Friday , October 30 2020
Breaking News
Home / धर्म / सुहागन महिलाएं हफ्ते में इस दिन जरूर करे ये उपाय, पति से कभी नहीं होगी अनबन

सुहागन महिलाएं हफ्ते में इस दिन जरूर करे ये उपाय, पति से कभी नहीं होगी अनबन

इन टिप्स को अपनाएंगे तो कभी नहीं होगी पति-पत्नी में अनबन

एक जमाना था जब लोग बिना किसी परेशानी के अपने पार्टनर के साथ पूरी जिन्दगी गुजार लेते थे. लेकिन आज के जमाने में शादी के दो तीन साल बाद ही वो एक दुरे से बोर हो जाते हैं या किसी और कारणवश शादी से नाखुश रहते हैं. यदि आपकी शादीशुदा लाइफ में वो पहले जैसी मिठास नहीं हैं तो ऐसी लाइफ को जीने का मजा भी नहीं आता हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको कुछ ऐसे ख़ास उपाय बताने जा रहे हैं जिसे गुरुवार के दिन करने के बाद आपकी शादीशुदा जिन्दगी में कभी कोई परेशानी नहीं आएगी.

पहला काम:

गुरुवार के दिन सुबह जल्दी उठ स्नान कर ले. अब एक कुमकुम की डिब्बी ले और उसे माता रानी की प्रतिमा के सामने रख दे. इसके बाद माता रानी के सामने घी के दो दीपक प्रज्वलित करे. पहले दीपक को कुमकुम की डिब्बी के पास रख दे जबकि दुसरे दीपक से माता रानी की आरती करे. आरती समाप्त होने के बाद पहली आरती माँ दुर्गा को, दूसरी कुमकुम की डिब्बी को और तीसरी खुद को दे. यदि आपके पतिदेव वहां मौजूद हैं तो उन्हें भी ये आरती दे. इसके बाद गुरुवार के दिन आप जब भी माथे पर सिन्दूर लगाए तो इसी कुमकुम की डिब्बी से लगाए. लेकिन इस बात का ध्यान रहे कि ये कुमकुम आपको अपने हाथ से नहीं लगाना हैं बल्कि अपने पति के हाथ से लगना हैं. ये उपाय आप हर गुरुवार या कम से कम महीने के एक गुरुवार जरूर करे. इससे आपके और पति के बीच मधुर संबध बने रहते हैं.

दूसरा काम:

गुरुवार के दिन किसी शादीशुदा जोड़े को भरपेट भोजन करना भी लाभकारी होता हैं. इसके लिए आप किसी ब्राह्मण जोड़े को भी चुन सकते हैं या फिर किसी गरीब या भिखारी जोड़े को भी खाना खिला सकते हैं. खाना खिलाने के बाद इन्हें दक्षिणा स्वरुप कुछ पैसे या कोई सामान जरूर दीजिएगा. यदि संभव हो तो ये दान आप अपने पति के साथ मिलकर करे.

तीसरा काम:

लक्ष्मी और विष्णु जी की जोड़ी भी काफी लोकप्रिय हैं. गुरुवार को विष्णु जी का ही दिन होता हैं. विष्णु जी को सत्यनारायण और लक्ष्मीनारायण नामो से भी जाना जाता हैं. ऐसे में यदि आप गुरुवार के दिन घर में सत्यनारायण की कथा रखते हैं तो ये ना सिर्फ आपकी शादीशुदा लाइफ के लिए लाभकारी रहेगा बल्कि पुरे परिवार की शान्ति में भी फायदा होगा. सत्यनारायण कथा घर में कराने से मकान की सारी नेगेटिव उर्जा बाहर निकल जाती हैं. साथ ही घर में रह रहे लोगो में पॉजिटिव एनर्जी आती हैं. इससे उनका मन साफ़ होता हैं और अच्छे विचार बनते हैं. इस तरह घर के लोगो में लड़ाई झगड़ा नहीं होता हैं और सभी शान्ति से रहते हैं. आप इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखे कि जब आप घर में सत्यनारायण कथा करवाए तो वहां आपके साथ आपके पतिदेव भी मौजूद रहे. तभी इसका पूर्ण लाभ आपकी शादीशुदा लाइफ को मिलेगा. आप ये कथा तीन से चार महीने में एक बार जरूर कराए.

loading...
loading...

Check Also

कढ़ाई में भोजन खाना क्यों किया जाता है मना, पीछे है बहुत बड़ी वजह

आपने अक्सर लोगों को कहते हुए सुना होगा कि यदि कुंवारे लोग कढ़ाई में खाना ...