Sunday , September 27 2020
Breaking News
Home / ख़बर / BIG NEWS : रूस में बनने लगी Corona vaccine, सबसे पहले इन भारतीयों को मिलेगी डोज

BIG NEWS : रूस में बनने लगी Corona vaccine, सबसे पहले इन भारतीयों को मिलेगी डोज

कोरोना वायरस की वैक्‍सीन (Coronavirus vaccine) को लेकर रूस के ऐलान के बाद गहमागहमी तेज है। भारत के वैक्‍सीन निर्माताओं की क्षमता को देखते हुए रूस ने दिलचस्‍पी दिखाई है कि उसके कोरोना टीके (Covid-19 vaccine) Sputnik V का भारत में भी उत्‍पादन हो। रूसी डायरेक्‍टर इनवेस्‍टमेंट फंड के सीईओ किरिल दिमेत्रीव ने कहा है कि इस बारे में बातचीत चल रही है। रूस ने अपने यहां कोरोना वैक्‍सीन का उत्‍पादन शुरू कर दिया है। उसने कहा है कि इस महीने के आखिर तक यह वैक्‍सीन रोल-आउट कर दी जाएगी। Sputnik V को लेकर कई साइंटिस्‍ट्स का कहना है कि रूस ने तय प्रक्रिया की अनदेखी की है।

कैसे रहे रूसी वैक्‍सीन के नतीजे?

रूस का दावा है कि Sputnik V के फेज-1 और फेज-2 ट्रायल में सभी वॉलंटियर्स पर इसका असर हुआ। 21 दिन के भीतर इम्‍युनिटी डेवलप हो गई। साइंटिस्‍ट्स के अनुसार, वैक्‍सीन का दूसरा इंजेक्‍शन दिए जाने पर इम्‍युनिटी डबल हो गई। किसी वॉलंटियर पर कोई सीरियस साइड इफेक्‍ट देखने को नहीं मिला। इस टीके का फेज-3 ट्रायल रूस के अलावा सऊदी अरब, फिलीपींस, ब्राजील और यूएई में होगा।

भारत में बनेगी रूसी कोविड वैक्‍सीन?

रूस ने Sputnik V नाम से जो वैक्‍सीन तैयार की है, उसका उत्‍पादन भारत में भी हो सकता है। रशियन डायरेक्‍ट इनवेस्‍टमेंट फंड (RDIF) के सीईओ किरिल दिमेत्रीव के मुताबिक, भारतीय फार्मास्‍यूटिकल प्रोड्यूसर्स के साथ बातचीत चल रही है। RDIF ने वैक्‍सीन की रिसर्च और प्रॉडक्‍शन को फंड किया है। मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ऑफ एपिडेमियोलजी एंड माइक्रोबॉयलजी ने इसे डेवलप क‍िया है। दिमेत्रीव ने कहा, “भारत और रूस, कई सेक्‍टर्स में ऐतिहासिक रूप से साझेदार रहे हैं। RDIF भारतीय कंपनियों के साथ 2012 से जुड़ा हुआ है।” उन्‍होंने कहा कि रूस ने पांच देशों में हर साल 500 मिलियन डोज तैयार करने का प्‍लान बनाया है। भारत के अलावा कोरिया और ब्राजील से भी बात हो रही है।

भारत में इनको मिलेगी पहली डोज

भारतीय वैज्ञानिक भी कोरोना टीका बनाने में दिन-रात लगे हुए हैं। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे का कहना है कि अगर वे कामयाब होते हैं तो कोविड-19 वॉरियर्स को सबसे पहले टीका लगेगा। उन्‍होंने कहा, “हमारे वैज्ञानिक इसपर बहुत मेहनत कर रहे हैं। कोविड-19 के खिलाफ तीन वैक्‍सीन टेस्टिंग के अलग-अलग स्‍टेज में हैं। और अगर हम वैक्‍सीन बनाने में सफल होते हैं तो हमारे कोविड वॉरियर्स को सबसे पहले डोज मिलेगी।”

भारत में कौन सी तीन वैक्‍सीन का ट्रायल?

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और भारत बायोटेक की बनाई Covaxin और जायडस कैडिला की ZyCov-D का इंसानों पर ट्रायल चल रहा है। इसके अलावा यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्‍सफर्ड-अस्‍त्राजेनेका की वैक्‍सीन के फेज- 2/3 ट्रायल के लिए सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया को इजाजत दी गई है।

Check Also

चीन को लाइन पर लाने के लिए सुगा का बड़ा फैसला, सेना पर खर्चेंगे सबसे ज्यादा पैसा !

चीन की वैश्विक गुंडई मानो थमने का नाम नहीं ले रही है, और ऐसे में ...