Monday , June 14 2021
Breaking News
Home / खबर / ब्लैक फंगस से तड़पा गुजरात, कहर झेल रहा अहमदाबाद, देखें ताजा हालात

ब्लैक फंगस से तड़पा गुजरात, कहर झेल रहा अहमदाबाद, देखें ताजा हालात

अहमदाबाद. कोरोना के बाद म्यूकोरमाइकोसिस अर्थात ब्लैक फंगस के मरीजों में भी लगातार वृद्धि हो रही है। अहमदाबाद के असारवा स्थित सिविल अस्पताल में ही इस फंगस के पिछले 55 दिनों में 852 मरीज भर्ती हो चुके हैं इनमें से 456 के ऑपरेशन भी करने पड़े हैं। हाल में यहां पौने चार सौ के आसपास मरीज भर्ती हैं। सिविल अस्पताल के चिकित्सकों का मानना है कि कोरोना वायरस का दोहरा स्वरूप होने के कारण ब्लैक फंगस ज्यादा हावी रहा है। ऐसे में इस फंगस ने रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी वाले लोगों को निशाना बनाया है।

सिविल अस्पताल में गत अप्रेल माह से अब तक लगभग 55 दिनों में ब्लैक फंगस के 852 मरीज भर्ती हो चुके हैं। इनमें से 456 ऑपेरशन भी हुए हैं। नाक साइनस, आंख एवं तालू के भी ऑपरेशन करने पड़े हैं। इसके अलावा सिविल अस्पताल कैंपस में ही स्थित डेंटल हॉस्पिटल में भी म्यूकोरमाइकोसिस के 142 मरीजों के ऑपरेशन सोमवार तक किए जा चुके हैं। इस अस्पताल में भी फिलहाल 100 से अधिक मरीज भर्ती हैं।

महामारी के रूप में घोषित इस बीमारी के मरीजों के लिए अस्पताल में अलग से वार्ड की व्यवस्था की गई है। प्रतिदिन 20 से लेकर 35 तक ऑपरेशन भी अस्पताल में किए गए हैं। हालांकि पिछले कुछ दिनों से म्यूकोरमाइकोसिस के मरीजों की संख्या में कमी आई है।

सिविल अस्पताल के चिकित्सकों का मानना है कि कोरोना का दोहरा रूप आने के कारण म्यूकोरमाइकोसिस के मरीजों की संख्या बढ़ी है। हालांकि इस तरह के मरीज कोरोना काल से भी पहले देखने को मिलते थे लेकिन तब इनकी संख्या बहुत कम थी। कोरोना महामारी के बाद इसके मामलों में तेजी से वृद्धि हुई थी।

कोरोना की पहली लहर में सिविल अस्पताल में ब्लैक फंगस के 100 मरीज आ चुके थे। अहमदाबाद के सोला सिविल अस्पताल में फिलहाल ब्लैक फंगस के 75 मरीज भर्ती हैं इनमें से अधिकांश के ऑपरेशन किए जा चुके हैं।

loading...
loading...

Check Also

गोल्ड स्मगलिंग का हब बना लखनऊ, ऐसे-ऐसे तरीकों से लोग लाते हैं सोना कि पूछिए मत!

लखनऊ. Gold Smuggling in Lucknow- सोने पर 12.5 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी एवं 3.0 प्रतिशत जीएसटी के ...