Thursday , October 29 2020
Breaking News
Home / क्राइम / Video : वॉर के लिए रेडी हुआ चीन, LAC पर बनाए स्पेशल बैरक, यहीं से होगा अटैक !

Video : वॉर के लिए रेडी हुआ चीन, LAC पर बनाए स्पेशल बैरक, यहीं से होगा अटैक !

चीन की मीडिया ने दावा किया है कि पीपुल्‍स ल‍िबरेशन आर्मी ने पहली बार अपने लद्दाख से सटे तिब्‍बत के नागरी इलाके में अपने सैनिकों के लिए नए आधुनिक बैरक बनाए हैं और भारी तोपें तैनात की हैं। चीनी ने मीडिया ने कहा कि पीएलए ‘युद्ध की तैयार‍ियों’ के तहत इसे अंजाम दे रही है। पुराने और अस्‍थाई बैरक की जगह पर सैनिकों के लिए नए तथा स्‍थायी बैरक का निर्माण किया जा रहा है।

इससे पहले सैटलाइट से मिली तस्‍वीरों से पता चला था कि चीन नागरी इलाके और एयरबेस पर में बड़े पैमाने निर्माण कार्य कर रहा है जो वास्‍तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से कुछ ही दूरी पर स्थित है। इस खुलासे के बाद अब पहली बार चीन ने माना है कि वह एलएसी पर बड़े पैमाने पर तैयारियों में जुटा हुआ है। चीनी मीडिया ने यह नहीं बताया कि कितने सैनिक तैनात किए गए हैं लेकिन तस्‍वीरों से पता चल रहा है कि चीन ने बड़ी संख्‍या सैनिक यहां पर तैनात किए हैं।

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन का यह सैन्‍य ठिकाना करीब 15000 फुट की ऊंचाई पर है और वर्ष 1962 के भारत-चीन युद्ध के एक प्रमुख युद्ध के मोर्चे के बिल्‍कुल पास हो सकता है। चीन के नागरी प्रांत की सीमाएं भारत, नेपाल और चीन के उइगर बहुल शिंजियांग इलाके से मिलती हैं। इस इलाके में चीन की सबसे कम जनसंख्‍या निवास करती है। इसी प्रांत में कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील भी स्थित है।

भारत और चीन के बीच विवाद का मुद्दा बना देमचोक इलाका भी यहीं पर है। चीन के सरकारी टीवी चैनल सीसीटीवी ने यह नहीं बताया कि चीन ने इन बैरक का निर्माण कब शुरू किया और उसे बनाने में कितना समय लगा। हालांकि उसने यह दावा किया कि कई नई तकनीकों की मदद से इन सैन्‍य सुविधाओं का बहुत तेजी से निर्माण किया गया है। चीनी सेना पीएलए ने भी नए बैरक की तस्‍वीर जारी की है। इसमें कई विशाल इमारतें शामिल हैं। इसके अलावा तोपों को छ‍िपाने के लिए कई बैरक बनाए गए हैं।

सीसीटीवी ने कहा कि इन बैरक का मकसद युद्ध की तैयारी करना है। उसने कहा, ‘बैरक के अंदर हर चीज को चौड़ा बनाया गया है ताकि तेजी से सैनिकों को इकट्ठा किया जा सके। युद्ध के लिए जरूरी सामान के गोदाम और गैरेज को जोड़ा गया है ताकि आपातकालीन स्थिति में तेजी से हथियारों को लोड करके सैनिकों को भेजा जा सके। इन नए बैरक के बनाए जाने से सैनिकों को आसानी से इलाके में ढलने का मौका म‍िलेगा।

loading...
loading...

Check Also

यूपी में 3 नवंबर को सार्वजनिक छुट्टी का ऐलान, लेकिन सिर्फ इन जिलों में

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में तीन नवम्बर को सार्वजनिक अवकाश रहेगा। यह अवकाश प्रदेश के सात जिलों ...