Thursday , October 29 2020
Breaking News
Home / क्राइम / LAC पर तनातनी खत्‍म करने को चीन ने रखी शर्त, भारत का जवाब- पहले हमारी सुनो.. फिर कुछ बोलना..

LAC पर तनातनी खत्‍म करने को चीन ने रखी शर्त, भारत का जवाब- पहले हमारी सुनो.. फिर कुछ बोलना..

नई दिल्‍ली
पूर्वी लद्दाख सीमा पर तनाव खत्‍म करने को जारी बातचीत में चीन की दाल नहीं गल रही। उसने शर्त रखी थी कि पहले भारतीय सेना पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर ऐडवांस्‍ड पोजिशंस से वापस जाए। भारत ने चीन से दो टूक कह दिया है कि अगर सेनाएं हटेंगी तो दोनों तरफ से हटेंगी। एकतरफा ऐक्‍शन नहीं होगा। द इंडियन एक्‍सप्रेस ने उच्‍चपदस्‍थ सरकारी सूत्रों के हवाले से लिखा है कि भारत ने चीनी अतिक्रमण का जवाब देने के लिए सात जगह पर लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) को पार किया है।

ऐडवांटेज हमारे पास, इसी वजह से बिफरा है चीन
अगस्‍त के आखिर में भारतीय सैनिकों ने चुशूल सब-सेक्‍टर में अपने पैट्रोलिंग पॉइंट्स से आगे जाकर ऐडवांस्‍ड पोजिशंस पर पैठ बना ली थी। अब इस इलाके में भारत का दबदबा है क्‍योंकि न सिर्फ उसकी नजर स्‍पांगुर गैप पर है, बल्कि मोल्‍दो में चीनी टुकड़ी भी उसकी निगाह में है। इसी घटनाक्रम के बाद चीन के तेवर बदले हुए हैं। अखबार ने सूत्र के हवाले से लिखा है, “हमने सात जगह (LAC) पार की है। क्‍या आपको लगता है कि चीन अब भी बातचीत की मेज पर है?” उन्‍होंने कहा, “ताजा बातचीत में, वे (चीनी) चाहते थे कि भारत पहले दक्षिणी तट की पोजिशंस खाली कर दे। भारत ने मांग की कि एक साथ दोनों पक्ष झील के दोनों किनारों से पीछे हटें।”

‘चीन पर विश्‍वास नहीं होता है’
भारत और चीन के पास कोर कमांडर स्‍तर पर सात राउंड बातचीत हो चुकी है। राजनीतिक स्‍तर पर भी चीन के रुख को लेकर भारत सतर्क है। मॉस्‍को में दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों और विदेश मंत्रियों की बातचीत के बावजूद जमीन पर चीन के तेवर नहीं बदले हैं। एक सूत्र ने मीडिया से कहा, “बीजिंग कहता है कि वह दोनों देशों की सीमा पर शांति और खुशहाली चाहता है। लेकिन भारत भी तो यही चाहता है। वे यह नहीं बताते कि उन्‍होंने इतनी संख्‍या में सैनिक वहां जमा क्‍यों किए।” उन्‍होंने कहा, “कुछ भी हो सकता है। विश्‍वास नहीं होता चीन पर। हम किसी भी तरह की चुनौती के लिए तैयार हैं।”

एलएसी पर आमने सामने हैं भारत-चीन सैनिक
भारतीय सेना के एक अधिकारी ने कहा कि अभी एलएसी पर हालात वैसे ही बने हुए हैं। लेकिन अब धीरे धीरे ठंड बढ़ रही है। कई जगह पर तापमान माइनस 10 तक पहुंच गया है और नवंबर-दिसंबर में यह माइनस 30 से माइनस 40 तक हो जाएगा। मुमकिन है कि उस वक्त चीन अपने सैनिकों की संख्या कुछ कम करे। ईस्टर्न लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे यानी फिंगर एरिया में फिंगर-4 के पास, पैंगोंग झील के दक्षिण किनारे रिजांग ला, रिचिंग ला के पास भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने हैं। इसके अलावा पीपी-17 और डेपसांग एरिया में भी दोनों देशों के सैनिक आमने सामने हैं। डेपसांग में चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों की पट्रोलिंग रोकी हुई है।

loading...
loading...

Check Also

यूपी में 3 नवंबर को सार्वजनिक छुट्टी का ऐलान, लेकिन सिर्फ इन जिलों में

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में तीन नवम्बर को सार्वजनिक अवकाश रहेगा। यह अवकाश प्रदेश के सात जिलों ...