Thursday , October 29 2020
Breaking News
Home / क्राइम / कमलेश तिवारी हत्याकांड : पकड़े गए हत्यारोपियों ने कबूला गुनाह, बताई हत्या की वजह

कमलेश तिवारी हत्याकांड : पकड़े गए हत्यारोपियों ने कबूला गुनाह, बताई हत्या की वजह

अहमदाबा । लखनऊ में कमलेश तिवारी हत्याकांड में फरार चल रहे दोनों मुख्य आरोपित अशफाक और मोइनुद्दीन को गुजरात एटीएस की टीम ने शामलाजी से गिरफ्तार कर लिया है। दोनों आरोपित नेपाल से शाहजहांपुर आए थे। यहां उनके पास पैसे खत्म होने पर उन्होंने गुजरात में अपने परिवार से मदद मांगी। इस बीच जब वह सूरत जाने के लिए राजस्थान सीमा पर पहुंचे तो एटीएस टीम ने शामलाजी से उन्हें पकड़ लिया।

two men suspected of killing kamlesh tiwari arrested from gujarat-rajasthan border

कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने इन दोनों आरोपितों पर ढाई-ढाई लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। इससे पहले हत्याकांड में पुलिस तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है। आज जब उत्तर प्रदेश पुलिस सूरत पहुंची तो उन्होंने आरोपितों के घर पर जांच पड़ताल की।

हिंदू समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या की योजना उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बनाई गई थी। कमलेश तिवारी ने दिसंबर 2015 में मुहम्मद पैगंबर साहब के विरोध में एक विवादास्पद बयान दिया। इसी को लेकर फैजान, मोहसिन, अशफाक, फरीद और राशिद ने कमलेश तिवारी को मारने की योजना बनाई थी। हालांकि, उस समय राशिद दुबई जा रहा था। नौकरी छोड़ने के दो महीने पहले जब वह सूरत आया था, तब उसे यह याद आया। लिम्बायत पद्मावती सोसाइटी में गली नंबर-1 में ग्रीन व्यू अपार्टमेंट के नीचे बैठकर फैजान, मोहसिन, अशफाक, फरीद और राशिद ने हत्या की योजना बनाई।

16 मई को फैज़ान ने अपने दोस्त के साथ पेटू सैलून की दुकान से मिठाई खरीदी। अशफाक राशिद का पड़ोसी है। 15 अक्टूबर को एक बैठक में राशिद ने कहा कि अगर आप लोग नहीं जा सकते, तो मैं मारने जा रहा हूं। तब फरीद और अशफाक ने कहा कि हम कमलेश को मारने जा रहे थे और वह फरीद के साथ लखनऊ चला गया और उसने हत्या कर दी।

गुनाह कुबूला: गुजरात एटीएस के डीआईजी हिमांशु शुक्ला ने बताया कि दोनों आरोपियों ने अपना गुनाह कुबूल भी कर लिया है। यूपी के डीजीपी को इस गिरफ्तारी की सूचना दे दी गई है। इन दोनों ने 18 अक्तूबर को लखनऊ के खुर्शेदबाग में कमलेश तिवारी की घर में घुसकर हत्या कर दी थी। दोनों भगवा वेश में वारदात करने पहुंचे थे। हत्या के बाद होटल खालसा इन में इन लोगों ने कपड़े बदले और ट्रेन से बरेली भाग गए।

अशफाक एमआर और मोइनुद्दीन डिलीवरी ब्वॉय: गुजरात एटीएस के मुताबिक अशफाक (34) सूरत में ग्रीन व्यू अपार्टमेंट और मोइनुद्दीन (27) सूरत के उमरवाड़ा की लोकास्ट कॉलोनी के रहने वाले हैं। अशफाक एक निजी कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव और मोइनुद्दीन फूड डिलीवरी ब्वॉय है। ये लोग सूरत से 17 अक्तूबर की रात लखनऊ पहुंचे थे। 18 अक्तूबर को हत्या के बाद से ही ये फरार चल रहे थे।

तीन साजिशकर्ता पहले से गिरफ्तार
कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश रचने वाले मुख्य आरोपी रशीद पठान उर्फ राशिद, मोहसिन शेख और फैजान घटना के दूसरे दिन ही सूरत में पकड़ लिए गए थे। इनमें फैजान ने ही सूरत में एक दुकान से मिठाई खरीदी थी। हत्यारे मिठाई के डिब्बे में ही पिस्टल और चाकू छिपाकर लाए थे।

loading...
loading...

Check Also

पंजाब में रावण की जगह जलाया था भगवान राम का पुतला, शरारती तत्वों के साथ अब ऐसा हुआ

पंजाब के अमृतसर जिले में मानांवाला गांव में कुछ शरारती लोगों ने दशहरे वाले दिन ...