Sunday , September 27 2020
Breaking News
Home / क्राइम / 15 साल की नाबालिग से 6 पड़ाेसियों ने 6 महीने किया रेप, इनमें भी 4 आराेपी

15 साल की नाबालिग से 6 पड़ाेसियों ने 6 महीने किया रेप, इनमें भी 4 आराेपी

जोधपुर  : शहर के राजीव गांधी नगर थाना क्षेत्र में शनिवार काे समाज काे झकझाेरने वाली घटना का खुलासा हुआ है। एक 15 वर्षीय बालिका से 6 पड़ाेसी डरा-धमकाकर दुष्कर्म कर रहे थे। सकते में डालने वाली और चिंताजनक बात यह है कि दुष्कर्म के इन आरोपियों में 4 नाबालिग हैं। यह घिनाैना कर्म पिछले 6 महीने से चल रहा था।

वहशियों द्वारा जान से मारने की धमकियों से बच्ची इतनी भयभीत और घबराई हुई थी कि शोषण की बात घरवालों को भी नहीं बता पा रही थी। आखिरकार लगातार प्रताड़ना से परेशान होकर बालिका स्वयं ही पुलिस के पास पहुंची और अपने शोषण की दास्तां बताई। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस वहशियाें की पहचान के साथ उनकी गिरफ्तारी व दस्तयाब में जुटी है।

हर अभिभावक के लिए अलर्ट, क्याेंकि…

  • आस-पड़ाेसियाें और वहां की गतिविधियाें से अधिकांश अनजान ही रहते हैं
  • टीनेजर्स-यूथ की जिंदगी में क्या चल रहा, यह भी ज्यादातर काे पता नहीं हाेता
  • 4 नाबालिगाें की लिप्तता, पैरेंटिंग-स्कूलिंग और समाज पर प्रश्नचिह्न

बालक से थी दोस्ती, ये बात घरवालों को बताने की धमकी से शुरू हुआ शोषण

दुष्कर्म और शोषण की शुरुआत लॉकडाउन में ही शुरू हो गई थी। बच्ची के पड़ोस में रहने वाले 12 साल के बालक ने उससे दोस्ती की। उस बालक ने अपने कुछ दोस्तों को बच्ची से दोस्ती के बारे में बताया। यहां से इस बच्ची के साथ घिनौना कार्य शुरू हुआ। 12 साल के बच्चे को उसके साथी उकसाते रहे।

फिर बच्ची को डराया-धमकाया कि उसकी दोस्ती की जानकारी घरवालों को दे देंगे। तब पहली बार उससे दुष्कर्म हुआ। एक-एक करके इस घिनौने कृत्य में बच्ची के आस-पड़ोस के 6 लोग शामिल हाे गए। इनमें 4 नाबालिग और 2 युवक थे। धीरे-धीरे बात बढ़ती गई, बच्ची से लगातार दुष्कर्म का सिलसिला शुरू हाे गया।

दरिंदगी की इंतिहां ने पुलिस की दर तक पहुंचाया
शनिवार काे बच्ची अपने छोटे भाई को ढूंढने पड़ाेस में गई थी। तब पड़ाेसी युवक ने कहा कि- तेरा भाई मेरे यहां है। इस बहाने बुलाकर उसने बच्ची से दुष्कर्म किया। इतने में बच्ची की मां भी बेटे काे ढूंढते युवक के घर पर पहुंची। बच्ची व युवक दोनों घबराकर बाहर आए। महिला ने बेटे के बारे में पूछा तो कहा कि वो तो घर के बाहर ही है। मां को देखकर बच्ची बुरी तरह घबरा गई। इसके बाद वह खुद पुलिस थाने पहुंची और रोते-रोते पूरी घटना बताई।

सदमा इतना कि घर जाने काे नहीं मानी, बालिकागृह भेजा
नाबालिग इतनी सदमे में है कि किसी को देखते ही डर के मारे दीवार में सिमट जाती है। पुलिस ने बताया कि परिजनों की ओर से रिपोर्ट दिए जाने के बाद बच्ची काे घर ले जाने के के लिए कहा। लेकिन वो इतनी डरी हुई थी कि घर ही नहीं जाना चाहती थी। परिजनाें व पुलिस ने उसे तकरीबन 3 घंटे खूब समझाया, लेकिन वो घर जाने के लिए लगातार मना करती रही। बाद में पुलिस ने परिजनों से बात कर बच्ची काे सीडब्ल्यूसी के समक्ष पेश किया। इसके बाद उसे बालिका गृह छाेड़ा गया।

Check Also

करण जौहर के ड्रामे और कारनामे दे रहे इशारा, NCB का हाथ अब उनकी गर्दन पर होगा !

सुशांत सिंह राजपूत की संदेहास्पद मृत्यु के पश्चात NCB  बॉलीवुड के ड्रग्स कनैक्शन को उजागर ...