Friday , October 30 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / 200 रुपए की मामूली बचत से आप बना सकते हैं ₹14 लाख, ये है पूरा सरकारी प्लान

200 रुपए की मामूली बचत से आप बना सकते हैं ₹14 लाख, ये है पूरा सरकारी प्लान

नई दिल्ली। रिटायरमेंट के बाद होने वाली दिक्कतों से बचने और भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Provident Fund) एक बेहतर स्कीम है। इसमें आप छोटी बचत से बड़ा अमाउंट जोड़ सकते हैं। यह एक लंबे समय तक निवेश करने वाली पॉपुलर स्कीम (Popular Investment Scheme) है। इस वक्त पीपीएफ में 7.1 प्रतिशत तक का ब्याज मिल रहा है। ये निवेश के लिहाज से बेहद सुरक्षित स्कीम है। इसलिए मैच्योरिटी राशि और इस पर मिलने वाला ब्याज सब कुछ टैक्स फ्री है। इस योजना में आप रोजाना महज 200 रुपए बचाकर 14 लाख रुपए तक पा सकते हैं। तो क्या है ये स्कीम, जानें पूरी डिटेल।

पीपीएफ (PPF) से जुड़ी खास बातें
1.इस अकाउंट को खोलने के लिए एक वित्त वर्ष में कम से कम 500 रुपये निवेश करना जरूरी है। जबकि अधिकतम आप 1.50 लाख रुपए तक जमा कर सकते हैं।

2.पीपीएफ स्कीम के तहत आपको नॉमिनी की सुविधा है। साथ ही निवेश के लिहाज से ये एक सुरक्षित स्कीम है।

3.यह अकाउंट पोस्‍ट ऑफिस और बैंकों की चुनी हुई शाखाओं में आसानी से खोला जा सकता है।

4.यह योजना 15 साल के लिए है। आप चाहे तो इसे आगे 5 साल तक के लिए और बढ़ा सकते हैं।

जानें कैसे है फायदेमंद
अगर कोई व्यक्ति पब्लिक प्रोविडेंट फंड में रोजाना 200 रुपए का निवेश करता है। यानि 6000 रुपये महीना इंवेस्ट करता है तो साल का निवेश 72,000 रुपए होगा। ऐसा अगर 15 साल तक करें तो आपका कुल निवेश 10,80,000 रुपए हो जाएगा। 7.1 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के लिहाज से ब्याज मिलेगा। ऐसे में कुल रिटर्न कुल रिटर्न 14.40 लाख रुपए होंगे।

कैसे खुलवाएं खाता
पीपीएफ खाता किसी भी पोस्ट ऑफिस या बैंक में खुलवाया जा सकता है। इसे आप अपने नाम से या नाबालिग के लिए गार्जियन के साथ खोला जा सकता है। हालांकि इसमें ज्वाइंट अकाउंट नहीं खुलता है। आप चाहे तो किसी को नॉमिनी बना सकते हैं। पीपीएफ खाता खोलने के लिए न्यूनतम राशि 200 रुपए है। जबकि अधिकतम निवेश सीमा 150,000 रुपए प्रति वर्ष तय की गई है। ये धनराशि प्रतिवर्ष अधिकतम 12 किस्तों में या एकमुश्त जमा की जा सकती है। आम तौर पर एक पीपीएफ खाता खोलने के बाद तीसरे वित्तीय से ऋण का लाभ लिया जा सकता है। जबकि सातवें वित्तीय वर्ष से प्रत्येक वर्ष से निकासी की अनुमति मिलती है।

loading...
loading...

Check Also

नीतीश के ‘7 निश्चय’ से कन्नी क्यों काट रहे मोदी, पर्दे के पीछे क्या है BJP की रणनीति?

पटना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को दूसरी बार बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार को पहुंचे। ...