Sunday , November 1 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / जिसके बेटे ने गाड़ी ओवरटेक करने वाले को मार दी गोली, नीतीश ने उनको बनाया प्रत्याशी

जिसके बेटे ने गाड़ी ओवरटेक करने वाले को मार दी गोली, नीतीश ने उनको बनाया प्रत्याशी

पटना
2015 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार महागठबंधन में थे। नई सरकार के 1 साल भी नहीं हुए थे कि बुद्ध की धरती गया में एक ऐसी घटना घटी, जिससे नीतीश सरकार हिल गई। पूरा गया शहर इस घटना से कांप गया था। ओवरटेक करने पर जेडीयू एमएलसी मनोरमा देवी के बेटे रॉकी ने एक युवक को गोली से उड़ा दिया था। इसके बाद नीतीश कुमार की खूब फजीहत हुई थी। विरोधियों के साथ-साथ नीतीश कुमार को सहयोगी आरजेडी ने भी घेरा था।

रॉकी समेत इस मामले में 4 लोग दोषी पाए गए हैं। वहीं, रॉकी अभी जेल में है। रॉकी बाहुबली बिंदी यादव का बेटा है। पिछले दिनों बिंदी यादव का कोरोना से निधन हो गया है। अब रॉकी की मां मनोरमा देवी को जेडीयू ने अतरी सीट से टिकट दिया है। मनोरमा पति के नाम पर लोगों से सहानुभूति वोट मांग रही हैं। वहीं, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के मंच पर भी मनोरमा देवी उपस्थित थीं। उस वक्त बेटे की करतूत की वजह से नीतीश कुमार ने मनोरमा देवी को पार्टी से निलंबित कर दिया था।

क्या है मामला
घटना 7 मई 2016 की है। जब 12वीं का छात्र आदित्य सचदेवा अपने दोस्तों के साथ बर्थडे पार्टी से लौट रहा था। आदित्य की गाड़ी के आगे रॉकी अपने साथियों के साथ जा रहा था। आदित्य ने गाड़ी ओवरटेक की तो रॉकी को यह बात नागवार गुजरी। उसके बाद दोनों में झड़प हुई और रॉकी ने आदित्य को गोली मार दी। अगले दिन सुबह में इस घटना से गया शहर में हड़कंप मच गया। घटना को अंजाम देने के बाद रॉकी मौके से फरार हो गया था।

रॉकी ने किया था सरेंडर
गया रोड रेज की घटना से नीतीश सरकार की फजीहत हो रही थी। पुलिस रॉकी की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी कर रही थी लेकिन वह हाथ नहीं लग रहा था। आखिर तक वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा था। पुलिसिया दबाव की वजह से वह 29 अक्टूबर 2016 को कोर्ट में आकर सरेंडर कर दिया था। पुलिस ने रिमांड पर लेकर फिर उससे पूछताछ शुरू करी थी। रॉकी ने पूछताछ के दौरान गोली मारने की बात स्वीकार की थी।

पुलिस ने तेजी से की कार्रवाई
इस घटना से गया शहर में उबाल था। आरोपियों पर कार्रवाई के लिए पुलिस पर लगातार दबाव था। गया पुलिस ने सभी आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद इस केस में तेजी दिखाते हुए 6 जून 2016 को चार्जशीट दाखिल कर दिया। उसके बाद मामले में सुनवाई शुरू हुई थी। 31 अगस्त 2017 को इस मामले में सभी अभियुक्त दोषी करार दिए गए। अभी सभी दोषी जेल में बंद हैं।

नीतीश गए थे आंसू पोंछने
घटना के बाद गया के लोग लगातार मांग कर रहे थे कि पीड़ित परिवार से मिलने नीतीश कुमार क्यों नहीं आ रहे हैं। घटना के 34 दिन बीत जाने के बाद सीएम नीतीश कुमार 10 जून 2016 को मृतक आदित्य सचदेवा के घर पहुंचे थे। गया स्वराजपुरी स्थित आवास पर मृतक आदित्य के माता-पिता से उन्होंने मुलाकात कर न्याय का भरोसा दिया था।

जेडीयू ने मनोरमा देवी को दिया है टिकट
गया रोड रेज की घटना के बाद नीतीश कुमार ने मनोरमा देवी के 6 साल के पार्टी से निलंबित कर दिया था। लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान ही वह मंच पर दिखने लगी थी। 2019 में पीएम मोदी की रैली में भी वह मंच पर नजर आई थी। पति बिंदी यादव के निधन के बाद जेडीयू ने मनोरमा देवी को अतरी सीट से टिकट दिया है। वह फिर से चुनावी मैदान में लोगों से वोट मांग रही हैं।

बाहुबली के परिवार के दे रहे हैं टिकट
दरअसल, इस चुनाव में नीतीश कुमार सीधे बाहुबलियों से तौबा कर रहे हैं। वह उनको सीधे टिकट नहीं देकर उनके परिवार के सदस्यों को टिकट दे रहे हैं। नीतीश कुमार ने अतरी से भी यहीं किया है। बिंदी यादव का अतरी इलाके में अच्छा खासा वर्चस्व रहा है। बिंदी जेडीयू में आने से पहले आरजेडी में था।

हथियारों के साथ तस्वीर डालता था रॉकी
रॉकी यादव पर पिता के बाहुबल का रौब सवार था। वह हथियारों के साथ फेसबुक पर तस्वीर पोस्ट करता था। रॉकी ने ग्रैजुएशन बीएचयू से किया था। वहीं, मास्टर दिल्ली यूनिवर्सिटी से किया था। लेकिन 2016 की घटना के बाद से वह जेल में है।

loading...
loading...

Check Also

No Way Out : फ्रांस के मुद्दे पर सऊदी अरब को बांटकर खुद को बचाना चाहता था तुर्की, स्कीम हुई टोटल फेल

इस समय तुर्की के वर्तमान प्रशासक एर्दोगन पूरी तरह पगला गए हैं और वे कट्टरपंथी ...