Sunday , January 17 2021
Breaking News
Home / ख़बर / लंबी चलेगी लड़ाई : गुल पनाग बोलीं- SC की कमेटी में किसान हित की बात करने वाला कोई नहीं

लंबी चलेगी लड़ाई : गुल पनाग बोलीं- SC की कमेटी में किसान हित की बात करने वाला कोई नहीं

चंडीगढ़. बुधवार को लोहड़ी के मौके पर सेक्टर 17 प्लाजा में एक प्रोटेस्ट हुआ, जिसमें न सिर्फ गीतों और नाटकों के माध्यम से केंद्र की मोदी सरकार को घेरा, बल्कि तीनों कृषि कानूनों की कॉपियां भी लोहड़ी में स्वाहा कर दीं। इस मौके पर एक्टर गुल पनाग के अलावा अलग-अलग क्षेत्रों के लोग और बड़ी तादाद में युवा भी पहुंचे थे।

गुल पनाग ने वहां मौजूद लोगों से एकजुटता की अपील की और कहा कि भले ही हम में से कई डायरेक्ट तौर पर किसानी से न जुड़े हों। लेकिन हम खाते किसान द्वारा पैदा की फसल को ही हैं। इसलिए हमें इस बड़े मामले को गंभीरता से लेना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि ये लड़ाई बहुत लंबी चलेगी, इसलिए सभी को एक साथ मिलकर आगे बढ़ना चाहिए।

बॉलीवुड एक्ट्रेस बोलीं, ये सिर्फ इसी कानून की बात नहीं। आने वाले समय में बनने वाले सभी कानूनों की है क्योंकि हमारे संविधान में सुनवाई के लिए कोर्ट जाने का हक दिया गया है। लेकिन, जैसे इस कानून में हमसे वो हक छीना गया, हो सकता है भविष्य में भी ऐसा हो।

उन्होंने आगे कहा कि विरोध करने वाला जरूरी नहीं कि वो विद्रोही नहीं हो। लोकतंत्र में मतभेद जरूरी है। जितने भी लोग किसानी से जुड़े हैं, उनसे आधे से अधिक वर्दी से जुड़े हैं। किसानी से जुड़े लोग देश की आर्मी और अन्य सेनाओं से जुड़े हैं। उनके लिए आतंकवादी, खालिस्तानी जैसे शब्दों का इस्तेमाल बिलकुल भी सही नहीं है।

गुल ने ये भी कहा कि SC ने इस मामले में बात करने के लिए जो चार सदसीय कमेटी गठित की है, उसमें सभी वो हैं जो इन कृषि बिलों को सपोर्ट करते हैं। इसलिए किसानों को इस पर संशय है कि उन्हें इंसाफ मिलेगा भी या नहीं। बोले, उस कमेटी में ऐसा कोई भी सदस्य नहीं है जो किसानों के इंटरेस्ट को लेकर बात करने वाले हों। वे बोलीं किसानों के इंटरेस्ट की बात करने वालों की रिप्रेजेंटेशन होनी चाहिए। वरना कमेटियां तो पहले भी बनी हैं लेकिन हल कोई नहीं निकला।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों पर रोक लगा दी है। लेकिन, किसान, किसानों से जुड़ी जत्थेबंदियां और आंदोलन की शुरुआत से किसानों को समर्थन देने वाले अभी भी इस बात पर अड़िग हैं कि सरकार तीनों कानूनों को रद्द कर दे। इसलिए, वे अपने आंदोलन को जारी रखे हुए हैं और अभी भी केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साध रहे हैं।

loading...
loading...

Check Also

नागोर बस हादसा : आग और करंट के बीच कांच तोड़ पहले खुद निकला दर्शन, फिर 2 बहनों को बचाया

जालोर में शनिवार रात करंट की चपेट में आने से बस में आग लगने के ...