Friday , July 30 2021
Breaking News
Home / खबर / बिहार में अब होगी आफत की बारिश, वज्रपात के साथ इन जिलों में बाढ़ का भी अलर्ट

बिहार में अब होगी आफत की बारिश, वज्रपात के साथ इन जिलों में बाढ़ का भी अलर्ट

पटना. मौसम विभाग ने बिहार के कुछ हिस्सों में अगले 24 घंटे में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश होने की संभावना व्यक्त की है। इस दौरान एक-दो जगहों पर भारी और एक दो स्थानों पर मध्यम बारिश भी हो सकती है। वहीं, उत्तर पूर्वी बिहार में भारी बारिश की चेतावनी दी है। इस दौरान इस क्षेत्र में गरज के साथ आकाशीय बिजली को लेकर अलर्ट किया गया है।

सुपौल में अधिक हुई बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक, 24 घंटे में सुपौल में सबसे अधिक बीरपुर में 20 CM बारिश रिकॉर्ड की गई है। भोजपुर के बड़हरा में 9 CM बारिश हुई है। सुपौल के ही भीमनगर में 7 CM बारिश हुई है। बक्सर में 6 CM और जलालपुर में 5 CM बारिश दर्ज की गई है। वैशाली में 4 CM बारिश हुई, जबकि घोसी, टेकरी और पटना में 3-3 CM बारिश रिकॉर्ड की गई है।

इसलिए बन रहा बारिश का सिस्टम

मौसम विभाग का कहना है कि समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर तक एक टर्फ रेखा पूर्वी राजस्थान एवं आसपास स्थित है। चक्रवाती परिसंचरण का क्षेत्र भी बना हुआ है, जो पश्चिम असम तक फैला है। इसके परिणाम से राज्य के कुछ भागों में हल्के से मध्यम स्तर की बारिश होगी। वहीं उत्तर-पूर्व एवं दक्षिण मध्य के कई स्थानों पर हल्की से मध्यम स्तर की बारिश की संभावना है। उत्तर पूर्व बिहार के एक या दो स्थानों पर भारी बारिश और शेष भागों में गरज के साथ आकाशीय बिजली को लेकर पूरी तरह से अलर्ट है।

मोतिहारी में बढ़ रहा पानी

पूर्वी चम्पारण के सुगौली व बंजरिया प्रखंड के कई हिस्सों में बाढ़ के पानी फैलने का सिलसिला सोमवार को भी जारी रहा। सुगौली के ग्रामीण इलाकों के कई हिस्सों में बाढ़ का पानी फैल रहा है। नगर पंचायत का वार्ड नंबर एक व 2, दो दिनों से बाढ़ के पानी से घिरा है।

बंजरिया प्रखंड के जटवा जनेरवा सड़क पर बाढ़ का पानी बह रहा है। गंडक व बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में उतार चढ़ाव का क्रम जारी है। इधर, दरभंगा में बागमती और अधवारा समूह की नदियों में पानी बढ़ रहा है, जबकि कमला में जलस्तर घट रहा है। फिलहाल सभी नदियां खतरे के निशान से नीचे हैं।

बेतिया में कम हो रहा जलस्तर

वहीं, पश्चिम चम्पारण में गंडक, सिकरहना समेत अन्य नदियों में जलस्तर कम हो रहा है। सोमवार को वाल्मीकिनगर बराज से गंडक में 81800 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। जलस्तर कम होने के साथ ही नदियों की धार तेज हो गई है। बगहा के शहर के पास नदी ने फिर से कटाव शुरू कर दिया है। इंजीनियरों की टीम कटाव स्थल के पास कैम्प कर रही है।

27 दिनों में सामान्य से अधिक बारिश

27 दिनों में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। मानसून की गतिविधि पूरे बिहार में अभी भी पूरी तरह से सक्रिय है। इस कारण से मौसमी घटना का असर भी पड़ रहा है। एक जून से 27 जून तक सामान्य से अधिक बारिश हुई है। सामान्य बारिश 138% अधिक वर्षा इन 27 दिनों में रिकॉर्ड की गई है। अब तक 27 दिन में 321.6 एमएम बारिश हो चुकी है। पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य में मध्यम वर्षा और एक दो स्थानों पर भारी वर्षा दर्ज की गई है।

loading...

Check Also

कोरोना ने अरमानों पर फेरा पानी : दूल्हा तीन बार निकला संक्रमित, बिना दुल्हन लौटी बारात

पीलीभीत से उत्तराखंड जा रही एक बारात को बगैर दुल्हन के ही बॉर्डर से लौटना ...