Thursday , October 28 2021
Breaking News
Home / खबर / महाराष्ट्र: 3 महीने पहले के हालात पर पहुंचा कोरोना, इन आंकड़ों ने ही ‘अनलॉक’ कराया

महाराष्ट्र: 3 महीने पहले के हालात पर पहुंचा कोरोना, इन आंकड़ों ने ही ‘अनलॉक’ कराया

मुंबई:  Maharashtra coronavirus Update: कोविड-19 के महाराष्ट्र में 13,659 नए मामले सामने आए हैं. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी है कि महाराष्ट्र में शनिवार को संक्रमण के 13,659 नए मामले सामने आए हैं, जो कि 10 मार्च से अब तक का सबसे कम आंकड़ा है. वहीं, वायरस ने 300 और लोगों की जिंदगी ले ली. राज्य स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 58,19,224 और मृतकों की संख्या बढ़कर 99,512 हो गई है.

राज्य में लगातार छठे दिन संक्रमण के मामले 20,000 से नीचे आए हैं. महाराष्ट्र में अब 1,88,027 मरीजों का उपचार चल रहा है. महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में 21,776 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई, जो कुल मिलाकर 95.01 प्रतिशत रिकवरी दर को दर्शाता है.

मुंबई में कोविड-19 के 863 नए मामले सामने आए हैं और 29 लोगों की मौत हो गई. आंकड़ों से पता चलता है कि मुंबई में कोविड के कुल मामले बढ़कर 7,10,807 हो गए, जबकि कुल मौतों संख्या 15,018 हो गई है.

महाराष्ट्र में बड़े पैमाने पर कोरोना वायरस संक्रमण फैला जिसे रोकने के लिए सख्त लॉकडाउन चल रहा है. पॉजिटिविटी रेट घटने और चिकित्सा ऑक्सीजन के साथ बिस्तरों की जरूरत घटने के आधार पर सोमवार से पांच चरणों में महाराष्ट्र अनलॉक होगा.

कोरोना के मामलों में आई कमी के बाद अब महाराष्ट्र में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की जा रही है. कुल पांच स्तरों में यह अनलॉक किया जा रहा है. हर शहर या जिले में पॉजिटिविटी दर और ऑक्सीजन बेड के आधार पर ही छूट दी जा रही है. दो महीनों से अधिक समय तक महाराष्ट्र में कोरोना के मामलों में हुई बढ़ोतरी की वजह से लगी पाबंदी के बाद, राज्य सरकार ने शुक्रवार की रात में नया आदेश जारी करके अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की है.

जिन शहरों या जिलों में पॉजिटिविटी दर पांच फीसदी से कम है और जहां 25 फीसदी से कम ऑक्सीजन बेड इस्तेमाल हो रहे हैं, वे पहले लेवल पर हैं. इसमें कुल 10 जिले शामिल हैं, जिसमें नागपुर, अहमदनगर, चंद्रपुर, जालना शामिल है. जहां पर पॉजिटिविटी दर पांच फीसदी से कम है, लेकिन ऑक्सीजन बेड का उपयोग 25 से 40 फीसदी के बीच हो रहा है, वे दूसरे लेवल पर हैं. इसमें हिंगोली और नंदुरबार जिले शामिल हैं.

पांच से 10 फीसदी पॉजिटिविटी दर और 40 फीसदी से ज़्यादा ऑक्सीजन बेड का जहां इस्तेमाल किया जा रहा है, वे शहर और जिले तीसरे लेवल पर हैं. इसमें मुंबई, ठाणे, नासिक, पालघर, औरंगाबाद जैसे  कुल 15 जिले शामिल हैं. 10 से 20 फीसदी पॉजिटिविटी दर और 60 फीसदी से ज़्यादा ऑक्सीजन  बेड का उपयोग जहां हो रहा है, वे शहर चौथे लेवल पर हैं. इसमें पुणे, सिंधुदुर्ग, कोल्हापुर, रायगढ़ जैसे जिले शामिल हैं. 20 फीसदी से ज़्यादा पॉजिटिविटी दर और 75 फीसदी से ज़्यादा ऑक्सीजन बेड इस्तेमाल करने वाले शहर पांचवे लेवल में आएंगे. इसमें कोई भी ज़िला नहीं है.

जिलों के स्तर पर ही यह  तय किया गया है कि कहां कितनी छूट दी जाएगी. पहले लेवल वाले जिलों को जहां सबसे ज़्यादा छूट मिलेगी, तो पांचवे लेवल वाले जिलों को सबसे कम.

पहले लेवल में आने वाले जिलों में दफ्तर, दुकान, मॉल, थिएटर, होटल, रेस्टोरेंट, जिम, सैलून सब कुछ सामान्य तरीके से चलेंगे. शादियों पर भी कोई पाबंदी नहीं है. दूसरे लेवल में आने वाले जिलों में मॉल, थिएटर, रेस्टोरेंट, जिम, सैलून 50 फीसदी की क्षमता पर चलेंगे.

तीसरे लेवल में आने वाले जिलों में दुकानें केवल चार बजे तक खुल सकती हैं. रेस्टोरेंट भी 50 फीसदी की क्षमता के साथ चार बजे तक खुले रह सकते हैं. मॉल, थिएटर बंद रहेंगे. चौथे लेवल में आने वाले जिलों में अत्यावश्यक दुकानें चार बजे तक खुली रहेंगी, दूसरी सभी दुकानें बंद रहेंगी. मॉल, थिएटर बंद रहेंगे.

 

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...