Tuesday , January 26 2021
Breaking News
Home / क्राइम / 1100 रुपए की पुड़िया से गर्भ की तकदीर बदलने का करती दावा, बोलती- 100 फीसदी बेटा ही होगा

1100 रुपए की पुड़िया से गर्भ की तकदीर बदलने का करती दावा, बोलती- 100 फीसदी बेटा ही होगा

एक ओर 21वीं सदी का नया दशक शुरू हो चुका है, पर दूसरी ओर लोग अंधविश्वास से बाहर ही नहीं आना चाहते। वो ऊपर वाले भगवान के साथ-साथ धरती के भगवान यानि डॉक्टर्स को भी चैलेंज करने से बाज नहीं आ रहे। कैथल में ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां सेहत विभाग की टीम ने एक महिला को पकड़ा है, जो महज 11 सौ रुपए में गर्भ में पल रहे शिशु की तकदीर का फैसला करने का दावा करती थी। वह गर्भवती महिलाओं से कहती थी, ‘रोज सुबह तारों की छांव में ये पांच गोलियां खा लो, 100 प्रतिशत बेटा ही जनोगी’।

मामला कपि शिरोमणि हनुमान की जन्मस्थली कहे जाने वाले कैथल शहर की शुगर मिल कॉलोनी का है। इस बारे में सिविल सर्जन डॉ. ओम प्रकाश ने बताया कि उन्हें शुगर मिल कॉलोनी में एक महिला द्वारा लड़का होने की दवाई दिए जाने की सूचना मिली थी। इसके बाद सीवन CHC के SMO डॉ. बलविंद्र, PNDT के नोडल अधिकारी डॉ. गौरव पूनिया, DPM नरेंद्र कुमार और एजुकेटर राजेश की एक टीम बनाई गई। साथ ही दो महिलाओं को फर्जी ग्राहक बनाकर दवा देने वाली महिला के पास भेजा गया। विभाग की टीम शुगर मिल के गेट पर गाड़ी खड़ी कर इंतजार करने लगी।

दोनों महिलाओं ने पहले दो लड़कियां होने की बात कहते हुए लड़का होने की दवाई मांगी। महिला ने 1100 रुपए लेकर पांच गोलियों की पुड़िया दी। उसने कहा कि पांच दिन तक रोज सुबह तारों की छांव में ये गोलियां लेने के बाद 100 प्रतिशत लड़का ही पैदा होगा। ट्रैप लेडी ने दवाई मिलते ही गेट पर खड़ी टीम के फोन पर मिस्ड कॉल दी तो इसके तुरंत बाद टीम ने पहुंचकर गोलियां और नंबर लगाकर दिए गए नोट बरामद कर लिए।

कागजी कार्रवाई पूरी करने के बाद महिला के खिलाफ शिकायत के साथ महिला सिविल लाइन थाना पुलिस को सौंप दी गई। आगे की कार्रवाई पुलिस के द्वारा ही की जानी है। कानून के मुताबिक तीन साल तक की सजा या जुर्माना या फिर दोनों का ही प्रावधान है। दूसरी ओर सिविल सर्जन की लोगों से अपील है कि खुद भगवान बनकर असली के भगवान और विज्ञान दोनों को चैलेंज करने की जरूरत नहीं है। यह सिर्फ अंधविश्वास ही है।

loading...
loading...

Check Also

एमपी : दक्षता परीक्षा में किताब रखकर नकल किए शिक्षक, फिर भी 40 प्रतिशत फेल

मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में दक्षता परीक्षा में 337 में से 133 शिक्षक फेल हो ...