Friday , March 5 2021
Breaking News
Home / अपराध / Pratapgarh में दो सिपाहियों पर हमला, चेकिंग के लिए रोकने पर बौखलाए थे ग्रामीण

Pratapgarh में दो सिपाहियों पर हमला, चेकिंग के लिए रोकने पर बौखलाए थे ग्रामीण

उत्तर प्रदेश के कासगंज में सिपाही देवेंद्र सिंह की हत्या का आरोपी मोती सिंह अभी पुलिस की पकड़ से दूर है। उस पर 50 हजार का इनाम घोषित किया गया है। इस बीच बुधवार की रात प्रतापगढ़ जिले में दो सिपाहियों पर हमला कर उनकी पिटाई की गई।

हमलावर ग्रामीणों का आरोप है कि सिपाहियों ने एक महिला के साथ छेड़खानी की थी। हालांकि अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेंद्र द्विवेदी ने सभी आरोपों को नकारते हुए कहा कि बाइक पर सवार तीन लोगों को चेकिंग के नाम पर रोकने से नाराज ग्रामीणों ने दोनों सिपाहियों की पिटाई की है। हमला करने वालों की तलाश की जा रही है।

प्रतापगढ़ में क्या हुआ जो सिपाही हुए घायल
दरअसल, कोहंड़ौर थाना क्षेत्र के मदाफरपुर बाजार में बुधवार की रात करीब 9 बजे सिपाही रवि सिंह और राहुल कुमार गश्त पर थे। तभी बाइक पर सवार तीन लोगों को सिपाहियों ने रोका और पूछताछ शुरू की। लेकिन बाइक सवार सिपाहियों के साथ हाथापाई व धक्कामुक्की करने लगे। इसका वीडियो भी सामने आया है।

आरोप है कि इसी दौरान लोगों ने सिपाहियों पर हमले किया और मदाफरपुर गांव की ओर भाग निकले। सिपाहियों ने उनका पीछा किया तो गांव वालों ने उन्हें घेरकर पीटा। सूचना के बाद एसओ कोहंड़ौर मौके पर पहुंचे तो किसी तरह से दोनों सिपाहियों की जान बची।

एक महिला ने आरोप लगाया कि दोनों सिपाही नशे में धुत थे और घर में घुसकर छेड़खानी कर रहे थे। शोर मचाने पर ग्रामीण जमा हो गए और सिपाहियों की पिटाई की गई। एएसपी पूर्वी सुरेंद्र द्विवेदी ने कहा कि दोनों सिपाहियों ने रमेश तिवारी नाम के शख्स को रोका था। सिपाहियों ने उन्हें एक साथ बाइक पर तीन लोगों के चलने पर को टोका तो उनके साथ अभद्रता करते हुए धक्का मुक्की की गई। छेड़खानी का आरोप गलत है। दो व्यक्तियों को हिरासत में पुलिस ने लिया है। पूरे मामले में दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

कासगंज के आरोपी पर 50 हजार का इनाम घोषित
कासगंज में सिपाही देवेंद्र सिंह के हत्या आरोपी हिस्ट्रीशीटर, शराब माफिया मोती सिंह पर अलीगढ़ मंडल के आईजी पीयूष मोर्डिया ने 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया। वह अभी तक फरार है। पुलिस की टीमें मोती सिंह व उसके साथियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार धरपकड़ कर रही है।

बता दें कि मंगलवार की शाम दरोगा सिढ़पुरा थाना छेत्र के नगला धीमर में अशोक सिंह व सिपाही देवेंद्र सिंह अवैध शराब की सूचना पर कार्रवाई करने गए थे। लेकिन बदमाशों ने सिपाही व दरोगा को घेरकर पीटा था। जिसमें सिपाही देवेंद्र की मौत हो गई थी। वहीं, दरोगा अशोक सिंह का इलाज चल रहा है। उनकी हालत स्थिर है। इसके बाद पुलिस ने मुठभेड़ में मोती सिंह के सगे भाई एलकार को काली नदी के किनारे मार गिराया था। मोती सिंह के ऊपर वर्तमान में 13 मुकदमे दर्ज हैं।

loading...
loading...

Check Also

LIVE Updates: ममता ने 291 कैंडिडेट के नाम जारी किए, 50 महिलाएं और 42 मुस्लिम चेहरे, दीदी नंदीग्राम से लड़ेंगी

पश्चिम बंगाल चुनाव के लिए तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने शुक्रवार को 291 उम्मीदवारों ...