Friday , October 2 2020
Breaking News
Home / ख़बर / BIG NEWS : 2012 से वुहान लैब में कैद था कोरोना वायरस, 7 साल बाद हुआ लीक

BIG NEWS : 2012 से वुहान लैब में कैद था कोरोना वायरस, 7 साल बाद हुआ लीक

पिछले साल नवंबर से चीन के वुहान में कोरोना वायरस इन्फेक्शन के मामले सामने आने लगे जिसने अब तक दुनियाभर में 2 करोड़ से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। हालांकि, वैज्ञानिकों का मानना है कि कोविड-19 दरअसल 7 साल पहले 2012 में ही पैदा हो गया था। इस दावे के मुताबिक चीन में ही एक खदान में 6 मजदूर निमोनिया जैसे वायरस से पीड़ित हुए थे जो चमगादड़ का मल साफ कर रहे थे। इनमें से तीन की मौत हो गई थी। खास बात यह है कि इस वाकये का भी वुहान की लैब से कनेक्शन था।

2012 में क्या हुआ था
वैज्ञानिकों को पता लगा है कि चीन के दक्षिणपश्चिम के युन्नान प्रांत की मोजियांग खदान में ये 6 मजदूर बीमार पड़े थे। ये लोग खदान में चमगादड़ का मल साफ कर रहे थे। द सन की रिपोर्ट के मुताबिक इन मजदूरों का इलाज करने वाले फिजिशन लू सू ने पाया था कि मरीजों को तेज बुखार, सूखी खांसीं, हाथ-पैर में दर्द और कुछ मामलों में सिरदर्द था। ये सभी लक्षण आज कोविड-19 के हैं। यह खदान वुहान से 1000 मील दूर है लेकिन इस घटना के तार फिर भी वुहान की वायरॉलजी लैब से कनेक्शन था।

पिछले साल ऐसे लीक हुआ वायरस
वायरॉलजिस्ट जोनाथन लैथम और मॉलिक्यूलर बायॉलजिस्ट ऐलिसन विल्सन बायोसाइंस रिसॉर्स प्रॉजेक्ट के लिए इथका में काम करते हैं और उन्होंने ली शू की थीसिस पढ़ी है। उन्होंने बताया है कि थीसिस में जो सबूत हैं उन्हें देखने के बाद वे महामारी को नई तरह से समझ रहे हैं।

जोनाथन ने दावा किया है कि मजदूरों के सैंपल टिशू वुहान लैब भेजे गए थे और उन्होंने न्यूयॉर्क पोस्ट से बातचीत में दावा किया है कि वहीं से वायरस लीक हुआ। यहां इस बात का पता लगाया गया था कि चमगादड़ से ही यह घातक वायरस निकला है।

वुहान की लैब आरोपों के घेरे में
कोरोना वायरस फैलने के बाद से चीन का वुहान आरोपों के केंद्र में है। कहा जाता है कि यहां के वेट मार्केट से वायरस फैला जबकि यह भी आरोप है कि दरअसल वायरस वुहान की वायरॉलजी लैब से लीक हुआ। यहां चमगादड़ों में पाए जाने वाले खतरनाक वायरस पर रिसर्च होती है।

हालांकि, लैब के अधिकारियों और वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्हें यह SARS-CoV-2 लोगों में इन्फेक्शन फैलने के बाद मिला था, पहले नहीं।

loading...
loading...

Check Also

हाथरस : गैंगरेप आरोपियों के परिवार में जातिवाद का घमंड, बोले- इनके साथ हम बैठते नहीं, हमारे बच्चे इनकी बेटी को छुएंगे क्या?

दिल्ली से 160 किलोमीटर दूर है हाथरस गैंगरेप पीड़ित का गांव बूलगढ़ी। ठाकुर और ब्राह्मण ...