Saturday , July 24 2021
Breaking News
Home / खबर / आदमखोर का आतंक: पहली बार कैमरे में कैद हुआ तेंदुआ, अब तक ले चुका 4 जान

आदमखोर का आतंक: पहली बार कैमरे में कैद हुआ तेंदुआ, अब तक ले चुका 4 जान

उदयपुर में तेंदुए का आतंक कम होने का नाम नहीं ले रहा है। मवेशियों के बाद अब इंसानों को मौत के घाट उतारने वाले आदमखोर हो चुके तेंदुए को पकड़ने के लिए जयपुर से विशेषज्ञों को भेजा गया है। उदयपुर के जावर माइंस थाना क्षेत्र में जयपुर से आए डॉ अरविंद माथुर ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। इसके साथ ही माथुर ने वन विभाग के अधिकारियों के साथ तेंदुए को पकड़ने के लिए नई रणनीति बनाई है।

बढ़ाई गई पिंजरे और ट्रैप कैमरों की संख्या

रेंजर सुरेंद्र सिंह ने बताया कि हमलावर हो चुके तेंदुए को पकड़ने के लिए लगातार वन विभाग द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। वन विभाग की टीम सघन जंगलों में 10 से 15 किलोमीटर तक अंदर जा चुकी है। लेकिन अब तक हमलावर हो चुके तेंदुए का पता नहीं चल पाया है। ऐसे में वन विभाग की टीम द्वारा पिंजरों की संख्या बढ़ाने के साथ ही ट्रैप कैमरों की दिशा में परिवर्तन किया गया है। ताकि आदमखोर तेंदुए को जल्द से जल्द पकड़ा जा सके।

जंगल जाने से कुछ वक्त के लिए करें परहेज

वन विभाग के अधिकारियों ने आदमखोर तेंदुए को पकड़ने के लिए जहां सर्च ऑपरेशन तेज कर दिया है। वहीं ग्रामीणों की बैठक लेकर उन्हें जंगल की ओर नहीं जाने की हिदायत भी दी है। वन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि कुछ वक्त के लिए मवेशियों को जंगल की तरफ नहीं ले जाएं। फिलहाल आदमखोर हो चुका तेंदुआ पकड़ में नहीं आया है। ऐसे में हमें सजग और सावधान रहने की जरूरत है।

खेतों में जाने से डर रहे ग्रामीण

जावर माइंस थाना क्षेत्र के रहने वाले हरिराम ने बताया कि तेंदुए के आतंक के बाद घर से बाहर निकलना भी दूभर हो गया है। हमारी आजीविका कृषि से चलती है। लेकिन तेंदुए के डर से अब खेतों में जाने में भी डर लगने लगा है। इससे पहले हम मवेशियों को भी भोजन पानी के लिए जंगलों में नहीं ले जा रहे थे। लेकिन अब उन्हें भी घरों में रखने को मजबूर है। ऐसे में तेंदुए के आतंक से हमारे लिए भोजन पानी का संकट खड़ा हो गया है।

एक महीने में चार की जा चुकी है जान

आदमखोर तेंदुआ पिछले एक महीने में जावर माइंस थाना क्षेत्र के 4 लोगों को मौत के घाट उतार चुका है। वहीं कई मवेशियों को अपना शिकार बना चुका है। बावजूद इसके तेंदुए की दस्तक अब भी थमने का नाम नहीं ले रही थी। जिसके बाद भयभीत ग्रामीणों ने तेंदुए को पकड़ने के लिए विरोध शुरू कर दिया था। ग्रामीणों के विरोध के बाद अब वन विभाग की टीम ने भी सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। लेकिन तेंदुआ अब भी विभाग की पकड़ से दूर है।

बता दें कि तेंदुआ जून में उदयपुर के जावर माइंस थाना क्षेत्र में घर में सो रही मांगी बाई, मानसिक विक्षिप्त केसरी, अमरी बाई और एक अन्य महिला को अपना शिकार बना चुका है।

loading...

Check Also

वैक्सीन लगाने को लेकर आपस में भिड़ गईं महिलाएं, जमकर हुई मारपीट, वीडियो वायरल

खरगोन एमपी के खरगोन जिले में वैक्सीन को लेकर जबरदस्त मारामारी (People Crowd For Vaccine) ...