Sunday , January 17 2021
Breaking News
Home / क्राइम / LAC पर जंग की तैयारी, मिसाइल के बाद चीनी टैंक भी तैनात, वो भी भारतीय चौकियों के ठीक सामने!

LAC पर जंग की तैयारी, मिसाइल के बाद चीनी टैंक भी तैनात, वो भी भारतीय चौकियों के ठीक सामने!

चालबाज चीन अब भी अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। भारत ने जब ड्रैगन की हर हरकत को ध्वस्त कर दिया तो वह अब धौंस दिखाने के लिए वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर टैंक की तैनाती कर रहा है। हालांकि, भारतीय सेना सीमा पर पूरी तरह चौकस है और किसी भी हरकत का माकूल जवाब देने के लिए तैयार है। बता दें कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर पिछले नौ महीने से गतिरोध बना हुआ है। दोनों देश सीमा विवादों को हल करने के लिए सैन्य और राजनयिक वार्ता में भी लगे हुए हैं।

LAC पर 200 मीटर दूर टैंक किए तैनात
खबरों के मुताबिक चीन ने एलएसी पर पूर्वी लद्धाक में भारतीय चौकियों के सामने अपने टैंक तैनात कर दिए हैं। एलएसी पर भारतीय टी-90 और चीनी टी-15 टैंक 200 मीटर की दूरी पर आमने-सामने हैं। ड्रैगन ने एलएसी के रेजांगला, रेचिन ला और मुखोसरी पर टी-15 टैंक तैनात किेए हैं। चीन ने भारतीय चौकियों के सामने जो टैंक तैनात किए हैं, वे हल्के टैंक हैं। इस बीच, अमेरिका ने भारतीय नौसेना को चीन की एक और नापाक हरकत के बारे में को सचेत किया है। अमेरिका ने कहा है कि 12 चीनी जंगी जहाज अंडमान द्वीप की ओर बढ़ने के लिए तैयार हैं।

मिसाइल पहले ही तैनात कर चुका है चीन
बता दें, चीन ने पूर्वी लद्दाख में सीमा टकराव के मद्देनजर रेडार, सतह से हवा में और सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइलें और अन्य हथियार भारी संख्या में बीते दिसंबर में ही तैनात कर दिए थे। इस बाद की पुष्टि भारतीय वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया ने दिसंबर में करते हुए चीन को चेतावनी देते हुए कहा था कि दोनों देशों के बीच अगर सीधा टकराव होता है तो चीन के लिए नुकसानदेह साबित होगा।

भारत ने भी कर ली है बड़ी तैयारी
चीन की किसी भी हिमाकत का जवाब देने के लिए भारत ने भी बड़ी तैयारी कर रखी है। सूत्रों के अनुसार, भारत ने बड़ी संख्या में टी-90 और टी -72 टैंक, तोपों, अन्य सैन्य वाहनों को विभिन्न संवेदनशील इलाकों में पहुंचा दिया है। यही नहीं, सेना ने 16,000 फुट की ऊंचाई पर तैनात अपने जवानों के लिए बड़ी मात्रा में कपड़े, टेंट, खाद्य सामग्री, संचार उपकरण, ईंधन, हीटर भी पहुंचा चुका है। ड्रैगन की किसी भी नापाक हरकत से निपटने के लिए पूर्वी लद्दाख में तीन अतिरिक्त सेना डिविजन की तैनात किया जा चुका है।

जिनपिंग को मिली युद्ध की शक्तियां!
चीन ने सेंट्रल मिलिट्री कमिशन (सीएमसी) की शक्तियां बढ़ाने के लिए अपने राष्ट्रीय रक्षा कानून में एक जनवरी से बदलाव किया है। इस कमिशन के अध्यक्ष चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग हैं। अब ‘राष्ट्रीय हित’ देश में और विदेश में यह कमिशन सैन्य और नागरिक संसाधन जुटा सकेगा। अब सेना के लिए नीति बनाने में स्टेट काउंसिल की भूमिका कम हो जाएगी और सीएमसी के पास ज्यादा ताकत होगी। विशेषज्ञों का मानना है कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग के नेतृत्व में सेना अब और ताकतवर हो जाएगी। चीन मीडिया के मुताबिक सशस्त्र बलों को तैनात करने के आधार के रूप में पहली बार ‘विकास हितों’ को कानून में जोड़ा गया है।

loading...
loading...

Check Also

नागोर बस हादसा : आग और करंट के बीच कांच तोड़ पहले खुद निकला दर्शन, फिर 2 बहनों को बचाया

जालोर में शनिवार रात करंट की चपेट में आने से बस में आग लगने के ...