Thursday , July 16 2020
Breaking News
Home / ख़बर / दिल्ली में कोरोना ने ढा दिया कहर, 62 लोगों की मौत, सिर्फ इतना है रिकवरी रेट

दिल्ली में कोरोना ने ढा दिया कहर, 62 लोगों की मौत, सिर्फ इतना है रिकवरी रेट

 

नई दिल्ली: देश में बढ़ते कोरोनावायरस के मामलों के बीच दिल्ली में इस खतरनाक वायरस से संक्रमित होने वालों का आंकड़ा 87 हजार के पार हो गया है. पिछले 24 घंटों में 2199 नए मामले सामने आने के साथ ही यहां संक्रमितों की संख्या बढ़कर 87,360 हो गई है. वहीं पिछले 24 घंटों में 2113 मरीज ठीक भी हुए हैं और अब तक कुल 58,348 मरीज ठीक हो चुके हैं. पिछले 24 घंटों में यहां 62 मरीजों की मौत इस वायरस के चलते हुई. दिल्ली में इस जानलेवा वायरस ने अब तक कुल 2742 मरीजों की जान ले ली है. पिछले 24 घंटों में 17,179 टेस्ट हुए और अब तक कुल 5,31,752 टेस्ट हो चुके हैं.

दिल्ली में अब कोरोना वायरस के एक्टिव मामले 26,270 हैं.  होम आइसोलेशन में 16,240 मरीज़ हैं. रिकवरी रेट अब 66.79 प्रतिशत है. मंगलवार को समाप्त 24 घंटे का पॉजिटिविटी रेट 12.80 रहा. अब तक का औसत पॉजिटिविटी रेट 16.42 प्रतिशत है.

दिल्ली में कोरोना की रैपिड एंटीजन टेस्टिंग बड़े पैमाने पर बढ़ाने के आदेश दे दिए गए हैं. केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश पर दिल्ली सरकार ने अपने सभी डीएम को इस बारे में आदेश दिया है. हर DM को रोज़ाना अपने ज़िले में 2,000 एंटीजन टेस्ट का लक्ष्य दिया गया है. अभी दिल्ली में हर जिले में औसत 1,000 एंटीजन टेस्ट हो रहे हैं. दिल्ली में कुल 11 ज़िले हैं.

एंटीजन टेस्ट के सेंटर भी 193 से बढ़ाकर 250 करने के निर्देश दिए गए हैं. नए टेस्ट केंद्र कंटेनमेंट जोन के पास खोलने के निर्देश दिए गए हैं. इसके अलावा दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने ICMR की गाइडलाइंस के हिसाब से एंटीजन टेस्ट का दायरा बढ़ाने के निर्देश दिए हैं.

अभी तक रैपिड एंटीजन टेस्ट केवल कंटेनमेंट जोन में हो रहे थे. ICMR के दिशानिर्देश के मुताबिक अब इन सभी जगहों पर रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की व्यवस्था होगी –  सभी कंटेनमेंट जोन में,  केंद्र और राज्य सरकार के अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में, NABH द्वारा मान्यता प्राप्त प्राइवेट अस्पतालों में और ICMR द्वारा अधिकृत प्राइवेट कोरोना टेस्टिंग लैब में.

Check Also

कोरोना: हॉस्पिटल ने मरीज़ का माफ किया ₹1.52 करोड़ का बिल, वजह भी जान लीजिये

कोरोना वायरस की वजह से बहुत से लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। सरकारी अस्पताल में ...