Monday , March 1 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / Nirvik Scheme : कारोबार के लिए आसानी से लोन देगी सरकार, 90% का बीमा कवर

Nirvik Scheme : कारोबार के लिए आसानी से लोन देगी सरकार, 90% का बीमा कवर

निर्विक योजना (Nirvik Scheme) केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा लाई गई योजना है। केंद्र सरकार NIRVIK योजना के तहत, निर्यातकों को आसान ऋण प्रदान (Loan) करेगा और मूलधन और ब्याज का 90% तक बीमा (Bima) के तहत कवर किया जाएगा।

प्रधानमंत्री निर्विक योजना (NIRVIK Yojana) के अनुसार अगर कोई नुकसान होता है, तो ECGC (Export Credit Guarantee Corporation Loan scheme) ने लगभग 60% तक की ऋण गारंटी प्रदान की है। केंद्र सरकार (Central Government) छोटे निर्यातकों के लिए बीमा प्रीमियम दरों को घटाकर 0.6% कर देगा। यह योजना ( Insurance cover for exporters) उन सभी निर्यातकों (Plan to boost exports) के लिए लागू होगी जिनके पास 80 करोड़ रुपये से कम की बकाया सीमा है।

वाणिज्य मंत्रालय और वित्त मंत्रालय ने सभी निर्यात निकायों के साथ इस निर्विक योजना पर चर्चा की है।निर्विक योजना के तहत, केंद्र सरकार (Government Yojana) निर्यातकों के लिए ऋण की आसान उपलब्धता सुनिश्चित (Nirvik Scheme) करेगा और ऋणों का वितरण सरल बनाएगा।

जानिए, इस योजना की विशेषता

– मूलधन और ब्याज का 90% तक बीमा के तहत कवर किया जाएगा।
– बढ़े हुए कवर से यह सुनिश्चित होगा कि निर्यातकों के लिए विदेशी और रुपये निर्यात ऋण की ब्याज दर 4 प्रतिशत और 8 प्रतिशत के बीच हो।
– बीमा कवर में pre और post shipment credit दोनों शामिल होंगे।
– निर्यात ऋण विकास योजना के तहत 80 करोड़ रुपये से अधिक की सीमा वाले उधारकर्ताओं के ऊपर रत्न आभूषण और हीरे (Gems, Jewellery, Diamond – GJD) के क्षेत्र में उच्च हानि दर के कारण इस श्रेणी के Non-GJD क्षेत्र के उधारकर्ताओं की तुलना में ज्यादा प्रीमियम दर होगी।
– 80 करोड़ रुपये से कम की सीमा वाले खातों के लिए प्रीमियम की दर 0.60% प्रति वर्ष और मध्यम रूप से 80 करोड़ रुपये से अधिक वालों के लिए 0.72% प्रति वर्ष होगी।
– यह ECGC के अधिकारियों द्वारा बैंक के दस्तावेजों और अभिलेखों के निरीक्षण को वर्तमान के 1 करोड़ रुपये के मुकाबले 10 करोड़ रुपये से अधिक के घाटे के लिए अनिवार्य बनाता है।
– बैंक, ECGC को मासिक मूलधन और ब्याज पर एक प्रीमियम का भुगतान करेंगे क्योंकि दोनों बकाया के लिए कवर की पेशकश की जा रही है।

जानिए, इस योजना के लाभ

– यह निर्यातकों के लिए ऋण की उपलब्धता में बृद्धि करेगा।
– यह योजना भारतीय निर्यात को प्रतिस्पर्धी बनाने में मदद करेगी।
– यह योजना ECGC प्रक्रियाओं को निर्यातक के अनुकूल बना देगी।
– दावों के त्वरित निपटान के कारण पूंजीगत राहत, कम प्रावधान की आवश्यकता और तरलता के कारण बीमा कवर में ऋण की लागत में कमी आने की उम्मीद है।
– यह निर्यात क्षेत्र के लिए समय पर और पर्याप्त कार्यशील पूंजी सुनिश्चित करेगा।

योजना के उद्देश्य

इस योजना को शुरू करने के पीछे मुख्य उद्देश्य निर्यातकों के लिए ऋण की उपलब्धता और सामर्थ्य को बढ़ाना था। यह निर्णय भारतीय निर्यात को प्रतिस्पर्धी बनाने और ईसीजीसी प्रक्रियाओं को निर्यातक के अनुकूल बनाने में मदद करेगा। यह नई योजना करों की प्रतिपूर्ति के साथ MSME निर्यातकों को लाभान्वित करेगी।

बीमा कवर से पूंजीगत राहत के कारण ऋण की लागत में कमी आने की उम्मीद है | दावों के त्वरित निपटान के कारण कम प्रावधान की आवश्यकता और तरलता और निर्यात क्षेत्र के लिए समय पर और पर्याप्त कार्यशील पूंजी सुनिश्चित करेगा |

ECGC बीमा कवर बैंकों को अतिरिक्त सुविधा प्रदान करेगा क्योंकि उधारकर्ता की क्रेडिट रेटिंग AA rated खाते में बढ़ाई जाएगी | बढ़े हुए कवर से यह सुनिश्चित होगा कि निर्यातकों के लिए विदेशी और रुपये निर्यात ऋण की ब्याज दर क्रमशः 4 प्रतिशत और 8 प्रतिशत से नीचे है |

loading...
loading...

Check Also

मिथुन दा की पहली बीवी थीं सुपरमॉडल, कामयाबी के लिए किया इस्तेमाल, फिर शादी तोड़ दी !

मिथुन चक्रवर्ती की इमेज वैसे तो एक भद्र मानूस की है, लेकिन मिथुन बॉलीवुड के ...