Sunday , September 20 2020
Breaking News
Home / ख़बर / बड़ा खुलासा : कोरोना से 2 साल सुरक्षा देगी रूसी वैक्सीन, उसके बाद आप..

बड़ा खुलासा : कोरोना से 2 साल सुरक्षा देगी रूसी वैक्सीन, उसके बाद आप..

रूस की कोरोना वैक्सीन को लेकर दुनियाभर में उठ रहे सवालों के बीच डेवलपर्स ने दावा किया है कि इससे कोविड-19 के खिलाफ दो साल तक प्रतिरक्षा मिलेगी। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 11 अगस्त को दावा किया था कि रूस ने दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन को बना लिया है।

कोरोना के खिलाफ 2 साल तक रक्षा करेगी रूसी वैक्सीन

रूसी न्यूज एजेंसी तॉस के अनुसार, मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च सेंटर फॉर एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी के निदेशक और रूसी हेल्थकेयर मंत्रालय के अलेक्जेंडर गिंट्सबर्ग ने कहा कि इस वैक्सीन के प्रभावी रहने की अवधि एक साल नहीं, बल्कि दो साल होगी। इससे पहले रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी इस वैक्सीन के दो साल तक प्रभावी रहने का दावा किया था।

कैसे काम करती है यह वैक्सीन

रूस की वैक्सीन सामान्य सर्दी जुखाम पैदा करने वाले adenovirus पर आधारित है। इस वैक्सीन को आर्टिफिशल तरीके से बनाया गया है। यह कोरोना वायरस SARS-CoV-2 में पाए जाने वाले स्ट्रक्चरल प्रोटीन की नकल करती है जिससे शरीर में ठीक वैसा इम्यून रिस्पॉन्स पैदा होता है जो कोरोना वायरस इन्फेक्शन से पैदा होता है। यानी कि एक तरीके से इंसान का शरीर ठीक उसी तरीके से प्रतिक्रिया देता है जैसी प्रतिक्रिया वह कोरोना वायरस इन्फेक्शन होने पर देता लेकिन इसमें उसे COVID-19 के जानलेवा नतीजे नहीं भुगतने पड़ते हैं। मॉस्को की सेशेनॉव यूनिवर्सिटी में 18 जून से क्लिनिकल ट्रायल शुरू हुए थे। 38 लोगों पर की गई स्टडी में यह वैक्सीन सुरक्षित पाई गई है। सभी वॉलंटिअर्स में वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी भी पाई गई।

रूस की पहली सैटेलाइट से मिला वैक्सीन को नाम

इस वैक्सीन का नाम रूस की पहली सैटेलाइट स्पूतनिक से मिला है। जिसे रूस ने 1957 में रूसी अंतरिक्ष एजेंसी ने लॉन्च किया था। उस समय भी रूस और अमेरिका के बीच स्पेस रेस चरम पर थी। कोरोना वायरस वैक्सीन के विकास को लेकर अमेरिका और रूस के बीच प्रतिद्वंदिता चल रही थी। रूस के वेल्थ फंड के मुखिया किरिल दिमित्रीव ने वैक्सीन के विकास की प्रक्रिया को ‘स्पेस रेस’ जैसा बताया था। उन्होंने US TV को बताया, ‘जब अमेरिका ने Sputnik (सोवियत यूनियन की बनाई दुनिया की पहली सैटलाइट) की आवाज सुनी तो वे हैरान रह गए, यही बात वैक्सीन के साथ है।

भारत समेत कई देशों में बनेगी रूसी कोरोना वैक्सीन

रूसी कोरोना वैक्सीन परियोजना के लिए फंड मुहैया कराने वाली संस्था रशियन डॉयरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड ने अपने बयान में कहा है कि इस वैक्सीन का उत्पादन भारत, दक्षिण कोरिया, ब्राजील, सऊदी अरब, तुर्की और क्यूबा में किया जाएगा। इसमें यह भी बताया गया है कि वैक्सीन के तीसरे फेज का ट्रायल सऊदी अरब, यूएई, ब्राजील, भारत और फिलीपींस सहित कई देशों में किए जाने की योजना है।

2020 के अंत तक 20 करोड़ डोज बनाने की तैयारी

रूस ने बताया कि वैक्सीन का बड़े पैमाने पर उत्पादन सितंबर 2020 में शुरू होने की उम्मीद है। भविष्य की योजनाओं में 2020 के अंत तक इस वैक्सीन के 20 करोड़ डोज बनाने का लक्ष्य रखा गया है। इसमें से 3 करोड़ वैक्सीन केवल रूसी लोगों के लिए होगी।

Check Also

रेलवे ने दी एक और बड़ी खुशखबरी, ट्रेनों में नहीं मिलेगी वेटिंग, त्योहारों के सीजन में सुहाना होगा सफर

भोपाल। कोरोना संकट के बीच भारतीय रेलवे 21 सितंबर से और नई 20 जोड़ी क्लोन ट्रेनों ...