Thursday , October 22 2020
Breaking News
Home / ख़बर / दिल्ली में कब्रिस्तान में बढ़ाई गई जगह, वजह- कोरोना से बढ़ती मौतें !

दिल्ली में कब्रिस्तान में बढ़ाई गई जगह, वजह- कोरोना से बढ़ती मौतें !

नई दिल्ली
देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना का कहर अब धीरे-धीर कम होता दिखाई दे रहा है, लेकिन कोरोना से मरने वालों की संख्या में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। इसी बीच दिल्ली में कोविड-19 के कारण होने वाली मौत के मामलों में बढ़ती संख्या के मद्देनजर मध्य दिल्ली स्थित आईटीओ के कब्रिस्तान में कोरोना वायरस से जान गंवाने वालों के शवों को दफनाने के लिए पांच से छह एकड़ का अतिरिक्त स्थान तैयार किया गया है।

दिल्ली गेट के पास स्थित अहले इस्लाम कब्रिस्तान के सचिव हाजी मियां फैय्याजुद्दीन ने कहा कि वायरस से मौत होने के मामले के रोजाना औसतन दो-तीन शव दफनाने के लिए लाए जाते हैं लेकिन पिछले कुछ दिनों में इस संख्या में इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि पिछले दो-तीन दिन में कोविड-19 से मरने वालों के चार-पांच शव रोजाना दफनाने के लिए लाए जा रहे हैं जबकि पहले दो-तीन शव ही आ रहे थे।

अब तक दफनाए जा चुके 700 से ज्यादा शव
फैय्याजुद्दीन ने कहा कि आईटीओ के इस कब्रिस्तान में अप्रैल से कोविड-19 से जान गंवाने वालों के शवों को दफनाया जा रहा है और अब तक यहां करीब 700 से अधिक शव दफनाए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि हमने कब्रिस्तान में झाड़ियों को हटाकर पांच-छह एकड़ की अतिरिक्त जगह तैयार की है, जिसमें 100 से अधिक शवों को कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत दफनाया जा सकता है।

बीते 10 दिनों में प्रतिदिन हुईं 30 से ज्यादा मौतें
दिल्ली सरकार के आंकड़ों के अनुसार अगर हम सितंबर से लेकर अक्टूबर तक के आंकड़ों पर नजर डालें तो 6 अक्टूबर को को कोरोना के कारण होने वाली मौतों की संख्या 39 वहीं 5 अक्टूबर 32 , 4 अक्टूबर को बढ़कर ये 38 हो गई थी, इसी क्रम में 3 अक्टूबर को 34 मौतें, 2 अक्टूबर 37 मौतें, 1 अक्टूबर 40 मौतें, 30 सितंबर 41 मौतें, 29 सितंबर 48 मौतें, 28 सितंबर 37 मौतें, 27 सितंबर 42 मौतें हुईं हैं

तारिख मौत
6 अक्टूबर 39
5 अक्टूबर 32
4 अक्टूबर 38
3 अक्टूबर 34
2 अक्टूबर 37
1 अक्टूबर 40
30 सितंबर 41
29 सितंबर 48
28 सितंबर 37
27 सितंबर 42
loading...
loading...

Check Also

इस बड़े शहर में आलूबंडा-चूना हुआ बैन, जानिए आखिर क्या है माजरा ?

क्या आपने कभी सुना है, कि शहर की शांति के लिए आलूबंडा और चूना को ...