Monday , September 21 2020
Breaking News
Home / क्राइम / 4 दिनों से मैराथन पूछताछ, रिया को CBI फिर भी नहीं की गिरफ्तार, पूरे 9 हैं कारण

4 दिनों से मैराथन पूछताछ, रिया को CBI फिर भी नहीं की गिरफ्तार, पूरे 9 हैं कारण

मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत केस में तमाम दावों और आरोपों के बीच सीबीआई, ईडी और अब एनसीबी की जांच जारी है। सीबीआई ने मुंबई में जांच शुरू करने के 8वें दिन मुख्‍य आरोपी रिया चक्रवर्ती को पहली बार पूछताछ के लिए बुलाया। रविवार तक उनसे लगातार तीन दिन पूछताछ हुई। सोमवार को भी चौथे दिन रिया चक्रवर्ती से पूछताछ हो रही है। रिया से तीन दिनों में सीबीआई ने करीब 26 घंटे पूछताछ की है। लेकिन इन सब के बीच एक सवाल जो हर हिंदुस्‍तानी के जेहन में है, वो ये कि आख‍िर रिया चक्रवर्ती की गिरफ्तारी अब तक क्‍यों नहीं हुई है?

सुशांत की फैमिली और फैन्‍स कर रहे गिरफ्तारी की मांग
सुशांत केस में उनकी मौत के ठीक बाद से ही मामले की सीबीआई जांच की मांग हो रही थी। करीब दो महीने के लंबे इंतजार के बाद सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को सुशांत मामले की जांच सौंप दी। इससे पहले मुंबई पुलिस की जांच पर कई तरह के सवाल उठे। पुलिस ने मामले में न नामजद एफआईआर दर्ज की और न ही किसी की गिरफ्तारी हुई। ऐसे में जब सीबीआई को जांच सौंपी गई तो सुशांत के परिवार से लेकर फैन्‍स तक हर किसी को लगा कि अब रिया की गिरफ्तारी होगी। लेकिन जांच शुरू होने के 10 दिन बाद भी ऐसा नहीं हुआ है। सवाल है क्‍यों?

सीबीआई नहीं चाहती केस हल्‍का पड़ जाए
दरअसल, रिया की गिरफ्तारी में कई तरह के पेच फंस गए हैं। सीबीआई नहीं चाहती कि वह आनन-फानन में रिया को गिरफ्तार कर ले और फिर सबूतों के आभाव में उन्‍हें तुरंत जमानत मिल जाए। इससे केस हल्‍का पड़ जाएगा। इसके साथ ही मामले में कुछ तकनीकी उलझन भी है, जिस कारण रिया की गिरफ्तारी नहीं हो रही है। आइए समझते हैं क्‍या है वह उलझन-

1) रिपोर्ट्स बताते हैं कि रिया के ख‍िलाफ सीबीआई के पास अभी तक कोई पक्‍के और पुख्‍ता सबूत नहीं मिले हैं। सीबीआई मामले की आत्‍महत्‍या और आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने के ऐंगल से जांच कर रही है। सुशांत के पिता की एफआईआर में भी रिया पर सुशांत को आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने का आरोप है।

2) सीबीआई ने अभी तक की जांच में कई लोगों से पूछताछ की है। सिद्धार्थ पिठानी से लेकर सुशांत के कुक नीरज तक। अब पहली समस्‍या ये है कि गवाह अपने बयान पर स्‍थ‍िर नहीं हैं। यानी 13 जून और 14 जून को क्‍या-क्‍या और कैसे-कैसे हुआ, इसको लेकर नीरज, सिद्धार्थ पिठानी, केशव और सैमुअल मिरांडा जैसे अहम गवाह के बयान में अंतर है। ये सभी एक ही घटना का अलग-अलग जिक्र कर रहे हैं। सीबीआई की परेशानी यह है कि इस कारण असल वजह तलाशने की उलझन बनी हुई है।

