Sunday , November 29 2020
Breaking News
Home / ख़बर / Exit Polls ने बिहार में जगाई उम्मीद तो ऐक्शन में आई कांग्रेस, दिग्गजों को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी

Exit Polls ने बिहार में जगाई उम्मीद तो ऐक्शन में आई कांग्रेस, दिग्गजों को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी

नई दिल्ली/पटना
बिहार में वोटिंग प्रक्रिया संपन्न होने के बाद जिस तरह से एग्जिट पोल (Bihar Chunav Exit Poll) के नतीजे सामने आए हैं उससे कांग्रेस नेतृत्व (Congress) खासा उत्साहित नजर आ रहा है। यही वजह है कि पार्टी ने आगे की तैयारी को लेकर मंथन में जुट गई है। इसी के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) और अविनाश पांडे (Avinash Pandey) को अहम जिम्मेदारी सौंपी है। दोनों नेताओं को बिहार का पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है।

सुरजेवाला-अविनाश पांडे बनाए गए बिहार के पर्यवेक्षक
बिहार विधानसभा चुनाव में तीसरे और आखिरी चरण की वोटिंग के बाद अब सभी की निगाहें 10 नवंबर पर टिकी है, जब मतगणना के साथ जनता का फैसला सामने आएगा। इस बीच सभी प्रमुख सियासी दल आगे की रणनीति बनाने में जुट गए हैं। खास तौर से कांग्रेस आलाकमान ने अहम फैसला लेते हुए पार्टी महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला और अविनाश पांडे को बिहार का पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। दोनों नेता आज पटना पहुंचेंगे। बिहार चुनाव नतीजों के बाद की स्थिति पर केंद्रीय नेतृत्व से बातचीत करेंगे और जो भी फैसला होगा वो लेंगे।

एग्जिट पोल के नतीजों से कांग्रेस आलाकमान हुआ सक्रिय
बिहार चुनाव को लेकर अब तक सामने आए कई एग्जिट पोल्स में एनडीए के मुकाबले महागठबंधन की स्थिति को मजबूत बताया गया है। टाइम्स नाउ-सी वोटर ने एनडीए को 116 और महागठबंधन को 120 सीटों का अनुमान जताया है। टुडेज चाणक्या ने एनडीए को 55 सीटें और महागठबंधन को 180 सीटें जाने का अनुमान जताया है। रिपब्लिक-जन की बात ने एनडीए को 91 से लेकर 117, एबीपी-सीवोटर ने 104 से लेकर 128 और टीवी9 भारतवर्ष ने 110 से 120 सीटों की बात कही है।

एग्जिट पोल में NDA से मजबूत नजर आ रहा महागठबंधन
इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया के एग्जिट पोल के मुताबिक, बिहार में महागठबंधन को 139 से 161 तक सीटें मिल सकती हैं। एनडीए 100 से भी कम सीटों पर सिमट सकता है यानी नीतीश कुमार की सत्ता से विदाई होते दिख रही है। एग्जिट पोल के अनुसार, इस बार एनडीए सिर्फ 69 से 91 सीटों के बीच में सिमट सकती है।

loading...
loading...

Check Also

‘मीडिया पर मत करें भरोसा, अगर ये किसान चरमपंथी होते तो इनके हाथ में बर्तन नहीं बंदूक होती’

सत्ताधारी दल के समर्थक और मीडिया के तमाम लोग किसानों को भले ही खालिस्तानी समर्थक ...