Wednesday , January 20 2021
Breaking News
Home / क्राइम / बुर्का पहनकर सिरफिरा पहुंचा प्रेमिका के घर, हाथ में लिया हथियार और फिर ऐसा हुआ

बुर्का पहनकर सिरफिरा पहुंचा प्रेमिका के घर, हाथ में लिया हथियार और फिर ऐसा हुआ

उत्तर प्रदेश के आगरा में एकतरफा प्यार में एक सिरफिरे आशिक ने युवती के घर में घुसकर छुरे से उस पर हमला बोल दिया। साहसी युवती उससे भिड़ गई, लेकिन सिरफिरे ने युवती के सिर और हाथों पर कई वार कर उसे लहूलुहान कर दिया। बस्ती वालों के पीछा करने पर आरोपी भागकर एक दो मंजिला घर की छत पर चढ़ गया और फिर वहां से कूद गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने युवती और उसके घायल आशिक को अस्पताल में भर्ती कराया है। आरोपी के खिलाफ संगीन धाराओं में थाना ताजगंज में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

चार महीने पहले भी कर चुका था हमला
मिली जानकारी के अनुसार घटना शनिवार शाम 7 बजे की है। नगला मेवाती में बने डूडा आवास में रहने वाली युवती की मां कोठियों में काम करती है। पिता रिक्शा चालक हैं। शाम को युवती और उसकी मां घर पर थीं। दस्तक देने पर युवती दरवाजे पर पहुंची। दरवाजा खोलने पर उसे बुर्का पहने एक महिला खड़ी दिखाई दी। परिचित समझ जैसे ही उसे अंदर आने के लिए रास्ता दिया बुर्केधारी ने छुरा निकालकर युवती की गर्दन पर हमला कर दिया और उसे पकड़कर घर के अंदर खींचकर ले जाने लगा। बुर्का हटते ही युवती पहचान गई कि वह आसिफ था जो चार महीने पहले उस पर हमला कर चुका था।

दोमंजिला छत पर से कूदा
युवती प्रतिरोध करती रही और चिल्लाती रही लेकिन आरोपी ने उसके सिर गर्दन और हाथ पर छुरे से कई प्रहार कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया। छुरा पकड़ने के चलते युवती के हाथ का पंजा बुरी तरह से कट गया था। उसे खून से लथपथ देख मां ने शोर मचाना शुरू कर दिया। जब मौके पर लोग जुट गए तो आसिफ भागने लगा और 100 मीटर दूर एक मकान की दूसरी मंजिल पर चढ़ गया और वहां से लोगों पर पत्थर फेंकने लगा। पीछा करने वाले लोग जब उसे पकड़ने छत पर भी पहुंच गए तो वह दोमंजिला मकान की छत से कूद गया और बुरी तरह घायल होकर बेहोश हो गया।

दोनों अस्पताल में भर्ती
मौके पर पहुंची पुलिस ने युवती और आरोपी दोनों को एसएन इमरजेंसी में भर्ती कराया। थाना ताजगंज के प्रभारी निरीक्षक उमेश चंद्र त्रिपाठी का कहना है कि आरोपी युवक का नाम आसिफ है। मामला एकतरफा प्यार में हमले का है। आरोपी और युवती का इलाज कराया जा रहा है। दोनों खतरे से बाहर हैं। आरोपी बुर्का पहनने के साथ ही छुरा भी झोले में छिपाकर लाया था। आरोपी के खिलाफ थाने में अंतर्गत धारा 307/452 आईपीसी के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया है। बस्ती वालों का कहना है कि यदि युवती साहस नहीं दिखाती तो उसका बचना नामुमकिन था।

युवती के परिजन ने पुलिस को बताया कि आसिफ और उसके रिश्तेदार कई महीने पहले इसी बस्ती में रहते थे। वह युवती से एकतरफा प्यार करता था और उससे छेड़छाड़ करता था, लेकिन युवती की उसमें कोई दिलचस्पी नहीं थी। इसी से नाराज़ आसिफ ने 4 महीने पहले युवती पर चाकू से हमला बोल दिया था, जिसकी उन्होंने थाने में भी शिकायत की थी।

बस्ती वालों का कहना है कि यदि युवती साहस नहीं दिखाती तो उसका बचना नामुमकिन था। लोगों ने पुलिस को बताया कि 4 महीने पहले आसिफ द्वारा युवती पर चाकू से हमला करने की घटना से लोग उसके खिलाफ हो गए थे और विरोध के चलते आरोपी यहां से मकान खाली कर गया था। बस्ती वालों ने उसके यहां आने पर भी पाबंदी लगा दी थी।आसिफ चार घंटे पहले ही दिल्ली से लौटा था और बुर्का पहनकर सीधा यहां चला आया था, इसीलिए उसे कोई पहचान नहीं पाया।

loading...
loading...

Check Also

BJP सांसद हेमा मालिनी के होटल का खर्च उठाना चाहते हैं आंदोलनकारी किसान, जानिए कारण

नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों ( Farm Law ) को लेकर किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी ...