Thursday , September 24 2020
Breaking News
Home / ख़बर / जापान: शिंजो आबे दे सकते हैं PM पद से इस्तीफा, खराब स्वास्थ्य को बताया कारण

जापान: शिंजो आबे दे सकते हैं PM पद से इस्तीफा, खराब स्वास्थ्य को बताया कारण

तोक्‍यो :  जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे स्‍वास्‍थ्‍य कारणों से अपने पद से इस्‍तीफा देने जा रहा है। शिंजो आबे पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे हैं और उन्‍हें कई बार हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा है। बताया जा रहा है कि शिंजो आबे जल्‍द ही इसका औपचारिक रूप से ऐलान कर सकते हैं। शिंजो आबे एक सप्‍ताह के अंदर दो बार हॉस्पिटल जा चुके हैं। श‍िंजो आबे के इस्‍तीफे की अटकलों के बीच जापान का शेयर बाजार धराशायी हो गया है।

जापान के सत्‍ताधारी दल ने कहा है कि आबे की तबीयत ठीक है लेकिन उनके लागातार हॉस्पिटल जाने से अफवाहों का बाजार गरम हो गया है। अब बताया जा रहा है कि आबे अपने पद से इस्‍तीफा देने जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि पिछली बार जब आबे हॉस्पिटल गए थे तब वह करीब 7 घंटे तक वहां रहे थे। उनका कार्यकाल सितबंर 2021 तक है।

गत सोमवार को आबे ने अपने कार्यालय में 8 साल पूरे कर ल‍िए और वह जापान के सबसे ज्‍यादा समय तक रहने वाले प्रधानमंत्री बन गए थे। हाल के दिनों में कोरोना वायरस को ठीक से नहीं संभालने पर उनकी लोकप्रियता में भी करीब 30 प्रतिशत की कमी आई है। उनकी पार्टी इन दिनों कई घोटालों से जूझ रही है। 65 साल के आबे ने देश की अर्थव्‍यवस्‍था को फिर से पटरी पर लाने का वादा किया था। चीन के खतरे को देखते हुए आबे जापानी सेना को भी मजबूत करने में जुटे हुए थे।

मौजूदा वित्त मंत्री तारो आसो बन सकते हैं कार्यवाहक प्रधानमंत्री

आबे के स्वास्थ्य को लेकर आ रही खबरों के बीच अटकलें लगनी शुरू हो गई थी कि वो 2021 में अपना कार्यकाल समाप्त होने से पहले ही कुर्सी छोड़ देंगे।  आबे के बाद मौजूदा वित्त मंत्री तारो आसो कार्यवाहक प्रधानमंत्री बन सकते हैं। आबे 17 अगस्त को अस्पताल गए थे, जहां सात घंटे से ज्यादा समय तक उनकी स्वास्थ्य जांच हुई। एक हफ्ते बाद वो फिर से उसी अस्पताल में जांच के लिए गए थे।

इस बीमारी से जूझ रहे हैं आबे

आबे अल्सरेटिव कोलाइटिस (पाचनतंत्र से जुड़ी एक बीमारी) से जूझ रहे हैं। इस बीमारी के कारण 2007 में भी उन्हें कुछ समय के लिए प्रधानमंत्री पद छोड़ना पड़ा था। हालांकि, LDP के सहयोगियों का कहना है कि आबे अगले साल सितंबर तक पार्टी प्रमुख और देश के प्रधानमंत्री बने रहेंगे। सरकार के मुख्य प्रवक्ता ने भी कहा है कि वो दो बार आबे से मिल चुके हैं और उन्हें नहीं लगता कि उनकी तबीयत खराब है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले डॉक्टर की सलाह लेंगे आबे

मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि आबे शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करने से पहले फोन कर डॉक्टर से अपने स्वास्थ्य को लेकर सलाह लेंगे।अगले महीने 66 वर्ष के हो रहे आबे पिछले कई सालों से इस बीमारी से जूझ रहे हैं। 2012 में जब वो दूसरी बार प्रधानमंत्री बने थे तब उन्होंने कहा था कि वो दवाओं के सहारे बीमारी को नियंत्रित करने में सफल रहे हैं।

आलोचनाओं से घिरे हैं आबे

पिछले कुछ समय से आबे लगातार आलोचनाओं से घिरे हुए हैं। कोरोना वायरस महामारी से निपटने के तरीके को लेकर उन पर सवाल उठ रहे हैं। कोरोना वायरस संकट के कारण पूरी दुनिया की तरह जापान की अर्थव्यवस्था भी संंघर्ष कर रही है और यह ऐतिहासिक रूप से निचले स्तर पर है। साथ ही वो अपनी पार्टी के सदस्यों पर लगे स्कैंडल के आरोपों के कारण भी विरोध का सामना कर रहे हैं।

जापान में कोरोना के कितने मामले?

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के मुताबिक, जापान में अब तक कोरोना वायरस के 65,653 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं 1,241 लोगों को इस खतरनाक वायरस के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी है।

Check Also

मौत को हराने वाला है हरियाणा, लगातार दूसरे दिन आई अच्छी खबर, सुकून की सांस देगा ये आंकड़ा

हरियाणा : प्रदेश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के नए केस 2 हजार से कम ...