Monday , January 25 2021
Breaking News
Home / ख़बर / जापान में 10 साल में मुस्लिम आबादी हुई दोगुनी, जानिए कैसे हो गया ऐसा?

जापान में 10 साल में मुस्लिम आबादी हुई दोगुनी, जानिए कैसे हो गया ऐसा?

जापान में मुस्लिमों की आबादी तेज रफ्तार से बढ़ रही है. 10 सालों में दोगुनी से अधिक हो गई है. साल 2010 में जापान में मुस्लिमों की आबादी करीब 1 लाख 10 हजार थी, लेकिन 2019 में बढ़कर 2 लाख 30 हजार हो गई. इनमें 50 हजार जापानी लोग भी शामिल हैं जो धर्म बदलकर मुस्लिम बने हैं. ये आंकड़े, जापान की वसेडा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर तनाडा हिरोफुमी की ओर से जारी किए गए हैं. इसे economist.com ने प्रकाशित किया है.

बता दें कि जापान की आबादी घट रही है और देश में जन्म दर कम हो गई है. भविष्य में जापान में काम करने वाले युवाओं की संख्या घटने का खतरा पैदा हो गया है. इसकी वजह से जापान की सरकार विदेशी वर्कर्स और स्टूडेंट्स को आकर्षित करने की कोशिश कर रही है. 2019 के आंकड़ों के मुताबिक, जापान की आबादी करीब 12.6 करोड़ है.

जापान में मुस्लिमों की आबादी बढ़ी है तो उनके लिए कुछ सुविधाएं भी बढ़ गई हैं और अन्य चीजों के लिए मांग हो रही है. देश में अब मस्जिदों की संख्या 110 से अधिक हो गई है. बीप्पू मुस्लिम एसोसिएशन के प्रमुख अब्बास खान कहते हैं कि यह बदलाव स्वागत योग्य है. उन्होंने बताया कि 2001 में जब वे पाकिस्तान से एक छात्र के तौर पर जापान आए थे तब यहां सिर्फ 24 मस्जिदें थीं.

एक तरफ मस्जिदों की संख्या बढ़ गई है, लेकिन कई चीजों के लिए मुस्लिमों को अभी भी संघर्ष करना पड़ रहा है. इनमें से एक चुनौती है- कब्रगाह के लिए जगह ढूंढना. जापान की 99 फीसदी आबादी दाह-संस्कार की परंपरा मानती आई है, इस वजह से देश में कब्रगाह की संख्या काफी कम है.

रिपोर्ट के मुताबिक जापान में हिजी में मुस्लिमों के लिए कब्रगाह बनाए जाने की कोशिश की गई थी, लेकिन स्थानीय लोगों के विरोध की वजह से काम रोक दिया गया. कब्रगाह का विरोध करने वाले कई लोगों ने डर जताया कि इससे जमीन अशुद्ध हो जाएगी और वहां के लोग सहूलियत के साथ पानी नहीं पी पाएंगे. ऐसे में मुस्लिमों का दर्द ये है कि अगर उनकी आज मौत हो जाए तो उन्हें नहीं मालूम कि उनको कहां दफनाया जाएगा.

जापान की जनसंख्या 12.7 करोड़ है. इनमें ज्यादातर लोग बौद्ध और शिंतो धर्म के मानने वाले हैं. इसके मुकाबले 70 हजार से एक लाख मुस्लिम आबादी कहीं नहीं ठहरती. इसके बावजूद वहां मुस्लिमों को शक की निगाह से देखा जाता है. 2010 में लीक हुए पुलिस डॉक्युमेंट्स के अनुसार, वहां 72 हजार मुस्लिमों की जासूसी की जा रही थी. पुलिस ने इनके नाम-पते के अलावा बैंक डिटेल और गतिविधियों का रिकॉर्ड तैयार किया था. पुलिस की जापान में मस्जिदों और उनके आसपास खुफिया कैमरे लगाने की योजना थी। कुछ रिपोर्ट्स कहती हैं कि ऐसे कैमरे लगाए भी गए हैं. टोक्यो की कोर्ट ने सरकार द्वारा मुसलमानों की जासूसी को सही मानते हुए इसे ‘जरूरी और अपरिहार्य’ बताया था.

वहीं, जापान के लोग बाहरी लोगों के रीति रिवाजों को लेकर बंटे हुए हैं. कुछ लोगों का मानना है कि जापान में रहने वाले नए लोगों की जरूरतों को समझा जाना चाहिए. लेकिन दूसरे गुट के लोग कहते हैं कि जिन्हें भी जापान की नागरिकता मिल रही है, उन्हें जापानी रीति रिवाजों को मानना चाहिए.

loading...
loading...

Check Also

छिपकली-चूहे हों या मच्छर-कॉकरोच, ये है सबको भगाने के आसान तरीके

मौसम बदलने के साथ ही इन सभी कीट, कीड़े मकोड़ों का आतंक सभी घरों में ...