Thursday , March 4 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया का उभरता नाम है युवा उद्यमी शिवम् बंगवाल

डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया का उभरता नाम है युवा उद्यमी शिवम् बंगवाल

वर्तमान पीढ़ी जिसे हम जेन-जेड के नाम से जानते हैं बहुत ही महत्वाकांक्षी है और अपने सपने पर न सिर्फ विश्वास करती है बल्कि उन्हें हकीकत में तब्दील करना भी इसे आता है। यह वह पीढ़ी है जो अपनी सोशल मीडिया पर उपस्थिति को लेकर उतनी ही जागरूक है, जितनी अपनी वास्तविक दुनिया में प्रेजेंस को लेकर।

ऐसा हो भी क्यों न आखिर सोशल मीडिया उन्हें अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के लिए एक बड़ा एवं आसान माध्यम देता है, जिसमें उन्हें किसी मध्यस्थ की आवश्यकता नहीं पड़ती। हम रोज ऐसे युवाओं के बारे में पढ़ते हैं जो अपने आकर्षक व्यक्तित्व, प्रतिभा एवं मेहनत के बलबूते पर सफल सोशल मीडिया के जरिए नाम कमा रहे हैं, ऐसे ही सोशल मीडिया एक्सपर्ट शिवम् बंगवाल हैं।

बहुआयामी प्रतिभा के धनी शिवम् बंगवाल का जन्म 6 नवंबर 1999 में श्रीनगर गढ़वाल में हुआ था। मात्र 21 वर्ष की आयु में वे एक कुशल सोशल मीडिया एक्सपर्ट एवं डिजिटल मार्केटर बन गए हैं। डिजिटल मीडिया में उनकी रुचि काफी छोटी उम्र से थी इसीलिए उन्होंने इसकी तकनीकी जानकारी एकत्रित करना शुरू कर दिया था और डिजिटल में करियर की फॉर्मल शुरुआत उन्होंने 2014 में की।

अपने स्कूल की शिक्षा के साथ ही घर पर ही डिजिटल मार्केटिंग, सोशल मीडिया मैनेजमेंट, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और पर्सनल ब्रांडिंग के बारे में पढ़ाई करके जानकारी हासिल की। अपनी मेहनत और लगन के बलबूते पर बहुत जल्द ही वह एक सफल डिजिटल मार्केटर बन गए। हजारों युवा उनके बारे में पढ़कर एवं उनकी सफलता से प्रेरणा ले सकते हैं।

शिवम् बंगवाल नई सोच एवं व्यक्तित्व के मालिक हैं, उनका विश्वास है कि वर्तमान दुनिया में अगर आप किसी क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं और आप में लगन एवं विश्वास है तो आपको फॉर्मल एजुकेशन कि इतनी जरूरत नहीं है।

सोशल मीडिया एवं इंटरनेट की दुनिया में आप बहुत सी जानकारी वेब पर एकत्रित कर सकते हैं एवं सही दिशा में आगे बढ़ कर सफलता हासिल कर सकते हैं। अगर आप में प्रतिभा है और कभी हार ना मानने वाली दृढ़ शक्ति है तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

 

loading...
loading...

Check Also

नगर पंचायत किशनी में प्रधानमंत्री आवास योजना चढ़ रही भ्रष्ट्राचार की भेंट

– चाहे लाख करो तुम पूजा तीर्थ करो हजार, दीन दुःखी को ठुकराया तो सब ...