Monday , September 28 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / हरियाणा में कोरोना : 24 घंटे की रिपोर्ट कर दी खुश, पहली बार ठीक हुए इतने मरीज

हरियाणा में कोरोना : 24 घंटे की रिपोर्ट कर दी खुश, पहली बार ठीक हुए इतने मरीज

हरियाणा में सोमवार को कोरोनावायरस के 938 नए मरीज मिले हैं। इससे संक्रमितों की कुल संख्या 48547 पर पहुंच गई है। इसी तरह केस मिलते रहे तो 2-3 दिन में यह आंकड़ा 50 हजार पार हो जाएगा। पिछले 24 घंटे में 14 लोगों की मौत हुई है। इनमें 4 मौतें सबसे वीआईपी व स्वास्थ्य विभाग के मुख्यालय वाले जिले पंचकूला में हुई है। करनाल, यमुनानगर में 2-2, पानीपत, फरीदाबाद, अम्बाला, झज्जर, कुरुक्षेत्र, नूंह में 1-1 मरीज की जान चली गई। अब तक 568 लोगों की मौत हो चुकी है। पहली बार एक दिन में एक हजार से ज्यादा मरीज ठीक हुए हैं।

अब कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 40610 हो गई है। इससे रिकवरी दर 83.65% हो गया है। राज्य में 5 जिलों में रिकवरी दर 90% से ऊपर हो गई है। गुड़गांव में 91.82% मरीज ठीक हो चुके हैं। पलवल में 91.81% मरीज ठीक हो चुके हैं। सबसे ज्यादा संक्रमण वाले फरीदाबाद में 91.42% पर रिकवरी दर पहुंची है। नूंह में 90.25% व झज्जर में 90.21% मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। ये सभी जिले दिल्ली से लगते हैं। राज्य में अब 7369 सक्रिय मरीज हैं। 24 घंटे में 10335 लोगों के सैंपल लिए गए। 10048 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 887 नए लोग सर्विलांस पर लिए गए हैं।

यहां मिले नए मरीज
फरीदाबाद में 107, गुड़गांव में 97, रेवाड़ी में 83, पानीपत में 140, अम्बाला में 71, करनाल में 62, कुरुक्षेत्र में 51, रोहतक में 47, महेंद्रगढ़ में 41, यमुनानगर में 38, चरखी दादरी में 30, हिसार में 29, कैथल में 25, सोनीपत में 23, सिरसा में 17, पंचकूला में 15, जींद में 14, झज्जर, भिवानी में 12-12, फतेहाबाद, नूंह में 9-9, पलवल में 6 नए मरीज मिले हैं।

पानीपत समेत 5 जिलों में टेस्टिंग बढ़ाने के निर्देश

  • मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने वीसी के जरिए प्रदेश के सभी डीसी को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए चार टी यानी ट्रेसिंग, ट्रैकिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट पर ध्यान दिए जाने की जरूरत बताई।
  • दूसरे प्रदेशों से सटे राज्यों में मरीजों की संख्या बढ़ रही है। श्रमिक भी अपने गृह राज्यों से लौट रहे हैं। ऐसे में बाहर से आने वाले श्रमिकों की टेस्टिंग की जाए।
  • चरखी दादरी, नूंह, जींद, सिरसा, पानीपत जिलों में जांच और बढ़ाई जाए।
  • लोगों की जांच आरटी-पीसीआर से ही की जाए। रेपिड एंटीजन परीक्षण किट को पूरक के रूप में रखा जाए। प्रदेश में संक्रमितों की मृत्यु दर 1.17% है। इसे 1% तक कम करने के लिए कार्य किया जा रहा हैं।

रिकवरी रेट बेहतर और कोशिश करें: एसीएस
स्वास्थ्य विभाग के एसीएस राजीव अरोडा ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की रिकवरी दर बेहतर है। फिर भी इस दिशा में और कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने अफसरों को निर्देश दिए कि आशा वर्करों द्वारा डोर-टू-डोर सर्वे कराया जाए।

Check Also

पीपीई किट में खुद को डॉक्टर बताए सफाईकर्मी, महिला मरीज बोली- डॉक्टर तो दूर रहने को कहते हैं, आप छू रहे हो

गाेड्डा जिले के सिकटिया काेविड सेंटर में महिला मरीजाें से छेड़छाड़ की घटना सामने आई ...