Saturday , September 25 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / आफत की बारिश : वाराणसी में वार्निंग लेवल के ऊपर बह रही गंगा, इन बातों का रखें ध्यान

आफत की बारिश : वाराणसी में वार्निंग लेवल के ऊपर बह रही गंगा, इन बातों का रखें ध्यान

वाराणसी: बनारस में गंगा चेतावनी बिंदु के ऊपर बह रही है. गंगा के वार्निंग लेवल क्रॉस करने पर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट हो गया है. वहीं, एनडीआरएफ को भी सर्तक कर दिया गया है. डीएम ने बाढ़ को लेकर मुकम्मल तैयारियां कर ली हैं. कई हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं.

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि जनपद में गंगा नदी का चेतावनी बिंदु 70.26 मीटर है, खतरे का स्तर 71.26 मीटर और अधिकतम जलस्तर 73.901 है. शनिवार को केंद्रीय जल आयोग द्वारा सुबह 8 बजे गंगा नदी का जलस्तर 70.36 मीटर हो गया, जो चेतावनी बिंदु से 10 सेमी. अधिक है. गंगा के वार्निंग लेवल के ऊपर बहने पर प्रशासन लोगों की सुरक्षा और उनके सुरक्षित ठिकानों की व्यवस्था में जुट गया है.

वाराणसी में खतरे के निशान के करीब गंगा.

रखें इन बातों का ध्यान, क्या करें क्या न करें

डीएम कौशल राज शर्मा ने आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं. उन्होंने बाढ़ की स्थिति में क्या करें, क्या न करें के संबंध में विस्तार से अवगत कराते हुए बताया कि बाढ़ से पूर्व ऊंचे स्थानों को पहले से चिह्नित करें. जरूरी कागजात जैसे-राशन कार्ड, बैंक पासबुक, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड इत्यादि को वॉटरप्रुफ बैग में सम्भाल कर रखें. आवश्यकतानुसार खाद्य सामग्री जैसे-बिस्किट, लाई, भुना चना, गुड़, चूडा, नमक, चीनी, सत्तू इत्यादि एकत्र करें. बीमारी से बचाव के लिए क्लोरिन, ओआरएस और आवश्यक दवाइयां प्राथमिक उपचार किट में रखें. सूखे अनाज एवं मवेसियों के चारे को किसी ऊंचे स्थान पर सुरक्षित रखें. जैरीकैन, छाता, तिरपाल, रस्सी, हवा से भरा ट्यूब, प्राथमिक उपचार किट, मोबाइल व चार्जर, बैटरी चालित रेडियो, टॉर्च, इमरजेन्सी लाइट, माचिस इत्यादि पहले से तैयार रखें और पशुओं में होने वाली बीमारियों की रोकथाम के लिए पशुओं का समय से टीकाकरण कराएं.

उन्होंने कहा कि बाढ़ की चेतावनी मिलते ही गर्भवती महिलाओं, बच्चों, वृद्धों, दिव्यांग जनों और बीमार व्यक्तियों को तुरन्त सुरक्षित स्थान पर पहुचाएं. घर छोड़ने से पूर्व बिजली का मुख्य स्विच व गैस के रेगुलेटर को अनिवार्य रूप से बंद करें एवं शौचालय सीट को बालू से भरी बोरी से ढकें. बाढ़ में डूबे हैंडपंप के पानी का सेवन न करें, उबला हुआ ए क्लोरीन युक्त पानी का उपयोग करें. बाढ़ के पानी के सम्पर्क में आई खाद्य सामग्रियों का सेवन न करें. गर्भवती महिलाओं को आशा एवं एएनएम की मदद से सुरक्षित प्रसव की व्यवस्था करें. बिजली के तार एवं ट्रांसफार्मर से दूर रहें. डंडे से पानी की गहराई की जांच करें, गहराई पता न होने पर उसे पार करने की कोशिश न करें.

डीएम कौशल राज शर्मा ने कहा कि क्षमता से अधिक लोग नाव पर न बैठें. विषैले प्राणियों जैसे-सांप, बिच्छू आदि से सतर्क रहें और सांप काटने पर पीड़ित व्यक्ति को तुरन्त नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र ले जाएं. बाढ़ से क्षतिग्रस्त घरों में प्रवेश न करें. क्षतिग्रस्त बिजली के उपकरणों का प्रयोग न करें. क्षतिग्रस्त पुल या पुलिया को वाहन द्वारा पार करने की कोशिश न करें. स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा सुरक्षित घोषित करने पर ही बाढ़ में डूबे हैंडपंप के पानी का उपयोग करें. महामारी की रोकथाम के लिए बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों और घरों के आसपास ब्लीचिंग पॉउडर का छिड़काव करें. संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए मरे हुए पशुओं एवं मलबों को एक जगह एकत्र कर जमीन में दबाए तथा मलेरिया से बचाव के लिए मच्छरदानी का प्रयोग करें.

इन नबरों से मिलेगी मदद

डीएम ने बताया कि बाढ़ से संबंधित किसी नुकसान की सूचना व संबंधित जानकारी प्राप्त करने और सहायता के लिए बाढ़ कंट्रोल रूम के टेलीफोन नंबर 0542-2502562 पर कॉल करें.

यह नंबर भी काम के

अपर जिलाधिकारी (वि/रा) के मोबाइल नंबर 9454417650, उप जिलाधिकारी सदर 9454417040, उप जिलाधिकारी राजातालाब 9454417037, उप जिलाधिकारी पिण्डरा 9454417039, तहसीलदार सदर 9454417042, तहसीलदार राजातालाब 9454417044, तहसीलदार पिण्डरा 9454417043, मुख्य चिकित्साधिकारी 9415301513, अधिशासी अभियंता बन्धी प्रखण्ड 9457207974, अपर नगर आयुक्त नगर निगम 9838570333, जिला पंचायत राज अधिकारी 9454026006, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी 9415070018.

loading...

Check Also

पंजाब के नए मुख्यमंत्री का भांगड़ा वाला वीडियो हुआ वायरल तो एक्ट्रेस स्वरा का यूं आया रिएक्शन

नई दिल्ली :  पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का एक वीडियो सोशल मीडिया ...