Thursday , October 22 2020
Breaking News
Home / राजनीति / फजीहती बयानों से सोनिया हुईं परेशान, बचने के लिए बनाया ये प्लान

फजीहती बयानों से सोनिया हुईं परेशान, बचने के लिए बनाया ये प्लान

लोकसभा चुनावों में हार के बाद से ही कांग्रेस पार्टी में किसी मुद्दे पर ना तो एक राय बन पा रही है और ना ही नेता पार्टी की आधिकारिक लाइन के मुताबिक बयान दे रहे हैं. ऐसा अनुच्छेद 370 के मुद्दे पर देखने को मिला था. जहां कांग्रेस पार्टी के आलाकमान ने भारत सरकार के इस निर्णय का विरोध किया, वहीं कांग्रेस के स्थानीय नेताओं ने सरकार के इस फैसले का समर्थन किया. इसी समस्या से निपटने के लिए अब कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी का थिंक टैंक बनाने का निर्णय लिया है. इस थिंक टैंक में 21 लोगों को शामिल किया गया है, ये सभी लोग महत्वपूर्ण मुद्दों पर पार्टी के अंदर एकराय बनाने पर विचार करेंगे. ये कमेटी महीने में एक बार बैठक करेगी जिससे हर मुद्दे पर विचार विमर्श किया जाए और उसके मुताबिक पार्टी की लाइन तय हो सके.

पार्टी को बुरे दौरे से बाहर निकालने और बदले राजनीतिक परिदृश्य में महत्वपूर्ण मुद्दों, फैसलों पर वरिष्ठ नेताओं के दिमाग और सलाह पर पार्टी आगे बढ़ेगी. यह थिंक टैंक सरकार पर हमला बोलने के लिए एनआरसी और अर्थव्यवस्था जैसे मुद्दों का सही से उपयोग करने की योजना पर भी काम करेगा. इस विशेष समिति में सोनिया गांधी के साथ मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल, मल्लिकार्जुन खरगे, गुलाम नबी आजाद, एके एंटनी, कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, जयराम रमेश के अलावा युवा नेताओं में ज्योतिरादित्य सिंधिया, रणदीप सुरजेवाला, सुष्मिता देव, राजीव सातव जैसों को जगह मिली है. ये सभी नेता देश के महत्वपूर्ण मुद्दों पर पार्टी की राय रखेंगे जिससे भविष्य में पार्टी को फजीहत का सामना न करना पड़े.

गौरतलब है कि राम मंदिर, यूनिफार्म सिविल कोड, राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) और आर्थिक मुद्दों पर कांग्रेस पार्टी स्पष्ट तरीके से पार्टी की लाइन को जनता के समक्ष नहीं रख सकी है. वहीं, कई अहम मुद्दों पर कांग्रेस के नेताओं के बयानों ने ही पार्टी को नुकसान ही पहुंचाया है.

कांग्रेस अपने नेताओं में एकराय ना होने की वजह से अक्सर सुर्खियों में रहती है. उदाहरण के तौर पर राज्यसभा में विपक्ष नेता गुलाम नबी आजाद और पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम ने पुरजोर तरीके से जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का विरोध किया था, तो वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया और दीपेन्द्र हुड्डा जैसे क्षेत्रीय नेताओं ने सरकार के इस फैसले का समर्थन किया था. इसके अलावा दिग्विजय सिंह जैसे नेता भी विवादित बयानों से पार्टी की फजीहत करवाते रहते हैं.

ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने इन नेताओं को इस तरह के बयान देने से बचने की सलाह दी है ताकि पार्टी को भविष्य में असहजता की स्थिति का सामना न करना पड़े. अब सोनिया गांधी की ये रणनीति भविष्य में पार्टी के लिए कितनी सफल साबित होगी देखना दिलचस्प होगा.

loading...
loading...

Check Also

बिहार में भाजपा का घोषणापत्र: 19 लाख लोगों को रोजगार का वादा, सबको फ्री लगाएंगे कोरोना का टीका

पटना बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Vidhan sabha Chunav 2020) के लिए बीजेपी ने घोषणापत्र जारी ...