Wednesday , January 20 2021
Breaking News
Home / ख़बर / चीन सरकार के गुनाहों का की सजा भुगत रही जनता, कोरोना की नई लहर से मच गया हाहाकार!

चीन सरकार के गुनाहों का की सजा भुगत रही जनता, कोरोना की नई लहर से मच गया हाहाकार!

चीन में कोरोना की नई लहर से फिर से सनसनी मची हुई है। कोरोना पर जीत का दावा करने वाले चीन ने कुछ दिनों पहले ही अपने अधिकतर शहरों से पाबंदियों को हटा लिया था। नए साल के पहले दिन भी चीन के कई शहरों में बड़े स्तर पर पार्टियां आयोजित की गई थीं। इनमें हुबेई प्रांत का वुहान शहर भी शामिल है, जहां से आई पार्टियों की तस्वीरों ने कोरोना के कहर से जूझ रही दुनिया का ध्यान खींचा था।

अब चीन का हेबेई प्रांत बना कोरोना का एपिसेंटर
अब एक बार फिर कोविड-19 की नई लहर के दौरान राजधानी पेइचिंग से दक्षिण में स्थित हेबेई प्रांत में संक्रमण के 380 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। हेबेई के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि 40 नए मामलों की पुष्टि रविवार सुबह हुई जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 223 हो गई। वहीं 161 लोगों में संक्रमण के लक्षण नहीं हैं।

लोगों के हेबेई से पेइचिंग जाने पर लगी रोक
चीन संक्रमितों की संख्या में उन लोगों को शामिल नहीं करता है, जिनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, लेकिन कोई लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं। हेबेई में आ रहे नए मामले राजधानी बीजिंग से निकटता के कारण चिंता का विषय बने हुए हैं। हेबेई और पेइचिंग के बीच लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। हेबेई से जो लोग बीजिंग जाना चाहते हैं उन्हें प्रवेश से पहले राजधानी में अपने काम करने का साक्ष्य देना पड़ रहा है।

सार्वजनिक यातायात को भी किया गया बंद
हेबेई में आए ज्यादातर मामले प्रांतीय राजधानी शिजुआजुआंग से हैं जो कि बीजिंग से करीब 260 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। कुछ मामले शिंगताई शहर में भी आए हैं। दोनों ही शहरों में लाखों लोगों की जांच की गई है, सार्वजनिक यातायात और टैक्सियों पर रोक लगा दी गई है तथा यहां के निवासियों को एक सप्ताह तक बाहर निकलने पर रोक है।

विदेश से लौटे लोग मिल रहे कोरोना संक्रमित
चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन (राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग) ने इससे पहले रविवार को बताया था कि इसके एक दिन पहले 69 नए मामले आए थे, जिनमें से 21 लोग वैसे थे, जो विदेश से लौटे हैं। चीन पर यह भी आरोप लगते रहे हैं कि वह कोरोना से संक्रमित लोगों के वास्तविक आंकड़ो को आजतक सार्वजनिक नहीं किया है।

loading...
loading...

Check Also

दूध में जहर के स्तर पर हो रही है मिलावट, FSSAI ने किए डरावने खुलासे

पिछले 2 दशकों से भारत में लगातार इंटेस्टाइन, लिवर या किडनी डैमेज जैसी खतरनाक बीमारियों ...