Monday , October 26 2020
Breaking News
Home / ख़बर / कुर्सी के लिए फिर बदले शिवसेना के सुर, कहा- आधे से कम कुछ नहीं मंजूर

कुर्सी के लिए फिर बदले शिवसेना के सुर, कहा- आधे से कम कुछ नहीं मंजूर

शिवसेना का रुख हर बदलते घंटे के साथ बार-बार बदल रहा है. बुधवार रात को जहां उसकी ज़ुबान से अचानक ही भाजपा फ़ूल झड़ने लगे थे. उसे अपने राजनीतिक अस्तित्व और राज्य के हित के लिए भारतीय जनता पार्टी के साथ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का बने रहना ही श्रेयस्कर लग रहा था, वहीं गुरुवार को अचानक फिर से उसे 50-50 फॉर्मूला याद आने लगा है.

शिव सेना नेता संजय राउत ने कल दिए बयानों से गुलाटी मारते हुए आज फिर से दावा किया है कि उनकी पार्टी के रुख में न ही कोई नरमी आई है, न ही उनकी पार्टी कभी अपने वादे से पीछे हटी थी. यह तो भारतीय जनता पार्टी है, बकौल राउत, जो चुनाव के पहले तय किए गए 50-50 फॉर्मूले पर अमल से पीछे हटना चाहती है. उन्होंने कहा कि शिव सेना अपनी माँग पर आगे बढ़ती रहेगी. उन्होंने कहा कि सरकार निर्माण होने की सूरत में मंत्रीमंडल में 50-50 मंत्रियों का गणित ही रहेगा.

यही नहीं, शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में पार्टी ने एक बार फिर बीजेपी को निशाने पर लिया है. मुखपत्र के संपादकीय में लिखा गया है कि बीजेपी अपने सहयोगी दल के साथ यूज एंड थ्रो पॉलिसी अपनाती है. लोकसभा चुनाव से पहले गठबंधन में जो भी तय हुआ था बीजेपी को उसी को लागू करना चाहिए. सरकार गठन के लिए सभी पदों का बराबर बंटवारा होना चाहिए.

जबकि कल ही राउत के हवाले से खबर आई थी कि शिवसेना अब सीएम की कुर्सी को लेकर और अड़ने को इच्छुक नहीं है. मीडिया से बात करते हुए राउत ने कथित तौर पर कहा था कि पार्टी भारतीय जनता पार्टी के साथ अपनी युति की कद्र करती है. राउत बोले थे कि “हमें पता है कि गठबंधन में बने रहना ही बेहतर है और यही राज्य के भी हित में है. जो हम चाहते हैं, वह यह कि हमें सम्मान दिया जाए.”

इस सबके बीच शिवसेना ने भी भाजपा की तर्ज पर अपने विधायक दल के नेता का चुनाव कर लिया है. लेकिन यहां एक बड़ा उलटफेर करते हुए इस पद पर एकनाथ शिंदे का चुनाव हुआ है, जबकि अधिकांश कयास यह पद आदित्य ठाकरे को मिलने के लग रहे थे.

शिवसेना सूत्रों ने कहा कि पार्टी प्रमुख और आदित्य ठाकरे के पिता उद्धव ठाकरे अपने बेटे को शिवसेना विधायक दल का नेता बनाए जाने के इच्छुक नहीं थे.

loading...
loading...

Check Also

माइक्रोमैक्स का ऐलान- “हम दमदार वापसी करेंगे”, कहा- “आओ करें चीनी कम”

भारत के दुश्मन नंबर 1 चीन के बहिष्कार को लेकर लोगो ने मुहीम छेडी हुई ...