Thursday , January 21 2021
Breaking News
Home / ख़बर / अन्नदाता से धोखा : 1 फीट की गाजर उगने का बताकर बेचा बीज, खेत में निकली बौनी फसल

अन्नदाता से धोखा : 1 फीट की गाजर उगने का बताकर बेचा बीज, खेत में निकली बौनी फसल

इंदौर : कंपेल गांव के किसान ने 600 रुपए प्रति किलो की कीमत से 8 किलो गाजर के बीज खरीदे। बीज विक्रेता ने बताया था कि करीब 1 से डेढ़ फीट की गाजर उगेगी। करीब आठ से दस लाख की गाजर उगने की उम्मीद थी, लेकिन जब खेत से गाजर निकालना शुरू किया, तो सारी उम्मीदों पर पानी फिर गया। लंबे-चौड़े पौधे में करीब 3 इंच की बौनी गाजर निकली।

किसान ने इसकी शिकायत उद्यानिकी विभाग के अफसराें से की। अफसरों ने मौका- मुआयना के बाद बयान भी दर्ज किए। इसके बाद अफसर नंदलालपुरा स्थित बीज की दुकान पर भी पहुंचे और बीज व उसकी कंपनी के संबंध में जानकारी ली। इस पर किसान ने गाजर की फसल तीन इंच की होने पर मुआवजे की मांग भी की है।

किसान की शिकायत पर उद्यानिकी विभाग व कृषि वैज्ञानिक का दल गाजर के खेत पर पहुंचा। किसान महेंद्र चौधरी ने बताया कि जांच में अधिकारियों के द्वारा पंचनामा बनाकर मौके पर पाया कि जो गाजर खेत में उगी है, उसकी साइज किसान की शिकायत के आधार पर सही है। गोल्डन सीड्स की गोल्डन रोजी वेराइटी का बीज जो दुकानदार से खरीदा गया था और जो साइज गाजर का बताया गया था, वह नहीं है। खेत में बिल्कुल बौना साइज उगा है।

वहीं, अधिकारियों ने पाया कि किसान ने सही मात्रा में दवाई खाद का उपयोग किया, फिर भी फसल बाजार में बेचने लायक नहीं रही। कंपनी व दुकानदार द्वारा जो साइज व क्वालिटी बताई गई, उससे भिन्न फसल खेत में उगी, जिससे किसान को लाखों रुपए का नुकसान हुआ।

पीड़ित किसान ने बताया कि अधिकारियों ने सलाह दी है कि आप की फसल पक चुकी है। जो भी भाव बिके खेत खाली करके आगे की फसल की तैयारी कर ली जाए। वहीं, अफसरों ने नंदलालपुरा स्थित बीज भंडार पर जाकर भी बीज के संबंध में जांच की है। इसकी रिपोर्ट वरिष्ठ अफसरों को सौंपने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह है मामला
कंपेल गांव के एक किसान ने सितंबर में अपने खेत में गाजर बोई। जिस कंपनी का बीज बोया उसके अफसरों के मुताबिक लगभग एक फीट की गाजर उगनी चाहिए, लेकिन 3 इंच लंबी गाजर ही उगी हैं। ऐसे में किसान ने घटिया बीज के संबंध में उद्यानिकी विभाग में शिकायत की थी। किसान महेंद्र चौधरी के मुताबिक, मैंने गोल्डन सीड्स की वेरायटी गोल्डन रोजी के नाम का 600 रुपए किलो वाला 8 किलो गाजर का बीज कृषि सुधार बीज भंडार नंदलालपुरा से खरीदा था। अब जबकि फसल तैयार हुई तो गाजर की लंबाई तीन इंच के आसपास है। मुझे प्रमाणित कंपनी के बीज के नाम पर घटिया बीज दे दिया गया। मैंने उद्यानिकी विभाग के वरिष्ठ कृषि अधिकारी को क्षतिपूर्ति की मांग की है, क्योंकि मुझे गाजर के खरीदार भी नहीं मिल रहे।

loading...
loading...

Check Also

सबसे भरोसेमंद साथी को यूपी की राजनीति में उतार दिए पीएम मोदी, जानिए क्यों?

उत्तर प्रदेश के अगले विधानसभा चुनावों को लेकर बीजेपी ने अभी से अपनी रणनीति बनानी ...