Tuesday , January 26 2021
Breaking News
Home / क्राइम / लेडी डॉन का गिरोह बिखरा और फिरौती भी नहीं मिल रही, बौखलाहट में चलवा रही गोलियां

लेडी डॉन का गिरोह बिखरा और फिरौती भी नहीं मिल रही, बौखलाहट में चलवा रही गोलियां

नागौर : जमानत पर जेल से छूटने के बाद आर्थिक तंगी एवं बिखरते गिरोह के आपराधिक साम्राज्य के चलते आनंदपाल गिरोह की सक्रिय सदस्य लेड़ी डॉन इलाके में नए सिरे से अपना दबदबा कायम करने के लिए बौखलाई हुई है। इसके चलते बीते ढाई-तीन महीने से इसकी नागौर जिले में सक्रियता तो देखी ही जा रही है।

इसके अलावा यह अपने गिरोह को भी नए सिरे से खड़ा करने के प्रयासों में लगी हुई है। इसके लिए लेडी डॉन अनुराधा ने तीन-चार नए युवकों को भी गिरोह में शामिल किया है, जिनके खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करवाने के बाद उनको अपना मुख्य गुर्गा बनाने की फिराक में है। पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार आनंदपाल सिंह गिरोह का नेटवर्क लंबे समय से बिखरा हुआ है। कहीं से रुपयों की वसूली भी नहीं हो रही है। इसके अलावा जिनसे ये वसूली करते थे अब उन्होंने भी इनको रुपए देने बंद कर दिए हैं। ऐसे में रुपयों की आवक बंद होने से लेडी डॉन हड़बड़ाहट में है। इसमें बड़ी बात ये भी है कि पुराने आपराधिक प्रवृत्ति के सभी गुर्गे एवं इनसे जुड़े हुए आरोपी इधर-उधर भागे हुए हैं।

ऐसे में यह अब नए लड़कों से फायरिंग करवाकर या लोगों को धमकी दिलवाकर अपना नए सिरे से दबदबा कायम करने में लगी हुई है। इसके चलते वह इलाके में बीते कुछ समय से इधर-उधर घूम भी रही है। कुछ लोगों ने एक लग्जरी उत्तर प्रदेश के नंबरों की कार में इसको देखा भी है, लेकिन यह सूचना पुलिस तक नहीं पहुंची है।

पुलिस के अनुसार संभवत कुचामन सिटी में भी फायरिंग डराने के लिए ही की गई है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय गुप्ता ने बताया कि पुलिस कई बिंदुओं पर अनुसंधान कर रही है। अनुराधा एवं उससे जुड़े गुर्गों की तलाश जारी है। टीम लगी हुई है।

पुराना गुर्गा फोन कर पुलिस को बोला, साहब मैं नहीं हूं, इस फायरिंग से नहीं है मेरा कोई संबंध

उक्त वारदात के पीछे लेडी डॉन का हाथ होने के अंदेशे को लेकर अनुराधा के पुराने गुर्गों एवं गिरोह से जुड़े आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों में भय की स्थिति पैदा हो गई। अब वे खुद को कुचामन में हुई फायरिंग की वारदात अलग-थलग करने के लिए हाथ पैर मारते दिखाई पड़ रहे हैं। साथ ही पुलिस से यह भी कह रहे हैं कि उनका इस वारदात से कोई लेना देना भी नहीं है।

पुलिस से यह बात कहने वाले कोई और नहीं पूर्व में अनुराधा के इशारे पर इलाके में धमकी देने वाले ही आरोपी हैं, जिनको पुलिस गिरफ्तार भी कर चुकी है। हालाकि पुलिस आरोपियों की इस मौखिक गवाही को मानने वाली नहीं है। इसके अलावा इन आरोपियों की सीडीआर एवं कॉल डिटेल के आधार पर भी इनको छोड़ने वाली नहीं है।

पुलिस इन आरोपियों की पूरी तस्दीक करने के बाद ही छोड़ने वाली है। क्योंकि आरोपी अपना मोबाइल जयपुर या कहीं और रखकर भी इलाके में वारदात को अंजाम देने के लिए आ सकते हैं। ऐसे में कॉल डिटेल एवं सीडीआर का हवाला देकर आरोपी बच नहीं सकते हैं।
फायरिंग की वारदात के बाद चर्चित सोशल मीडिया एप से फोन भी आए

कुचामन में हुई फायरिंग की वारदात के बाद रात 11 बजे सुनील गौड़ पुत्र जगदीश गौड के मोबाइल पर तीन बार सोशल मीडिया के चर्चित एप से फोन भी आए थे। उन्हीं नंबरों से उसको धमकी भी दी गई थी। इसके अलावा मैसेज के अंत में अनुराधा चौधरी भी लिखा हुआ था। इस तरह उक्त वारदात के पीछे अनुराधा चौधरी का हाथ होने का अंदेशा व्यक्त करते हुए पुलिस तक रिपोर्ट पहुंची है।

पुलिस ने सीकर निवासी अनुराधा सहित एक अज्ञात के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है। उल्लेखनीय है कि 27 अगस्त 2020 को भी लेडी डॉन अनुराधा चौधरी, बहादुर सिंह डाबड़ा, श्याम सिंह के खिलाफ सुनील ने प्रकरण दर्ज करवाया था। इनमें से बहादुर गिरफ्तार हुआ लेकिन अनुराधा व श्याम फरार हैं। इधर, एसपी ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें लगी हुई हैं। जल्द बड़ी सफलता हाथ लगेगी।

डीएसटी को पीछे लगाया है

  • नागौर के अलावा जयपुर, जोधपुर एवं सीकर में यह ज्यादा सक्रिय है। इसकी गिरफ्तारी के लिए डीएसटी को पीछे लगा दिया है। अब नए सिरे से यह अपने गिरोह को सक्रिय करने के प्रयास में हैं, लेकिन इसमें कामयाब नहीं होने दें। जल्द गिरफ्तारी करेंगे। – श्वेता धनखड़, पुलिस अधीक्षक, नागौर
loading...
loading...

Check Also

लद्दाख-सिक्किम से लेकर ताइवान तक घुसपैठ कर रही चीनी सेना, ऐसे तो हो जाएगा तीसरा विश्वयुद्ध!

पेइचिंग लद्दाख में भारतीय जमीन पर कब्‍जा करने की कोशिश में लगी चीनी सेना ने ...