अग्निपथ योजना के विरोध की आशंका पर जिला प्रशासन सतर्क, रेलवे स्टेशनों पर सख्त निगरानी

0
3

वाराणसी, 19 जून (हि.स.)। अग्निपथ योजना को लेकर पूर्वांचल के युवाओं में आक्रोश को देख जिला प्रशासन सतर्क है। रविवार को जिले के सभी रेलवे स्टेशनों और रोडवेज पर पुलिस बल ने सुबह से ही गश्त शुरू कर दिया। प्रदर्शनकारी युवाओं के आगजनी, पथराव और तोड़फोड़ को रोकने के लिए ग्रामीण अंचल में भी अफसर मुस्तैद है। कैंट स्टेशन,बनारस स्टेशन,वाराणसी सिटी के अलावा ग्रामीण अंचल के शिवपुर,राजातालाब स्टेशन पर भी फोर्स के साथ अफसर चहलकदमी कर रहे है।

अग्निवीर भर्ती को लेकर भैरव तालाब स्थित डॉ राम मनोहर लोहिया पीजी कॉलेज के ग्राउंड में तैयारी में जुटे युवाओं से भी अफसर मिले और उन्हें इसकी जानकारी दी। राजातालाब थाना प्रभारी रामाशीष राम ने युवाओं का उत्साह बढ़ाते हुए शांतिपूर्ण ढंग से तैयारी करने को कहा। मोहनसराय चौकी इंचार्ज कुमार गौरव सिंह ने वाराणसी जिले के तरफ जा रहे बसों में यात्रियों का चेकिंग कर बसों में बैठे नौजवानों को किसी प्रकार का उपद्रव न करने की हिदायत दी। बताते चले,अग्निपथ योजना को लेकर वाराणसी में उपद्रव करने वालों पर प्रशासन की कार्रवाई लगातार जारी है। उपद्रवियों के खिलाफ दो दिन में हत्या का प्रयास और लूट जैसे गंभीर आपराधिक आरोपों में सिगरा, जैतपुरा और कैंट थाने में 8 मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं। 27 आरोपियों को जेल भेजने के बाद पुलिस अब उपद्रव की साजिश रचने वालों और उन नकाबपोश लोगों की तलाश कर रही है जो उपद्रव में बढ़-चढ़ कर शामिल थे। रोडवेज की बसों के शीशे तोड़ने के अलावा जिस तरह से सरकारी संपत्तियों को हुए नुकसान की भरपाई गिरफ्त में आए उपद्रवियों से ही की जाएगी।

यूपी रोडवेज के वाराणसी ग्रामीण डिपो के एआरएम ओम प्रकाश ओझा और सिटी ट्रांसपोर्ट के डिपो मैनेजर संजीत कुमार सिंह की तहरीर के आधार पर 150 से ज्यादा अज्ञात आरोपियों पर बलवा, लूटपाट और सार्वजनिक संपत्ति को क्षति पहुंचाने सहित अन्य आरोपों में दो मुकदमे दर्ज किए गए। वाराणसी पुलिस कमिश्नर के अनुसार जिले के थानेदारों और एसीपी को निर्देश दिया गया है कि माहौल पूरी तरह से सामान्य होने तक अतिरिक्त सतर्कता के साथ ड्यूटी करनी है। कमिश्नरेट क्षेत्र में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा-144 का कड़ाई से पालन हो और कहीं भीड़ न इकट्ठा होने पाए इसके लिए भी निर्देश जारी किये गये है।