Saturday , September 19 2020
Breaking News
Home / क्राइम / RJD नेता मीरान हैदर का बड़ा कबूलनामा, जकात के पैसे से भड़काए दिल्ली में दंगे!

RJD नेता मीरान हैदर का बड़ा कबूलनामा, जकात के पैसे से भड़काए दिल्ली में दंगे!

सीएए विरोध के नाम पर दिल्ली में क्या हुआ, वो दुनिया ने देखा. विश्वविद्यालयों के कुछ जिहादी, कट्टरपंथी छात्रों ने कैसे पूरे शहर को दंगों की आग में झोंका था. कैसे इन्होंने सीएए के नाम पर भोले भाले मुसलमानों को भड़काकर उनसे अपराध करवाया और अपना एजेंडा पूरा करने की कोशिश की. लेकिन इनके मंसूबे तब नाकाम हो गए, जब पुलिस इनके गिरेबान तक पहुंच गई. और इनकी सारी कुंडली खोलकर रख दी. यूनिवर्सिटी में पढ़कर अफसर और नेता बनने का खाब रखने वाले ये जिहादी अब जेल की सलाखों के पीछे हैं और इनपर उपद्रवी, दंगाई और शातिर अपराधी जैसे टैग लग चुके हैं.

अब जब पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है तो ये चौंकाने वाले खुलासे कर रहे हैं. ऐसा ही एक जामिया का छात्र  और आरजेडी (RJD) का युवा प्रदेश अध्यक्ष मीरान हैदर भी पुलिस की गिरफ्त में है, जो दिल्ली दंगों के साजिशकर्ताओं में से एक है. उसने पुलिस पूछताछ में जो खुलासे किया है, वो बेहद हैरान करने वाले हैं.

मीरान हैदर ने पुलिस को बताया कि केंद्र सरकार की ओर से अनुच्छेद 370 हटा दिया गया और फिर श्रीराम मंदिर के पक्ष में फैसला आया, जिससे वो दुखी थी. इसके बाद सरकार ने CAA भी लागू कर दिया, जिससे उसके मन में गुस्सा और नफरत भर गया था. इसलिए उसने सरकार के खिलाफ मुसलमानों को एकजुट करने के बारे में सोचा और ये सारी पटकथा लिखी. मीरान हैदर ने पुलिस को ये भी बताया कि वो खुद सभी राज्यों में मदद जुटाने और सीएए-एनआरसी के खिलाफ लोगों को उकसाने के लिए गया था.

मीरान हैदर ने पुलिस पूछताछ में बताया, कि 15 दिसंबर 2019 को JCC यानी कि जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी का गठन किया गया था. इसी नाम से एक व्हाट्सऐप ग्रुप भी बनाया था, जिस पर आगे की प्लानिंग होती थी. इस ग्रुप से Allumani Association of Jamia Milliya islamaiya और कई छात्र संगठन भी जुड़े थे. जामिया विश्वविद्यालय के परिसर में जो हिंसा भड़की थी, उसके बाद ही दंगों को लेकर साजिश रची गई थी.

मीरान ने खुलासा किया कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने दिल्ली में सांप्रदायिक दंगों के लिए फंड मुहैया कराया था. उसने ये भी बताया कि उसने खुद दंगों के लिए लगभग 5 लाख रूपए जकात के नाम पर जुटाए थे. दिल्ली के मुस्लिम बहुल इलाकों जाफराबाद और सीलमपुर को पहले दंगों के लिए चुना गया था, जिसके लिए मीरान और अन्य लोगों ने चाकू, पेट्रोल और पत्थर इकट्ठा किए थे.

रिपोर्ट्स के मुताबिक मीरान हैदर ने खुलासा किया है कि दंगे की स्क्रिप्ट को 3 हिस्सो में बांटा गया था- पहला प्रोटेस्ट, दूसरा रोड ब्लॉक और आखिर में भयानक दंगे. दिल्ली पुलिस को दिए अपने बयान में आरोपित मीरान हैदर ने बताया की वो दंगों के पहले से ही जेनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद और खालिद सैफी को जानता था.

आपको बता दें, कि मीरान हैदर को UAPA के तहत गिरफ्तार किया है. वो अभी न्यायिक हिरासत में है. मीरान हैदर 2014 से 2017 तक आम आदमी पार्टी में था, लेकिन उसे नगर निगम चुनाव लड़ने के लिए टिकट नहीं मिला तो उसने पार्टी छोड़ दी और 2017 में उसने लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल जॉइन कर ली. अभी वो राजद के युवा विंग की दिल्ली इकाई का अध्यक्ष हैं.

Check Also

शादी से पहले ऐसी मांग किया दूल्हा, भरी महफिल में दुल्हन हो गई शर्मिंदा

शादी हर लड़की का सपना होता है, हर लड़की उस सपने के साथ अपनी जिंदगी ...