम से योजना शुरू की जाएगी। वहीं गरीबों के लिए किताबो को खरीदने के लिए प्रसिद्ध साहित्यकार महादेवी वर्मा के नाम पर योजना शुरू की जाएगी।

loading...
loading...

Check Also

Opinion : किसानों की नाराजगी समझने में कहां चूक गए पीएम मोदी ?

स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह पहली बार है, जब अपनी मांगों को लेकर किसान ...