Sunday , September 20 2020
Breaking News
Home / खेल / वो COOL बंदा ले लिया संन्यास, जिसने पूरा किया ‘भगवान’ का अधूरा ख्वाब

वो COOL बंदा ले लिया संन्यास, जिसने पूरा किया ‘भगवान’ का अधूरा ख्वाब

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है. अब वो टीम इंडिया के लिए नहीं खेलेंगे हालांकि आईपीएल में वो चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए खेलना जारी रखेंगे. कभी खड़गपुर स्टेशन पर टिकट चेक करने वाले लड़के के बारे में किसी ने सोचा न होगा कि वह एक दिन भारत का सफलतम कप्तान बन जाएगा. लेकिन धोनी ने इसे सच कर दिखाया.

आपको याद होगा.. क्रिकेट के ‘भगवान’ कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने बल्ले से हर मुमकिन मुकाम पा लिया था, पर 5 वर्ल्ड कप खेलने के बाद भी वह ट्राफी उठाने में नाकाम रहे थे. वर्ल्ड कप जीतना उनका सपना था. सचिन के इस सपने को धोनी ने 2011 वर्ल्ड कप के दौरान वानखेड़े में छक्का जड़कर पूरा किया था. धोनी की कप्तानी में सचिन का वर्ल्ड कप जीतना भारतीय क्रिकेट के सबसे सुनहरे पलों में से एक है.

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने न सिर्फ ‘लिटिल मास्टर’ सचिन का सपना पूरा किया बल्कि इंडियन टीम को 1983 के बाद दूसरी बार विश्व विजेता भी बनाया. इसके अलावा धोनी ने 2007 में टीम इंडिया का T20 वर्ल्ड कप में सफल नेतृत्व किया और 2013 चैंपियंस ट्राफी में भी टीम ने उनकी कप्तानी में ट्राफी जीती.

धोनी मैच को बिल्कुल अपने बूते ख़त्म करते रहे हैं और इसमें अमूमन उनके ‘कैलकुलेशन’ की अहम भूमिका रही है. जब उनकी समझ में आ गया कि मैच उनके हाथ से निकल गया तो जबरन बल्ला घुमा कर विकेट गंवाने की हीरोगीरी उन्होंने नहीं दिखाई है. लेकिन ऐसे ढेर सारे मौक़े आए हैं जब आख़िरी ओवरों में ख़ुद अपने कंधों पर ज़िम्मेदारी  लिए रहने के लिए उन्होने एक-एक रन छोड़े हैं और अंत में लंबे शॉट लगाकर लक्ष्य हासिल किया है.

इस बार भी ऐसा ही हुआ है. धोनी ने संन्यास का फैसला बहुत कैलकुलेट करके ही लिया होगा. भारतीय क्रिकेट को सुनहरी यादें देने के लिए शुक्रिया माही.

Check Also

रेलवे ने दी एक और बड़ी खुशखबरी, ट्रेनों में नहीं मिलेगी वेटिंग, त्योहारों के सीजन में सुहाना होगा सफर

भोपाल। कोरोना संकट के बीच भारतीय रेलवे 21 सितंबर से और नई 20 जोड़ी क्लोन ट्रेनों ...