Monday , October 26 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / हाथरस : वो न्याय के लायक है, बदनामी के नहीं.. पीड़ित परिवार बोला, ‘समझौता किये तो और बच्चियों का..’

हाथरस : वो न्याय के लायक है, बदनामी के नहीं.. पीड़ित परिवार बोला, ‘समझौता किये तो और बच्चियों का..’

हाथरस
यूपी के चर्चित हाथरस कांड में आरोपियों के दावों को खारिज करते हुए पीड़िता के परिवार का कहना है कि उनकी बेटी को बदनाम करने की साजिश की जा रही है। परिवार का कहना है कि अब आरोपी पक्ष उन्हें फंसाने के लिए हथकंडे अपना रहा है। वह अब गांव भी छोड़ना चाहते हैं। परिवार को डर है कि अगर आरोपी से समझौता किया कि उनकी बाकी बेटियों का भी वही हाल कर दिया जाएगा। वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी पीड़ित परिवार के समर्थन में उतर आई हैं। उन्होंने कहा कि पीड़िता न्याय के लायक है, बदनामी के नहीं।

हाथरस कांड में मारी गई लड़की के परिवार ने कहा है, ‘अगर हमें आरोपियों से समझौता करना होता तो हम ऐसा 14 सितंबर को ही कर सकते थे, लेकिन अगर ऐसा किया तो हमारी बाकी तीनों बेटियों को भी ऐसे ही मार दिया जाएगा।’

परिवारीजनों ने मीडिया से कहा, ‘अब पुलिस का दबाव नहीं हैं, लेकिन हम पर लांछन लगाने वाले सुन लें कि आरोपी तो आरोपी ही रहेंगे। कातिल शातिर होता है। अब वह हमें फंसाने के लिए हथकंडे अपना रहे हैं, लेकिन हम न्याय मिलने तक चुप नहीं रहेंगे। ठाकुर समाज और सरकार हमारी सुरक्षा का जिम्मा ले, तो हम रुक सकते हैं, वरना यहां क्यों रहना चाहेंगे।’

लड़की के परिवारीजनों ने कहा-झूठ है
हाथरस केस में जेल में बंद चारों आरोपियों ने जिले के एसपी को चिट्ठी लिखी है। खत में चारों ने दावा किया है कि लड़की की ऑनर किलिंग हुई है। जेलर आलोक सिंह ने चिट्ठी लिखे जाने की पुष्टि की। आरोपियों की मांग पर उन्हें कागज, पेन और अंगूठा लगाने के लिए इंकपैड दिया गया था। इस चिट्ठी पर लड़की के परिवार ने कहा, ‘जांच को भटकाने के लिए हम पर इस तरह के झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं। लेकिन हम झुकेंगे नहीं, न्याय के लिए लड़ेंगे।’

सामने आई चिट्ठी में चारों के नाम और अंगूठे के निशान हैं। मुख्य आरोपित संदीप के हवाले से लिखा गया, ‘लड़की मेरी दोस्त थी। हम मिलते थे। फोन पर भी बात होती थी। हमारी दोस्ती लड़की के घरवालों को पसंद नहीं थी। घटना के दिन हम दोनों खेत में मिलने पहुंचे। लड़की के साथ उसकी मां और भाई थे। उनके कहने पर मैं तुरंत वहां से चला गया। तभी गुस्‍से में मां-भाई ने लड़की को पीटा, जिससे उसकी हड्डी टूटी और मौत हो गई।’ बाकी तीनों आरोपियों ने भी इस बात पर सहमति जताई।

प्रियंका गांधी के चुभते सवाल
प्रियंका गांधी ने हाथरस की पीड़िता पर एक ट्वीट किया है। कांग्रेस महासचिव ने लिखा, ‘ऐसी कहानियों को गढ़ना जो महिलाओं के चरित्र को नीचा दिखाए और उसके खिलाफ होने वाले अपराधों के लिए उसे जिम्मेदार ठहराए वो विद्रोही और प्रतिगामी है। हाथरस में एक जघन्य अपराध किया गया है, जिसमें एक युवती की मौत हो गई। उसका शरीर उसके परिवार की मौजूदगी के बिना ही जला दिया गया। वह न्याय के लायक है, बदनामी के नहीं।

बता दें कि हाथरस कांड में आरोपी और पीड़िता के परिवार के फोन से बातचीत का खुलासा होने से केस में नया ट्विस्ट आ गया है। हालांकि अभी यह साफ नहीं हुआ है कि आरोपी संदीप ठाकुर से पीड़ित परिवार का कौन सा सदस्य बात कर रहा था। पीड़िता के भाई का कहना है कि उनकी बहन ने कॉल नहीं की। वह उनकी निगरानी में रहती थी।

loading...
loading...

Check Also

आदित्य ठाकरे को ‘बेबी पेंगुइन’ कहा ट्विटर यूज़र, मुंबई पुलिस ने ले लिया तगड़ा एक्शन

मुंबई और नागपुर पुलिस ने नागपुर के रहने वाले समित ठक्कर को गिरफ्तार किया है। आरोप है ...