Sunday , January 24 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / Video : प्राचीन पिरामिड से बाहर आती दिखी महिला, फिर जो पता चला वो और हैरान कर दिया!

Video : प्राचीन पिरामिड से बाहर आती दिखी महिला, फिर जो पता चला वो और हैरान कर दिया!

मेक्सिको
माया सभ्यता के रहस्य जितने गहरे रहे हैं, उसकी निशानियों को आज भी बाहरी दुनिया से बचाने की कोशिश जारी है। खासकर बिना इजाजत इससे जुड़े मंदिरों और दूसरे स्थलों पर जाना किसी को भी महंगा पड़ सकता है। मेक्सिको के यूकटान प्रायद्वीप में कैलिफोर्निया की एक पर्यटक के साथ ऐसा ही हुआ जिसने स्थानीय प्रशासन के लिए पहेली खड़ी दी है। इस महिला का वीडियो सामने आया है जिसमें वह माया सभ्यता के एक मंदिर तक जाने वाले पिरामिड की सीढ़ियों से उतरती दिखाई दे रही है। जहां जाने की आम लोगों की हिम्मत नहीं होती, वहां यह महिला कैसे और क्यों गई, इसे लेकर सवाल खड़ा हो गया है।

मंदिर के अंदर हुई दाखिल
बिना इजाजत माया सभ्यता के इस मंदिर में दाखिल होने और पिरामिड पर चढ़ने के आरोप में इस महिला को हिरासत में ले लिया गया है। यह भी बताया जा रहा है कि महिला ने नशे की हालत में ऐसा किया और उसका वीडियो अब सामने आया है। उसे लेकर कई तरह के अपुष्ट दावे भी किए जा रहे हैं। घटना यूकटान के इत्जा पुरातत्व कॉम्प्लेक्स की है। यह महिला एल कास्टीलो या कुकुलचान के मंदिर में 3 जनवरी को चली गई थी।

आखिर अंदर क्यों गई?
सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे वीडियो में दिखाई दे रहा है कि महिला पिरामिड से उतर रही है और नीचे खड़े दूसरे पर्यटक उसे देख रहे हैं। स्थानीय रिपोर्ट्स के मुताबिक महिला ने बताया है कि उसने अपने दिवंगत पति से पिरामिड चढ़ने का वादा किया था। कुछ लोगों ने यह भी दावा किया है कि महिला ने पति की अस्थियां पिरामिड के ऊपर फैलाईं। हालांकि, इसकी पुष्टि नहीं की गई है।

बेहद प्राचीन है मंदिर
नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ ऐंथ्रोपोलॉजी ऐंड हिस्ट्री (INAH) ने बयान जारी कर बताया है कि मामला सामने आने के बाद जांच शुरू कर दी गई है और महिला के खिलाफ अनाधिकृत रूप से दाखिल होने के लिए केस चलाया जा सकता है। एल कास्टीलो 8वीं से 12वीं शताब्दी के बीच बनाया गया था। इसे कुकुलचान देवता का मंदिर बताया जाता है जो मेक्सिकन सभ्यता के भगवानों के करीबी हैं। इस पिरामिड के सबसे ऊपर मंदिर है जहां तक जाने के लिए चारों ओर से सीढ़ियां बनी हैं।

loading...
loading...

Check Also

अमानवीय रिवाज : बिहार में जब जुल्म के दरवाज़े पर पहुंचती थी ‘डोली’ !

‘मेहंदी लगाके रखना, डोली सजाके रखना’, एक समय इस गाने ने पूरे देश को दीवाना ...