Thursday , April 22 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / Kumbh 2021 : हरिद्वार कुंभ में कोरोना नियमों का होगा सख्ती से पालन, पढ़े ये नियम

Kumbh 2021 : हरिद्वार कुंभ में कोरोना नियमों का होगा सख्ती से पालन, पढ़े ये नियम

अगर आप हरिद्वार कुंभ मेला 2021 (Kumbh Mela Haridwar 2021) में स्नान करने जाने के बारे में सोच रहे हैं तो ये खबर आपके लिए बहुत जरूरी है. दरअसल उत्तराखंड (Uttarakhand) के मुख्य सचिव (Chief Secretary) ओम प्रकाश की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि मेला परिसर में अगर कोई भी व्यक्ति COVID19 को ध्यान में रखते हुए जारी किए गए SOP का उल्लंघन करते हुए पाया जाता है तो उस पर सख्त कार्रवाई होगी. वहीं श्रद्धालुओं  को मेले में आने के पहले अपनी RT-PCR report ऑनलाइन अपलोड करनी होगी. ये रिपोर्ट 72 घंटे से पुरानी नहीं होनी चाहिए. इसी रिपोर्ट के आधार पर श्रद्धालुओं  को मेला परिसर में जाने के लिए E-pass जारी किया जाएगा.

स्पाइस हेल्थ कर रहा है कोविड जांच SpiceHealth RT-PCR tests
विमानन कंपनी स्पाइसजेट के प्रमोटर्स की ओर से शुरू की गई कंपनी SpiceHealth ने कुंभ मेले में जाने वाले श्रद्धालुओं  को RT-PCR tests की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए उत्तराखंड के बॉर्डर पर पांच जगहों पर खास कैंप लगाए हैं इन कैंपों में 26th February, 2021 से rapid antigen tests किया जा रहा है. SpiceHealth ने  ने उत्तराखंड सरकार ( Government of Uttarakhand)से समझौता किया है जिसके तहत कुंभ मेले में आने वाले श्रद्धालुओं  का RT-PCR tests और Rapid Antigen tests किया जाएगा.  इस सुविधा के लिए कंपनी ने हरिद्वार में कई जगहों पर मोबाइल लैब भी लगाई हैं.

COVID19 के चलते होटलों ने किए खास इंतजाम Hotels made special arrangements
COVID19 को ध्यान में रखते हुए श्रद्धालुओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कई होटल खास ऑफर दे रहे हैं. गंगा के किनारे बने कई होटलों ने गंगा में स्नान के लिए प्राइवेट घाट और प्राइवेट आरती तक का इंतजाम किया है.  वहीं इन सुविधाओं के साथ ही होटल में रुकने वाले ग्राहकों को काढ़ा पीने को दिया जा रहा है.पसंद के मुताबिक काढ़े में कई तरह के फ्लेवर का भी इंतजाम है.  Leisure Hotels Group के निदेशक विभास प्रसाद के मुताबिक कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए हरिद्वार में सभी होटल कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कर रहे हैं. कुंभ के लिए हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए हर की पौड़ी Har-Ki-Pauri) के करीब मौजूद होटल जैसे Haveli Hari Ganga, Ganga Lahari आदि ने श्रद्धालुओं के लिए गंगा नहाने के लिए प्राइवेट घाट का इंतजाम किया है. साथ ही होटलों में सेनेटाइजेशन और खाने पीने को लेकर खास ध्यान रखा जा रहा है. खाने में कई तरह की इम्यूनिटी बढ़ाने वाली डिश भी परोसी जा रही है.

Kumbh Mela इस बार सिर्फ 28 दिन का होगा Kumbh Mela 2021
Haridwar Kumbh 2021: कोरोना महामारी के मद्देनजर हरिद्वार में आयोजित होने वाला कुंभ मेला (Kumbh Mela 2021) इस बार सिर्फ 28 दिन का होगा. उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने साधु-संतों से चर्चा के बाद यह फैसला किया है. कुंभ मेला एक अप्रैल से 28 तक आयोजित किया जाएगा. जल्द ही उत्तराखंड सरकार इसको लेकर अधिसूचना जारी करेगी. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने कहा कि कुंभ मेला 1 से 28 अप्रैल तक आयोजित किया जाएगा. पहले हरिद्वार में आयोजित कुंभ चार महीने  का होता रहा है. वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भी कुंभ मेले के संबंध में SOP यानि स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर जारी कर चुका है. कुंभ मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा बनाई गई इस एसओपी का पालन करना होगा.

साधु संतों से बातचीत करने के बाद फैसला (Decision after talking to saints)
दरअसल, उच्च न्यायालय (High Court) ने भी कोविड 19 (Covid 19) को देखते हुए राज्य सरकार को कुंभ के समय को कम करने के लिए कहा था. इस बारे में साधु-संतों से बातचीत  के बाद यह फैसला लिया गया कि कुंभ एक अप्रैल से 28 अप्रैल तक होगा. गौरतलब है कि हरिद्वार में इस बार कुंभ 12 साल की बजाए 11 साल के बाद हो रहा है. वैसे कुंभ 12 साल बाद होता है. हरिद्वार कुंभ का पहला शाही स्नान, महाशिवरात्रि (Mahashivratri) के अवसर पर 11 मार्च को होगा. 11 मार्च शिवरात्रि को पहले शाही स्नान पर संन्यासियों के सात और 27 अप्रैल वैशाख पूर्णिमा पर बैरागी अणियों के तीन अखाड़े कुंभ में स्नान करते हैं. 12 अप्रैल सोमवती अमावस्या और 14 अप्रैल मेष संक्रांति के मुख्य शाही स्नान पर सभी 13 अखाड़ों का हरिद्वार कुंभ में स्नान (Kumbh Snan) होगा.

loading...
loading...

Check Also

बड़ी आफत : अब कोरोना के ट्रिपल म्यूटेशन ने बढ़ाई चिंता, छह सैंपल में पाए गए तीन नए वेरिएंट

देहरादून के छह सैंपल में पाए गए तीन नए वेरिएंट, जानिए कितना खतरनाक है ये ...