3) गवाहों को लेकर एक परेशानी यह भी है कि कौन सही कह रहा है और कौन झूठ इसका पता लगाना मुश्‍क‍िल है। ऐसे में अक्‍सर पॉलिग्राफ टेस्‍ट किया जाता है। संभव है कि सीबीआई रिया का पॉलिग्राफ टेस्‍ट ले। लेकिन फिर भी उनके ख‍िलाफ गवाह जुटाना मुश्‍क‍िल हो रहा है।

4) रिया की गिरफ्तारी के लिए सीबीआई के पास सबसे अहम हथ‍ियार है सुशांत की अटॉप्‍सी, विसरा और फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट। सीबीआई सुशांत के घर क्राइम सीन रीक्रिएट कर चुकी है। ऐसे में यदि फॉरेंसिक जांच में रिया के ख‍िलाफ सबूत मिलते हैं तो उनकी तत्‍काल गिरफ्तारी हो जाएगी। लेकिन समस्‍या यह है कि सीबीआई को यह केस काफी देर से सौंपा गया। जबकि सुशांत की अटॉप्‍सी, विसरा और फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट पर पहले भी सवाल उठ चुके हैं।

5) सही मायने में सीबीआई के हाथ रिया की गिरफ्तारी के लिए सबसे तगड़ा हथ‍ियार फॉरेंसिक रिपोर्ट ही है। AIIMS की टीम इसकी जांच कर रही है। सोमवार को एम्‍स की फॉरेंसिक टीम कूपर अस्‍पताल के उन डॉक्‍टरों से भी बात करेगी, जिन्‍होंने सुशांत की अटॉप्‍सी और विसरा जांच की थी।

6) सूइसाइड और होमीसाइड के मामले में सीबीआई का ट्रैक रिकॉर्ड भी यहां एक बड़ा कारण है। जानकार बताते हैं कि सीबीआई ने अब तक सूइसाइड और होमीसाइड के जितने भी मामलों की छानबीन की है, उसमें शायद ही कभी मुख्‍य आरोपी को कोर्ट में दोषी साबित किया गया है।

7) सीबीआई के हाथ रिया के फोन रेकॉर्ड्स, बैंक स्‍टेटमेंट और तमाम कागजात हैं, लेकिन उसमें भी अभी तक कोई ऐसे सबूत नहीं मिले हैं, जिससे रिया को तत्‍काल गिरफ्तार किया जा सके। हालांकि, ड्रग चैट की जांच रिया पर भारी पड़ सकती है, लेकिन यह मामला नारकोटिक्‍स ब्‍यूरो का है। लिहाजा, यदि इसको लेकर गिरफ्तारी होती है तो वह एनसीबी ही करेगी।

8) गुरुवार को एनसीबी की टीम मुंबई पहुंची और शुक्रवार को सीबीआई ने रिया को पूछताछ के लिए पहली बार बुला लिया। दरअसल, सीबीआई भी समझ रही है कि एनसीबी का केस ज्‍यादा मजबूत है। ऐसे में यदि एनसीबी रिया को पहले समन कर देती और सबूत मिलने पर गिरफ्तार कर लेती तो सीबीआई जांच में परेशानी होती। लिहाजा, सीबीआई से पहले ही रिया से लगातार पूछताछ कर रही है।

9) नारकोटिक्‍स ब्‍यूरो को ईडी ने रिया के ड्रग चैट सौंप दिए हैं। कथ‍ित ड्रग डीलर गौरव आर्या को ईडी ने समन किया है, जिनसे पूछताछ हो रही है। अब एनसीबी भी गौरव से पूछताछ करेगी। एनसीबी के पास रिया की गिरफ्तारी के लिए चार ग्रांउड हैं- अवैध ड्रग्‍स लेना, अवैध ड्रग्‍स किसी को देना, अवैध ड्रग्‍स खरीदना और अवैध ड्रग्‍स के व्‍यापार में शामिल होना। इनमें से किसी भी मामले में यदि सबूत मिलते हैं तो रिया की गिरफ्तारी तय है।

Check Also

अनुराग कश्यप पर पायल घोष का दूसरा बम, कहा- वो बोले थे कि 200+ लड़कियों से उनके संबंध!

बॉलीवुड से अब बड़ी खबर आना आम बात हो गई है. आए दिन बॉलीवुड से ...