Thursday , April 15 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / पूरा माहौल हो गया इमोशनल जब पढ़ा गया खत, ‘अपनों को खोने का गम मैं जानती हूं’ 

पूरा माहौल हो गया इमोशनल जब पढ़ा गया खत, ‘अपनों को खोने का गम मैं जानती हूं’ 

नागरिकता संशोधन एक्ट (सीएए) के विरोध में हुई हिंसा में जान गंवाने वाले फिरोजाबाद के लोगों के परिवार से शुक्रवार को कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की. इस दौरान परिजनों को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का एक पत्र पढ़कर सुनाया गया, जिसमें कांग्रेस महासचिव ने लिखा है कि अपनों को खोने का गम क्या होता है, मैं दिल की गहराइयों से जानती हूं.

बता दें कि सीएए के विरोध में 20 दिसम्बर को जुमे की नमाज के बाद फिरोजाबाद में हिंसा भड़क गई थी, जिसमें छह लोगों की मौत हो गयी थी. कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव पीएल पुलिया, राष्ट्रीय प्रवक्ता राशिद अल्वी व राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी विवेक बंसल का एक प्रतिनिधि मंण्ड़ल गुपचुप तरीके से हिंसा में मृत हुए लोगों के घर पहुंचा और परिजनों से वार्ता कर उन्हें सांत्वना दी.

प्रतिनिधिमण्ड़ल ने मृतक के परिजनों को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का पत्र पढ़कर सुनकर सुनाया, जिसमें प्रियंका गांधी ने लिखा है कि-

अपनो को खोना क्या होता है. मैं दिल की गहराइयों से समझती हूं. आपके साथ जो हुआ है, उसकी कोई भरपाई तो नहीं की जा सकती. मगर ऐसे मौके पर एक दूसरे का हाथ थामने से भी मन को तसल्ली मिलती है. आप कतई अपने को अकेला न समझे, हौसला न खोएं, हम आपके साथ हैं. हमें आगे बढ़ना है और इंसाफ की मांग को मजबूत करना है. इंसाफ को बांटने वाली ताकते मुल्क को कमजोर कर रही हैं. हमें अपने प्यारे मुल्क और संविधान को बचाने के लिये लड़ना है. जब भी और जहां भी हमारी जरूरत हो आवाज देने में हिचक न करें. आपकी साथी प्रियंका गांधी वाड्रा.

इस दौरान सैकड़ों की भीड़ और कांग्रेस के कई स्थानीय नेता भी मौजूद रहे.

loading...
loading...

Check Also

पंचायत चुनाव : घर आ जा ‘परदेसी’, तेरा ‘प्रधान’ बुलाए रे, वोटरों को बुलाने के लिए सहूलियतों की लगी झड़ी

लखीमपुर-खीरी  : त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में यदि कहीं पर सबसे अधिक जुनून या उत्साह दिखाई ...