Thursday , January 21 2021
Breaking News
Home / ख़बर / MP की BJP : संगठन में शिवराज का दबदबा कायम, खाली हाथ रह गए सिंधिया समर्थक

MP की BJP : संगठन में शिवराज का दबदबा कायम, खाली हाथ रह गए सिंधिया समर्थक

भोपाल. आखिरकार साढ़े चार साल बाद बीजेपी की प्रदेश कार्यकारिणी में बदलाव हो गया है। लेकिन इससे सबसे बड़ा झटका सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों को लगा है। प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की टीम में सिंधिया के एक भी समर्थक को जगह नहीं मिली है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का दबदबा कायम हैं। प्रदेश कार्यकारिणी में 8 करीबी नेताओं को संगठन में पद मिला है। किसान मोर्चा के अध्यक्ष दर्शन सिंह चौधरी और पिछड़ा वर्ग मोर्चा के अध्यक्ष भगत सिंह कुश्वाहा मुख्यमंत्री के करीबी माने जाते हैं।

संगठन में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमरकैलाश विजयवर्गीय और नरोत्तम मिश्रा की पसंद का ध्यान रखा गया है। इसके साथ ही संगठन और संघ में पैठ रखने वाले भी शर्मा की टीम में शामिल हैं।
जबकि इस बार 2 उपाध्यक्ष और 3 प्रदेश मंत्री के पद बढ़ा दिए गए हैं। पिछली कार्यकारिणी में 10 उपाध्यक्ष और 9 प्रदेश मंत्री थे, लेकिन अब दोनों 12-12 हो गए हैं। खासबात यह है कि कार्यालय मंत्री का नाम सूची में नहीं है।

प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कार्यकारिणी में पार्टी के सभी दिग्गज नेताओं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के करीबियों को जगह देकर संतुलन बनाया है। कार्यकारिणी में संघ की पंसद को भी शामिल किया है।

जो मंत्री नहीं बन पाए, उन्हें भी नहीं मिली जगह

मंत्रिमंडल विस्तार में जिन वरिष्ठ विधायकों को उम्मीद थी कि उन्हें संगठन में जगह मिलेगी, लेकिन उनकी जगह नए चेहरों पर भरोसा किया गया है। पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ला को कार्यकारिणी में नहीं लिया गया,लेकिन उनके करीबी राजेश पांडे को उपाध्यक्ष बनाया गया हे। इसी तरह पूर्व मंत्री रामपाल सिंह, संजय पाठक और अजय विश्नोई भी जगह पाने में कामयाब नहीं हो सके।

कौन, किसका करीबी

शिवराज सिंह चौहान के करीबी भोपाल के पूर्व महापौर आलोक शर्मा, महिला मोर्चा की पूर्व अध्यक्ष सीमा सिंह को उपाध्यक्ष बनाया गया है। जबकि प्रदेश मंत्री राजेश पांडे, ललिता यादव,लता वानखेड़े, प्रभुदयाल कुश्वाहा भी मुख्यमंत्री के समर्थक माने जाते हैं।
नरेंद्र सिंह तोमर के खास सिंगरौली के जिला अध्यक्ष रहे कांतदेव सिंह को उपाध्यक्ष बनाया गया है। जबकि ग्वालियर के मदन कुश्वाहा को प्रदेश मंत्री बनाया गया है।
कैलाश विजयवर्गीय के करीबी जीतू जिराती और विधायक बहादुर सिंह सोंधिया प्रदेश मंत्री बने हैं।
नरोत्तम मिश्रा के कोटे से मुकेश चौधरी को उपाध्यक्ष बनया गया है। हालांकि सांसद संध्या राय को उपाध्यक्ष बनाए जाने को लेकर कहा जा रहा है कि इन्हें संगठन में लेने के लिए नरोत्तम ने ही वीटो लगाया था।

दो प्रवक्ताओं को मिला प्रमोशन
बीजेपी के दो प्रदेश प्रवक्ताओं रजनीश अग्रवाल और राहुल कोठारी को प्रमोशन मिला है। रजनीश संगठन महामंत्री सुहास भगत और राहुल नरेंद्र सिंह तोमर के करीबी हैं।

सिंधिया समर्थकों को निगम-मंडलों में मिलेगी नियुक्तियां
बीजेपी सूत्रों का कहना है कि सिंधिया समर्थकों को निगम-मंडलों में नियुक्तियां दी जाएंगी। हालांकि कयास यह लगाए जा रहे थे कि सिंधिया के 3-4 समर्थकों को एडजस्ट किया जाएगा।

4 मोर्चा में प्रमोशन पाकर अध्यक्ष बने, 2 में नई एंट्री
कार्यकारिणी के अलावा 7 मोर्चों के अध्यक्षों की नियुक्ति कर दी गई है। इसमें से 4 अध्यक्ष तो प्रमोशन पाकर अध्यक्ष बने हैं। इसमें माया नारोलिया महिला मोर्चा में महामंत्री थी। इसी तरह दर्शन सिंह चौधरी किसान मोर्चा में उपाध्यक्ष थे। वैभव पवार युवा मोर्चा में उपाध्यक्ष और रफत वारसी अल्पसंख्यक मोर्चा के उपाध्यक्ष थे। ये चारों को अध्यक्ष बनाया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबी भगत सिंह कुश्वाहा एक बार फिर पिछडृा वर्ग के अध्यक्ष बन गए हैं। जबकि पूर्व विधायक डा. कैलाश जाटव अनुसूचित जाति मोर्चा औरअनुसूचित जनजाति मोर्चा कली सिंह भाबर को अध्यक्ष बनाया गया है। दोनों की मोर्चा में नई एंट्री है। दोनों नेता संघ के कोटे से बने हैं।

loading...
loading...

Check Also

सबसे भरोसेमंद साथी को यूपी की राजनीति में उतार दिए पीएम मोदी, जानिए क्यों?

उत्तर प्रदेश के अगले विधानसभा चुनावों को लेकर बीजेपी ने अभी से अपनी रणनीति बनानी ...