Thursday , January 21 2021
Breaking News
Home / क्राइम / महाराष्ट्र में फेसबुक LIVE पर काट रहा था अपना गला, पुलिस को 7695 किमी दूर से जान बचाने का अलर्ट मिला

महाराष्ट्र में फेसबुक LIVE पर काट रहा था अपना गला, पुलिस को 7695 किमी दूर से जान बचाने का अलर्ट मिला

महाराष्ट्र के धुले में 23 साल का ज्ञानेश्वर पाटिल आत्महत्या की कोशिश कर रहा था। उसने फेसबुक पर LIVE भी किया। सोशल मीडिया साइट के आयरलैंड स्थित हेड ऑफिस ने इसे देखा तो, मुंबई पुलिस की साइबर सेल को सूचना दे दी और ज्ञानेश्वर की जान बचा ली गई।

ज्ञानेश्वर फेसबुक पर LIVE जाकर बार-बार ब्लेड से गला काट रहा था। आयरलैंड से इसकी खबर मिलने पर साइबर सेल की DCP रश्मि करंदीकर ने धुले पुलिस को जानकारी दी। वहां से एक टीम मौके पर पहुंची और 1 घंटे में युवक को बचा लिया।

7695 किलोमीटर दूर से मुंबई पुलिस को आया अलर्ट
घटना रविवार रात 8 बजे मुंबई से 323 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र के धुले की भोई सोसाइटी की है। ज्ञानेश्वर पाटिल घर में अकेला था। वह सोशल मीडिया पर LIVE होकर रोते हुए बोल रहा था- सब मुझे परेशान करते हैं, मैं सभी को परेशान करता हूं, इसलिए मैं अपनी लाइफ खत्म करना चाहता हूं। उसकी इस हरकत को 7,695 किलोमीटर दूर आयरलैंड के फेसबुक हेड ऑफिस में बैठे कुछ लोगों ने देखा और मुंबई पुलिस की साइबर सेल को अलर्ट कर दिया।

रात 8 बजे

  • साइबर सेल की DCP रश्मि करंदीकर ने बताया, ‘रविवार रात करीब 8 बजे हमें आयरलैंड के फेसबुक हेडक्वॉर्टर से कॉल आया कि आपके इलाके में एक व्यक्ति सुसाइड की कोशिश कर रहा है। उसके दोनों हाथों और गले से खून बह रहा है। फौरन मदद कीजिए। हमने तुरंत अपनी टीम को अलर्ट कर युवक के बारे में पता लगाने को कहा।’
  • 8.30 बजे रश्मि ने आगे बताया, ‘साइबर सेल की टीम को पता चला कि युवक धुले का रहने वाला है। समय कम होने की वजह से हमें पिन पॉइंट लोकेशन ट्रेस करनी थी। हमने नासिक रेंज के IG प्रताप दीघावकर और धुले के SP चिन्मय पंडित को सूचना दी। इस बीच साइबर सेल को लोकेशन मिल गई।
  • 9 बजे लोकेशन मिलते ही धुले पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और ज्ञानेश्वर पाटिल को रेस्क्यू कर अस्पताल में भर्ती करवा दिया। अभी उसका इलाज चल रहा है। डॉक्टर्स ने कहा है कि हालत खतरे से बाहर है और कुछ दिन में घाव ठीक हो जाएंगे।
loading...
loading...

Check Also

Opinion : किसानों की नाराजगी समझने में कहां चूक गए पीएम मोदी ?

स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह पहली बार है, जब अपनी मांगों को लेकर किसान ...