Tuesday , October 20 2020
Breaking News
Home / देश / भारत के पहले राफेल का नाम होगा RB-001, लेकिन क्यों ?

भारत के पहले राफेल का नाम होगा RB-001, लेकिन क्यों ?

8 अक्टूबर 2019. दशहरे का दिन और एयरफोर्स डे का मौका. इतिहास के पन्नों में ये दिन एक स्वर्णिम तारीख के तौर पर दर्ज होगा. क्योंकि आज ही के दिन दुनिया की सबसे घातक मिसाइलों और सेमी स्‍टील्‍थ तकनीक से लैस पहला ‘गोल्‍डेन ऐरो’ राफेल विमान भारत को मिलने जा रहा है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह विजयदशमी के मौके पर फ्रांस में शस्‍त्र पूजा करके भारत के लिए पहला राफेल जेट रिसीव करेंगे. इस राफेल का नाम रखा गया है RB 001, लेकिन क्यों, ये हम आपको बताते हैं.

फ्रांस से भारत कुल 36 राफेल विमान खरीद रहा है. इसे पंजाब और पश्चिम बंगाल में तैनात किया जाएगा. जिस पहले विमान की आज फ्रांस डिलीवरी करेगा उसे एयरफोर्स की फाइलों में RB 001 के कोडनेम से दर्ज किया जाएगा.  दरअसल ये नाम और नंबर राफेल डील में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले एयरफोर्स चीफ आरकेएस भदौरिया को समर्पित है.

एयर चीफ मार्शल भदौरिया ने कहा कि 30 सितंबर को वायु सेना प्रमुख का पदभार ग्रहण करने के शीघ्र बाद राफेल विमान का मिलना एक ‘गेम चेंजर’ है. राफेल 4.5वीं पीढ़ी का विमान है. इसके आने से भारतीय वायुसेना में बड़ा बदलाव होगा क्योंकि वायुसेना के पास अब तक के विमान मिराज-2000 और सुखोई-30 एमकेआई या तो तीसरी पीढ़ी या चौथी पीढ़ी के विमान हैं.

विशेषज्ञों के मुताबिक राफेल जंग में ‘गेमचेंजर’ साबित होगा और इसके आने पर पाकिस्‍तानी एयरफोर्स पर दबाव काफी बढ़ जाएगा. पाकिस्‍तानी एयरफोर्स को एक राफेल को रोकने क‍ि लिए दो एफ-16 विमान लगाने पड़ेंगे. अभी भारत को एक एफ-16 रोकने के लिए दो सुखोई 30एमकेआई विमान तैनात करने पड़ते हैं.

 

loading...
loading...

Check Also

सरकारी पैनल ने चेताया : फरवरी तक देश की आधी आबादी को हो चुका होगा कोरोना !

नई दिल्ली भारत में अगले साल फरवरी तक कम से कम आधी आबादी कोरोना से ...